Posts tagged ‘Vyakti’

सितम्बर 11, 2011

अपना वजूद तलाशता व्यक्ति

व्यक्ति अपने जीवन की
सारी उर्जा
अपने वजूद को
तलाशने में लगा देता है
परन्तु
जब उसकी ऊर्जा
उससे जुदा होती है तो
न वह ‘वह’ रहता है
और न उसका वह वजूद।

जीवन भर..
वह धन-संपत्ति, जोरू और ज़मीन का
मालिक कहलाने
मालिक के पीछे
बड़े नाम होने की
लड़ाई लड़ता है
इनसे गौरवान्वित होता है
परन्तु उसकी उर्जा चले जाने पर
न वह ‘मालिक’ रहता है
और न उसका नाम।

जीवन भर वह नहीं जान पाता कि
जब वह अपने,
मन, शरीर और आत्मा का ही
मालिक नहीं
वही उसके नियंत्रण में नहीं
तो वह..
और किसका और कैसे
‘मालिक हो सकता है?
और नाम भी फ़िर
जो ‘वह’  के लिए मिला है
‘वह’ न रहने पर, कहाँ रहेगा?

जीवन भर व्यक्ति
यह नहीं जानता कि
वह उस ‘वजूद की
लड़ाई लड़ रहा है
जो उसके पास है
उसको पाना तो वह है
जो उसके पास नहीं है
वह  नहीं जानता कि
उर्जा रुप आत्मा उसके पास है
उसे पाना तो सद्कर्म है
जो उसके पास नहीं
इस तरह
उसका जीवन
जो उसकी उर्जा से है
उसी को न तलाश सकने में
व्यर्थ ही नष्ट होता है
और जो उसके पास नहीं
वह उसे नहीं पा पाता।

और इस तरह वह
जन्म दर जन्म
अपने वजूद को तलाशता हुआ
कष्टों, दुखों और
कुछ ही सुख के
गोल जन्म चक्र में
घूमता है तब तक
जब तक वह
यह नहीं जान पाता कि
कि उसका ‘वजूद’
उसके नाम में नहीं
और न और कहीं है
वह तो उसे केवल
अपने कर्म में तलाशना है!

(अश्विनी रमेश)

जुलाई 1, 2011

व्यक्ति अब तो आत्मसमर्पण करो

व्यक्ति !
तुमने चाहे
कितने ही युद्ध
क्योँ न लडें हों
जीते हों
कितना ही
संघर्ष
आविष्कार
और उन्नति की हो
लेकिन तुम
हमेशा
और
हर बार
हारे हो
अपने ही अहम से।

अपने अहम की
तस्वीर को
अपने अनुकूल न पाकर
तुम इसको
बार बार
बनाने
बिगाड़ने के लिए
अपने ही मन से
करते गए
मित्रता और शत्रुता
तर्क खोजकर
अपनी ही आत्मा को
ढालना चाहा तुमने
अपने अनुकूल।

लेकिन…..
तुम हमेशा
हारे हो
और इस तरह
तुम
न अपने अहम
न मन
और न अंतरात्मा को पा सके
तो फिर तुमने
पाया क्या…

कुछ नहीं
केवल शून्य
इसलिए
सब कुछ भूलकर
शून्य से ही
आरम्भ करो
अपना नवजीवन
मन शून्य होकर
महसूस करो कि
तुम्हारे भीतर
क्या चल रहा है
जो तुम नहीं चला रहे
इसलिए
प्रकृति के समक्ष
कृतज्ञ होकर
कर डालो
आत्मसमर्पण..
और सहजता से
मान लो कि
तुम्हारा असिस्त्व
वही है जो
समुद्र में
एक पानी की
बूँद का है
न इससे अधिक
और न कम।

और जिस पल
तुम ये अहसास कर लोगे
उस पल तुम
जीत जाओगे
और इसी के साथ
तुम्हारे लिए मिट जाएगा
जीत, हार का अर्थ
और तुम केवल
प्रकृति निष्ठ
व्यक्ति होगे!

(अश्विनी रमेश)

%d bloggers like this: