Posts tagged ‘Ushn’

जनवरी 9, 2014

मानिनी हठ-धारिणी

जब बहुत कुछ हो कहने कोsimi-001

और शब्द गले तक भर गए हों

आपाधापी में  कोई बाहर नहीं आ पाता

कुछ बह निकलते हैं आँखों की राह

कुछ रह जाते हैं फंस कर वहीँ

टूटे टूटे कुछ बेतरतीब कुछ कहे

कुछ अनकहे…

कुछ अक्सर दिखने वाले लेकिन समझ के परे

रात के सपने से …

जिनमे मैंने तुम्हे अक्सर देखा है

उद्दीप्त…उष्ण…आवेशित…

प्यार के मौन आमंत्रण लिए अपनी आँखों में

कभी खुद से सकुचाती…

कंचुकी की गाँठ टटोलते…

संभालते…

बार -बार

कभी यौवन भार से झुकी जाती

कभी उन्नत मस्तक रूप गर्विता

कभी स्वयमेव समर्पिता

कभी मानिनी हठ-धारिणी

कुछ वैसे ही जैसे हतप्रभ बिजली गिरने से

न ये समझे कि दिशा कौन जाए हिरनी!

Rajnish sign

Advertisements
नवम्बर 28, 2013

कह तो दूँ …शब्द कहाँ हैं

love story-001दे तो दूँ

अभिव्यक्ति

उन  अहसासों को

प्रथम छुअन के

स्पंदन को

इंतज़ार की

धडकनों को

उष्ण देह की

तपन को

होठों की

लरजन को

ठन्डे बदन की

कम्पन को

पर तुम ही कहो

शब्द कहाँ  से लाऊं?

Rajnish sign

नवम्बर 13, 2013

चांदनी शर्मा के ओट में छिप गई

moonlovers-001रोज यही एक सपना देखता हूँ मैं

जागी अधखुली आँखों से…

श्वेत  चाँदनी  में लिपटी तुम चल रही हो

साथ साथ मेरे…..

मैं थाम लेता हूँ हाथ तुम्हारा हौले से…

महसूस कर सकता हूँ तुम्हारी सिहरन को

सहलाता हूँ तुम्हारी उँगलियों को,

छूता हूँ  पोरों को…

दूर कहीं दूर…निर्जन में

बैठ जाते हैं हम तीनो…

तुम, मैं और तुम्हारे बदन से लिपटी चाँदनी…

बैठे रहते हैं चुपचाप पास-पास

एक दूसरे के सर से सर जोड़े

कभी चेहरा लिए हाथों में

एक दूसरे की आँखों में खोये

सुनते हैं साँसों की मौन भाषा को…

बस खोये से रहते हैं एक दूसरे में

मैं सहलाता रहता हूँ तुम्हारी अनावृत बाहें

और  महसूस करता रहता हूँ तुम में

उठते स्पंदन को

तुम कुछ और  सिमट आती हो नज़दीक मेरे

हमारे बीच की चाँदनी असहज होने लगती है

रहती है पर निशब्द…

कानों की लौ गर्म होने लगी है

किसी तीसरे से बेखबर हम बस एक दूजे में गुम…

साँसों की लय पे उठते गिरते सीने को आँखों में समेटते

एक दूसरे की नज़रों को नज़रों से चूमते

होंठ कांपते हैं मेरे

तुम्हारे भी…

थरथरा रहे हैं दोनों के बदन…

जैसे दे रहे हों  मौन आमंत्रण…

साँसे असंयमित होने लगती है…

और बहुत उष्ण भी

पिघलने लगती है चाँदनी हम दोनों के बीच की

दूर उतर कर खड़ी  हो जाती है तुम्हारे बदन से

रख देता हूँ कांपते होंठ तुम्हारे जलते होंठो पे

चाँदनी शर्मा के किसी ओट में छुप जाती है

तीन से दो होने के लिए

या फिर दो से एक होने के लिए…

रात की चादर के तले…

बस यही एक ख्वाब मैं हर वक़्त देखता रहता हूँ

जागी अधखुली आँखों से

(रजनीश)

%d bloggers like this: