Posts tagged ‘Upbhoktavad’

जुलाई 23, 2011

कल और आज

अब कोई चरवाहा
बाँसुरी की सुरीली तान पर
प्रेम गीत नहीं गाता
और न ही कोयल कूकती
चिड़िया भी बहुत कम चहचहाती है
घर की चहेती गाय
जिसका दूध कई पीढ़ियों तक
अमृत पान की तरह पिया
उसके  ढूध न देने के बाद
उसे बेकार समझकर
सडकों पर आवारा घूमने
धक्के और डंडे खाने के लिए
बेसहारा छोड़ दिया
अब कोई बच्चा भावुकता भरे स्वर में
माँ को
अम्मा कहकर नहीं पुकारता
अब खेत में स्वस्थ लहलहाती फसलें नहीं
कीटनाशकों को पीने वाली
नशीली फ़सलें उगती हैं
गांव में बड़े बूढ़ों की
अब कोई चौपाल नहीं बैठती
जिसमे कभी
सुख दुःख की बातें हुआ करती थीं
अब तो घर में
बूढ़ों को बोझ समझकर
बच्चे भी उनको धक्के मारते हैं
और कुत्ते की तरह
उनको दूर से रोटी फेंकते हैं
और जवान ये सब
मौन होकर देखतें हैं
ये सब देखकर
मेरे मन में
बस रोज यही सवाल
घूमता है कि
ये इन्सानियत की नयी उन्नति है
या फिर
उपभोक्तावाद की लादी हुयी बेबसी
कुछ भी हो
मेरे पास इस प्रश्न का कोई उत्तर नहीं कि
शरीर ढ़ोया जा रहा है
या फिर
जीवन धीरे धीरे बेमौत मर रहा है
यदि उपभोक्तावाद से बेबस व्यक्ति
केवल शरीर ढ़ो रहा है
और चेतना कहीं
अंधकार के गर्त में खो गयी है
तो यही कहना होगा कि
उपभोक्तावाद की इस भयानक आंधी में
यदि तुम चेतना के
दीपक की लौ अपने घर के अंदर भी
जलाए रख सको तो भी
सत्य तुम्हे इस साहस के लिए भी
दुगुनी हिम्मत, ताकत देगा
और तुम यह हिम्मत कर बैठोगे कि
तुम्हे शरीर ढोने वाली
उधार की ज़िंदगी नहीं
बेशक दिन में कुछ पलों के लिए ही सही
मानवीय संवेदना वाली
कुदरत की दी हुई
स्वाभाविक ज़िंदगी जीनी है!

(अश्विनी रमेश)

जून 25, 2011

उपभोक्तावाद को ललकारती कविता का शंखनाद

इससे पहले कि
उपभोक्तावाद
तुम्हे
बहरा
गूंगा
और
अन्धा कर दे
और तुम कुछ
सुन
बोल
और
देख न सको
मैं कर रहा हूँ
उपभोक्तावाद को
ललकारती कविता का
शंखनाद—–
ताकि
इसकी ध्वनि
तुम्हारे
अंतर्मन के
अंतरिक्ष में
हमेशा
गूंजती रहे
और
तुम
एक निर्जीव वस्तु की तरह
एक कोने में पड़े हुए
उपभोक्तावाद के
इस खूंखार तांडव को
चुपचाप
देखते न रह जाओ
इसलिए यह
छटपटाते हुए भी
तुम्हे हमेशा
यह जिन्दा अहसास
करवाती रहे कि
तुम वस्तु के लिए नहीं
वस्तु तुम्हारे लिए है
और
यह अहसास भी कि
तुम अकेले नहीं
मैं सत्य की
ऊँची पताका लिए
इस युद्ध में
तुम्हारे साथ
हमेशा खड़ा हूँ !

© अश्विनी रमेश

%d bloggers like this: