Posts tagged ‘Trees’

अगस्त 9, 2011

बेटी है गर्भ में, गिरायें क्या?

अँधेरे का जश्न मनाएँ क्या
उजालों में मिल जाएँ क्या

अनगिनत पेड़ कट रहे हैं
कहीं एक पौधा लगाएं क्या

आज बेचना है ज़मीर हमें
तो खादी खरीद लाएं क्या

बामुश्किल है पीने को पानी
धोएँ तो बताओ नहाएं क्या

बहु के गर्भ में बेटी है आई
पेट पर छुरी चलवायें क्या

बेबस हैं बिकती मजबूरियाँ
भूखे बदन ज़हर खाएं क्या

अंधा है क़ानून परख लिया
कोई तिजोरी लूट लाएं क्या

रोने को रो लिए बहुत हम
पल दो पल मुस्कराएं क्या

यारों ने दिल की लगी दी है
यारों से दिल लगाएं क्या

सायों का क़द नापेगा कौन
हम भी घट-बढ़ जाएँ क्या

चुप की बात समझ आलम
और हम हाल सुनाएँ क्या

(रफत आलम)

जुलाई 27, 2011

पाब्लो नेरुदा : आज की रात लिख सकता हूँ

आज की रात मैं लिख सकता हूँ
सबसे दुख भरी पंक्तियाँ,
लिख सकता हूँ,
जैसे कि –
आज की रात टूटन भरी है
और दूरस्थ नीले तारों में कम्पन है।
रात की हवा घूम रही है आकाश में
और गा रही है।

आज की रात मैं लिख सकता हूँ
सबसे दुख भरी पंक्तियाँ,
मैंने उसे प्रेम किया था,
और कभी उसने भी मुझसे प्रेम किया था।

आज की रात जैसी ही रातों में
मैंने उसे अपनी बाहोँ में भरा था
मैंने उसे चूमा था बार- बार
इसी अथाह आकाश के नीचे।

उसने भी कभी मुझसे किया था प्रेम
और मैंने भी उसे प्रेम किया था,
कैसे कोई उसकी शांत, गहरी आँखों से
प्रेम न करता?

आज की रात मैं लिख सकता हूँ
सबसे दुख भरी पंक्तियाँ,
यह सोचकर कि
अब वह मेरे साथ नहीं है,
यह महसूस करके कि
मैंने उसे खो दिया है।

इस गहरी रात को सुन कर,
जो कि उसकी अनुपस्थिति में
गहरा गई है और भी ज्यादा,
और काव्यमयी शब्द गिरते हैं
आत्मा पर उसी तरह से
जैसे ओस की बूँदें गिरती हैं घास पर,
इस बात से क्या फर्क पड़ता है कि
मेरा प्यार उसे रोक नहीं पाया।

आज की रात टूटन से भरी है
और वह मेरे साथ नहीं है।

यह सब कुछ है,
दूर कोई गा रहा है,
बहुत दूर,
मेरी आत्मा संतुष्ट नहीं है
कि इसने उसे खो दिया है।

मेरी दृष्टि खोजती है उसे
मानो उसके पास पहुँचना चाहती हो,
मेरी दिल उसकी राह तकता है,
और वह मेरे पास नहीं है।

पुरानी रातों की तरह ही
इस रात की दूधिया रोशनी भी
चमका रही है इन्ही पेड़ों को
पर उस वक्त्त के हम
वही नहीं हैं।


मैं अब उसे प्रेम नहीं करता,
यह निश्चित है,
पर ओह!
मैंने उसे कैसे प्रेम किया था!
मेरी आवाज हवा के उस झौंके को
तलाशती है जो उसे सुनायी देगी।

किसी और की होगी वह।
वह किसी दूसरे की हो जायेगी,
जैसे कि मेरे चुम्बन थे पहले,
उसकी आवाज़,
उसका चमकता बदन,
उसकी अनंत आँखें,
सब हो जायेंगे किसी और के।

मैं अब उसे प्रेम नहीं करता,
इतना निश्चित है,
पर शायद मैं अब भी प्रेम करता हूँ उसे,
प्रेम भले ही कम समय की बात हो,
पर भूल पाना कितने लम्बे काल की बात है,
क्योंकि यद्यपि आज रात जैसी ही
रातों में मैंने किया था उसे
आलिंगनबद्ध,
मेरी आत्मा संतुष्ट नहीं हो पायी है
क्योंकि मैंने उसे खो दिया है,
तब भी यह आखिरी दर्द है
जो वह मुझे दे सकती है
और यह आखिरी कविता है
जो मैं लिख रहा हूँ उसके लिये।

(Pablo Neruda)

हिंदी अनुवाद – …[राकेश]

Pablo Neruda की कविता – Tonight I can write the saddest lines, से अनुवादित

मई 6, 2011

पेड़ों पंछियों बिना सूना जीवन

कभी महसूस कर विकास का विनाश
भारी है धरती पर विकास का विनाश
कटे जंगल और मैला आसमान गवाह
जान पर है ज़हर विकास का विनाश
…..

न हवा की आमद न धूप मयस्सर
जीना कैसा जीना है कॉम्पलेक्सों में
सर छुपाने का ठिकाना कहिये वरना
खाक जिंदगी है कंक्रीट के दड़बों में
…..

कट गए पेड़ चौड़े हुए रास्ते बहुत
कागजों में पौधे भी रोपे गए बहुत
इस विकास यात्रा का मोल न पूछ
कल रुलाएंगे हरियाली के सपने बहुत
…..

पिंजरे में जो हैं उन्हें फिर भी मिल गया दाना
आज़ाद परिदों की भूख-प्यास को किसने जाना
लाखों घोंसले उजड़े हैं खेतों के शहर बनने तक
हर गिरते पेड़ के साथ छिना पंछी का ठिकाना
…..

सास की मौत के बाद बहु ने तिनके नोंच फेंके
कभी घर में हुआ करता था चिड़िया का घोंसला
नए कमरों के बनने में हुई थी आँगन की मौत
बूढ़े पेड़ के साथ मिट गया चिड़िया का घोंसला
…..

दो लीटर पानी और एक मिटटी का बरतन
एक मुट्ठी दाने में है सौ चिड़ियों का जीवन
लुप्त होते घरेलु परिंदों की दुआ भी लीजिए
मालिक बनाये रखे साहब आपका घर-आँगन

(रफत आलम)

Pic: Courtesy Kolkatabirds.com

%d bloggers like this: