Posts tagged ‘Talaash’

जून 4, 2014

अलगाव : सब जान लें इसके बारे में

बजरिये  इश्तेहार womanleavingman-001
ये एलान किया जाता है
अब “हम”,
“मैं” और “वो” हो गए हैं
मेरे और उन के
अलहदा अलहदा
आधे आधे वज़ूद
आवारा फिर रहे हैं
खासो आम को हिदायत है
हमारे बाकी आधे तलाश न करे
जुदाई के तिराहे पे
नये बाज़ार खड़े हो गए हैं
पीछे के रास्ते में बबूल के जंगल उग आये  हैं
Rajnish sign
Advertisements
जनवरी 4, 2014

दिल का जख्मी परिंदा

हर रोज़ एक नया अरमानdev-001

दिल की कोख में जन्मता है..

और शाम होते होते अपने पंख फैलाकर

मंडराने लगता है

मेरे सर पे…

मेरे दिल पे…

मेरे जिस्म पे…

अपने पंजों में दबोच लेता है

ले उड़ चलता है मुझे बेबस करके

हर नए रोज़…

नए नए अरमानो के परिंदे उड़ते है…

फडफडाते हैं…

और हर रोज़

उनके पंजो से नीचे गिरा मैं

उनके टूटे पंखो में

खुद को तलाशता रहता हूँ|

Rajnish sign

दिसम्बर 5, 2013

मुसकराहट का मंत्र

रात ने फिर से पुकारा manmoon-001

खिड़की पर पड़ा पर्दा हल्के से हिला

तारों की रौशनी में यात्रा करते चन्दा ने

झांका खिड़की से भीतर

“हैलो “!

चन्दा मुसकराया,

मैं नहीं!

फिर गुजरी रात –

और रातें गुजरती रहीं…

आज फिर,

रात ने पुकारा

पर्दे ने ज़रा सा सरककर फिर बनाई जगह

चाँद ने फिर झांका

“हैलो”!

“हैलो, आज भी नहीं मुसकराओगे?

सार्थकता की तलाश की राह में

छाती पर पत्थर रखे,

कब तक चलोगे?

देखो-

मैं विश्व घूम आया

बंद कमरों में झाँक-झाँक कर

मुस्कराहट देने का मंत्र लेकर!”

Yugalsign1

सितम्बर 11, 2011

अपना वजूद तलाशता व्यक्ति

व्यक्ति अपने जीवन की
सारी उर्जा
अपने वजूद को
तलाशने में लगा देता है
परन्तु
जब उसकी ऊर्जा
उससे जुदा होती है तो
न वह ‘वह’ रहता है
और न उसका वह वजूद।

जीवन भर..
वह धन-संपत्ति, जोरू और ज़मीन का
मालिक कहलाने
मालिक के पीछे
बड़े नाम होने की
लड़ाई लड़ता है
इनसे गौरवान्वित होता है
परन्तु उसकी उर्जा चले जाने पर
न वह ‘मालिक’ रहता है
और न उसका नाम।

जीवन भर वह नहीं जान पाता कि
जब वह अपने,
मन, शरीर और आत्मा का ही
मालिक नहीं
वही उसके नियंत्रण में नहीं
तो वह..
और किसका और कैसे
‘मालिक हो सकता है?
और नाम भी फ़िर
जो ‘वह’  के लिए मिला है
‘वह’ न रहने पर, कहाँ रहेगा?

जीवन भर व्यक्ति
यह नहीं जानता कि
वह उस ‘वजूद की
लड़ाई लड़ रहा है
जो उसके पास है
उसको पाना तो वह है
जो उसके पास नहीं है
वह  नहीं जानता कि
उर्जा रुप आत्मा उसके पास है
उसे पाना तो सद्कर्म है
जो उसके पास नहीं
इस तरह
उसका जीवन
जो उसकी उर्जा से है
उसी को न तलाश सकने में
व्यर्थ ही नष्ट होता है
और जो उसके पास नहीं
वह उसे नहीं पा पाता।

और इस तरह वह
जन्म दर जन्म
अपने वजूद को तलाशता हुआ
कष्टों, दुखों और
कुछ ही सुख के
गोल जन्म चक्र में
घूमता है तब तक
जब तक वह
यह नहीं जान पाता कि
कि उसका ‘वजूद’
उसके नाम में नहीं
और न और कहीं है
वह तो उसे केवल
अपने कर्म में तलाशना है!

(अश्विनी रमेश)

सितम्बर 9, 2011

स्वयं से मुलाक़ात

माना तुम
उसका हिस्सा हो
लेकिन भीड़ के पास
देने के लिए
शोर के सिवा कुछ नहीं।

तुम्हे अगर गीत की है तलाश
अपने भीतर की नीरवता से गुजरो
खुद से लय मिला सके तो अच्छा
अन्यथा कोई बात नहीं
यूँ भी किसे नसीब होती है
स्वयं से मुलाक़ात!

(रफत आलम)

%d bloggers like this: