Posts tagged ‘Syahi’

जुलाई 24, 2017

बौनों की दुनिया …

 

हम सब बौने हैं,

मन से, मस्तिष्क से भी,

बुद्धि से, विवेक से भी,

क्योंकि हम जन हैं

साधारण हैं

नहीं हैं विशिष्ट

— क्योंकि हर ज़माना ही

चाहता है बौने रहें

वरना मिलेंगें कहाँ

वक्ता को श्रोता

नेता को पिछलगुए

बुद्धिजनों को पाठक

आंदोलनों को भीड़

धर्मों को भक्त

संप्रदायों को अतिमन्द

राज्यों को क्लर्क

कारखानों को मजदूर

तोपों को भोजन

पार्टी-बॉसों को यसमैन

राजाओं को गुलाम

डिक्टेटरों को अंधे

डिमोक्रेसी को मीडियोकर

मतवादों को बुद्धू

यूथ-वादों को सांचे ढले आदमी

हम सब उन्ही के लिए

युग-युग से जीते हैं

क्रीतदास हैं हम

इतिहास-वसन सीते हैं

इतिहास उनका है

हम सब तो स्याही हैं

विजय सभी उनकी

हम घायल सिपाही हैं

हमको हमेशा ही

घायल भी रहना

सिपाही भी रहना है

दैत्यों के काम निभा

बौने ही रहना है|

 

(गिरिजाकुमार माथुर)

 

नवम्बर 25, 2013

मेरे सपनो की ताबीर

एक ख़याल पे मुहर धर दीwoman-001

कल रात ने,

मेरी सुबह ओ’ शाम-

बस जैसे तुम्हारा जगना, सोना

तुम्हारी सुबह-

मेरी तमन्नाओं का जगना

तुम्हारी रात-

मेरे ख्वाबों को पर लगना

लेकिन कल

स्याही गहरी हुयी

एक और हकीकत की भी –

न तुम थीं,

न तुम हो,

न तुम होगी,

मेरे लिए

मेरी,

मेरे सपनो की ताबीर कभी…

अक्सर मैं तुम्हारी

बेजारी पढता हूँ…

तुम ढँक नहीं पाती

झल्लाहट,

खिजलाहट…

तुम न चाहो तो भी

लफ्ज़

कोई न कोई

कर ही जाता है

इन्हें बयाँ…

Rajnish sign

%d bloggers like this: