Posts tagged ‘Stree’

जुलाई 11, 2016

नारी … (महात्मा गाँधी)

“नारी” पुरुष की सहचर है, सहगामी है, संगी है, साथी है, और उसकी क्षमताएं किसी भी मायने में पुरुष से कमतर नहीं हैं|

नारी के पास पुरुष की गतिविधियों की बारीकियों में सम्मिलित होने का अधिकार है, और उसके पास, जैसे पुरुष के पास स्त्री के प्रति है, पुरुष जैसी ही स्वतंत्रता और छूट है|

सेवा और त्याग की आत्मा के जीते जागते उदाहरण के रूप में मैंने नारी को पूजा है|

प्रकृति ने जैसे नारी को स्वहित से परे की सेवा की आत्मिक शक्ति से नारी को परिपूर्ण किया है, उस शक्ति की बराबरी पुरुष कभी भी नहीं कर सकता|”

अप्रैल 20, 2013

दिल्ली है सांडों की, बलात्कारियों की!

ये दिल्ली है!
भारत देश की राजधानी|

यहाँ रहते हैं
प्रधानमंत्री से लेकर तमाम केन्द्रीय मंत्री,
तमाम बड़े बड़े नेता
यहाँ रहते हैं देश के प्रथम नागरिक|

कहा जाता रहा है –
– दिल्ली है दिल वालों की –
ज़रा सामने तो आओ और कहो कि –
दिल्ली है दिल वालों की?

नहीं हुजूर!
दिल्ली दिल वालों की नहीं हो सकती!
दिल्ली तो है अब सांडों की!
कामुक जानवरों की!
जो देश के कोने कोने
से यहाँ आकर,
अपने विकृत दिमाग को लाकर
नारी से बलात्कार करने में मशगूल हैं|

ये बलात्कारी सांड
अपने मनोविज्ञान में
किसी नारी से कोई भेद भाव नहीं करते
इनके लिए
स्त्री चाहे एक साल से छोटी शिशु हो
या साठ से ऊपर की वृद्धा
सब बलात्कार के योग्य हैं|

ये मानसिक रोगी
हरेक उम्र की,
हरेक रंग रूप की,
नारी को रौंदने का
बीडा उठाये
घूम रहे हैं
दिल्ली की गलियों में
दिल्ली के कूचों में
ये वही गलियाँ हैं
जिनमें से किन्ही में
ग़ालिब जैसी आत्माएं घूमा करती थीं
और आज कामुक सांड घुमा करते हैं|

ये जानवर घरों में,
बसों में,
कारों में
लगभग हरेक जगह
नारी को शिकार बनाते
घूम रहे हैं
और जिन्हें सडकों पर
नारी को सुरक्षा देने के लिए
घूमना चाहिए
वे वर्दी वाले
नारियों पर ही लात-घूसे-लाठी और गालियों
की बौछार कर रहे हैं|

हवा में हर तरफ
दहशत है
बच्चियों की चीख पुकार है
ये नेता, सत्ता और विपक्ष के,
ये हाकिम,
ये वर्दी वाले,
ये सोते कैसे हैं?
ये किस चक्की का पिसा
आटा खाते हैं
जो इन्हें नींद आ जाती है?

इनमें कुछ ऐसे भी हैं
जो ऐसे हर मामले के बाद
संवाद बोलने लगते हैं
कि वे पिता हैं
दो-दो, तीन-तीन बेटियों के
अतः वे स्त्री के दुख को समझते हैं भली भांति|

क़ानून उनके हाथ में है
नये क़ानून बनाना उनके हाथ में है
क़ानून का पालन करवाना उनकी जिम्मेदारी है
पर दिल्ली है कि
भरी पडी है बलात्कारियों से|

कुछ बलात्कारी नेता हैं
कुछ बलात्कारी नेताओं के बेटे, या नाते रिश्तेदार
कुछ बड़े अफसरों के बेटे
कुछ छोटे अफसरों के बेटे
कुछ बिना लाग लपेट के
सीधे सीधे गुंडे हैं
या गुंडों के बेटे हैं
ये सब बलात्कारी
बहुत शक्तिशाली हैं
इन्हें किसी भी हालत में बलात्कार करना ही करना है
क़ानून इनके नौकर की तरह काम करता है|

अगर इन सबके रहते
दिल्ली अब भी दिल वालों की है
तो नारी क्या करे?
दुनिया तो छोड़ नहीं सकती
तो क्या दिल्ली छोड़ दे?

 

जुलाई 18, 2011

दहशत

आजकल मै डरा हुआ हूँ
यह एक रचनाकार का डर है
शब्द ही नहीं मिलते मुझे कि
लिखूँ
विज्ञापन में नंगी देह दिखाती युवती की
विशेषतायें क्या हैं।
उसकी वाइटल स्टेटिस्टिक्स मुझे किस तरह
लुभाती है
कि मैं दो बच्चों का बाप,
और बच्चे भी बड़े हो गये हैं
किस तरह महसूसता हूँ ऐसे पलों को।

सुगंधित साबुन से नहाती युवती की
महकती देह
सुडौल गोल और चिकनी जाँघों को
सहलाना चाहता हूँ,
स्क्रीन पर ही सही
तो क्या यह पाप है?

मुझे औरत की छातियाँ और गोलाइयाँ
खींचती हैं अपनी ओर
उनके आधे-अधनंगे ब्लॉउजों में
जहाँतक झाँक सकता हूँ
डाल देता हूँ आँखें
दिखते सौन्दर्य को न देखना
उसका अपमान है।

सौन्दर्य भी तो वस्तु नहीं
आँखों में होता है
न देखूँ तो
आँखों का होना बेकार है।

मगर पूछना चाहता हूँ कि
इन ब्लॉउजों की डिजाइन
किसने की है?
जिसने की है
उसका मकसद क्या है?
और पहनने वालियाँ क्या
पाना चाहती हैं?

एक कॉम्प्लीमेंट कि
यू आर ब्यूटीफुल…
लुकिंग गॉर्जियस…
स्टनिंग…?
यकीन मानिये
बहुत सी महिलायें
इन्ही आधे-अधूरे वाक्यों से
हो जाती हैं
लहालोट।

फिर जो कुछ होता है
उसी को लिखना चाहता हूँ मैं
मगर मुझे शब्द नहीं मिलते है
क्योंकि,
बाद की स्थितियों को
गंदगी उपजाने वाला यह लिथड़ा समाज
अश्लील कहता है।

घुटनों को मोड़कर
एड़ियों पर नितम्बों को टिकाए
बैठी जवान औरतों को
घूरने वाले
लपलपाती जीभ निकाले मर्दों को
जब देखता हूँ,
उन्ही में से मैं भी हूँ,
तो डर जाता हूँ
कि
एक दिन जब सारी गोलाइयाँ
लटककर झूल जायेंगी
हड्डियों से प्यार करता माँस
चिचुककर लटक जायेगा
तब वह कितनी खूबसूरत लगेगी
तब कितना खूबसूरत दिखूँगा मैं?

यह एक ऐसी दहशत है
जो जवान और सुंदर दिखती औरत को
मेरी नज़रों में एक पल में
अचानक बियावान और बदसूरत
बना देती है।

औरत, समाज और अपने बारे में
जो मैं कहना चाहता हूँ
लिखना चाहता हूँ
उसके लिये जितने शब्दों का प्रयोग करुँगा
वे सभी शब्द आज की भाषा में
असंसदीय हैं।

मैं डरा हुआ हूँ
शब्दों के प्रयोग से
कि कहीं माफी न माँगनी पड़े
आवारा ताकतों से
मैं गालियाँ देना चाहता हूँ सबको
मगर मुझे शब्द नहीं मिलते।

{कृष्ण बिहारी}

जून 23, 2011

प्रेमानुभूति

स्त्री हो या पुरुष
प्रेम में होते ही
उन्हे रुबरु होना
पड़ता है
दुख के।

प्रेम दुख
लाता ही लाता है,
गहन प्रेम
गहरा दुख!

प्रेम परिवर्तित करता ही करता है
मानव को
और खुद के सिवा
और दुख भी
मानव में आंतरिक
परिवर्तन लाने
का एक मुख्य औजार है
प्रेम के लिये।

दुख रुपी छैनी-हथौड़े से
प्रेम
मानव मन को एक सुगढ़ रुप
देता है
उसकी साज-सज्जा करता है,
दुख रुपी जल से
उसके अंतर्मन का शोधन करता है।
मानव जीवन के
आरंभ से ही
इतिहास बनता आया हैसभी जानते हैं
समझते हैं
कि
प्रेम
दुख में भी ले जाता है
पर तब भी मानव
प्रेम में होने को उत्सुक
रहता है
क्योंकि
प्रेम
मानव के जीवन में
घटित होने वाली
सर्वोत्तम अनुभूति है।

…[राकेश]

मार्च 4, 2011

दोमुँहे…

मैं चूमता हूँ हवाएं
देखता हूँ सितारे
पूजता हूँ सागर
सहेजता हूँ नदियां
सहलाता हूँ लहरें
छूता हूँ मिट्टी
बनाता हूँ सोना
मुझे कोई कुछ नहीं कहता।

लेकिन-
जब देखता हूँ औरत
लिखता हूँ उसके बारे में
तो लोग भूल जाते हैं
अपनी आँखें
बन जाते हैं जबान
मुझे पोर्नोग्राफर और
मेरी रचनाओं को
कहते हैं अश्लील,
चाहते हैं हो जाऊँ
दोमुँहा उनकी तरह
और बकूँ बकवास।

मैं पूछता हूँ
हुजूर!
आप ईश्वर से क्यों नहीं पूछते
लगाते तोहमत
कि दो एक से इंसानों की तकदीर
उसने क्यों पलट दी है
धरती के एक हिस्से को चमन
तो दूसरे को
बनाया क्यों है रेगिस्तान
कहीं बर्फ की चादर
कहीं पर आग की बारिश
कहीं पर टॉरनेडो।
सुबह और शाम के फासले में
जो बदल देता है दुनिया
उसके खिलवाड़ को आप कहते हैं
करिश्मा।

और-
मैं जो सोचता हूँ
कहता हूँ
लिखता हूँ
उसे ईमानदारी से पढ़ने
या सुनने के बाद
चोरी से कहते हैं आप
बहुत घटिया है तुम्हारी सोच
केवल गलाज़त देखते हो
अपना कचरा दूसरों पर फेंकते हो।

हुजूर!
माफ करें मुझे
मुझमें बहती नहीं है गंगा
छटपटाती है वैतरणी
डूबना चाहेंगे?
तो हकीकत में डूबिये
मगर खुदा की कसम
झूठ मत बोलिये
एक बार तो ईमान से कहें
अपनी संतति के लिये
कि दोमुँहे नहीं हैं आप
शायद, बदल जाये यह दुनिया।

मेरे लिये मुश्किल है
बदलना
मैं कर सकता हूँ कोशिश
चलने की जमाने के साथ
मगर हो नहीं सकता हूबहू उस जैसा।

हाँ, उसे लिख सकता हूँ
ईमानदारी के साथ
आप जैसों के लिये
जो गालियाँ बकें मुझे
ताज़िंदगी ऊपर से
और मुझें पढ़ें भीतर से।

{कृष्ण बिहारी}

 

[चित्र : राजा रवि वर्मा]

%d bloggers like this: