Posts tagged ‘Samandar’

दिसम्बर 15, 2013

कौन समझेगा तेरे सिवा?

इस घर की हरेक दीवार पे home-001

तेरी ही उँगलियों के निशां चस्पा हैं

हरेक ईंट में सिहरन है अभी भी

तेरे छूने की…

तेरी ही रिहायश से मकां घर हुआ

दिल तो वैसे मेरा

कुछ क़तरा खूँ ‘औ

कुछ वज़न ग़ोश्त

ही ठहरा

तेरे रहने फकत ने इसे इस काबिल किया

कायनात समेटे फिरता हूँ मैं

कई तूफ़ान

कई समंदर

कई साहिल

बस एक तेरे रहने से

कौन समझेगा तेरे सिवा?

Rajnish sign

सितम्बर 23, 2011

बूँद और समंदर

 

जिंदगी गुजारनी थी सो गुज़र की है
ये न पूछो किस तरह से बसर की है

घायल हैं सभी पर बताता नहीं कोई
पत्थरों को तलाश किसके सर की है

छप्पर जले तो महल भी नहीं बचेंगे
आग कब देखती है हवा किधर की है

रिश्तों की मौत पर अब रोता है कौन
हर आँगन के बीच दीवार घर की है

चूड़ियों के टकराव से टूटे हैं भाईचारे
बर्तनों की खनक तो रौनक घर की है

जिधर देखा, हैं आँसू आहें और कराहें
हम कैसे कहें ये दुनिया पत्थर की है

जहाँ पर शुरू, वहीं आखिर है आलम
बूँद से है समंदर तो बूँद समंदर की है

(रफत आलम)

सितम्बर 19, 2011

तुम बताओ साँस थम न जायेगी

काली रात के काले अंधेरे में
तुम्हारे रुप का उजला उजाला
जब भी मेरे सामने होगा कभी
तुम बताओ नींद कैसे आयेगी!

मृगनयनी तुम्हारी आँख का दर्पण
कोटरों में कैद करके यदि तुम्हे
केवल तुम्हारी प्यास दिखलाये
तुम बताओ प्यास बढ़ न जायेगी!

सोई धूप के नीले समंदर में
धुली कविता-सा तुम्हारा विम्ब तैरे
और लहरों पर मचल जाये अगर
तुम बताओ लहर क्यों न गायेगी?

मेरे हृदय के हर खुले आकाश पर
सोना तुम्हारे रंग का सौदामिनी
पिघलकर शर्म से कभी पागल बने
तुम बताओ साँस थम न जायेगी!

{कृष्ण बिहारी}

%d bloggers like this: