Posts tagged ‘Raghuveer Sahay’

जून 5, 2013

अधूरे काम…मरने से रहे (रघुवीर सहाय)

या तो हिन्दुस्तानी कुछ मामलों में भोले होते हैं या अति चालाक| जीवन भर जिसे शातिर और निकम्मा, एक नंबर का आलसी, हमेशा अपना हित देखने वाला, मानते रहते हैं उसके मरते ही उसकी शान में कसीदे कढने शुरू कर देते हैं और ऐसा लगने लगता है कि मानों हाल ही में मृत आदमी से महान कोई अन्य व्यक्ति मुश्किल से ही धरती पर निकट के वर्षों में जन्मा होगा| नेताओं में तो यह बीमारी बहुत ज्यादा पाई जाती है| कवि रघुवीर सहाय ने दलीय राजनीति का भी स्वाद कुछ बरस चखा (आपातकाल के आसपास और उस दौरान) पर कवि की दृष्टि तो वे राजनीति में जाकर भी छोड़ न पाए होंगे| उनकी एक कविता मनुष्य की इसी दोगली बात को नग्न करती है|

दो बातें मरने पर कहते हैं

-वह अमर रहे

और

-उसे बहुत कुछ करना था|

किसी को भी लो और मार दो

और यह पाओगे

कि उसे बहुत काम करना था|

पर कौन जानता है कि

वह उन्हें क्यों नहीं कर रहा था

काम जो हम चाहते हैं करें,

पर स्थगित करते रहते हैं

बर्बर लोगों की तरह कर नहीं डालते

ऐसे अधूरे काम

जिनकी याद मरने का बाद आती है

कौन जानता है

क्यों अच्छी तरह सोचे भी नहीं गये|

(रघुवीर सहाय)

फ़रवरी 12, 2011

खुश तो बहुत होगे आज इजिप्ट : रघुवीर सहाय

ऐसा हो जाता है कि लोग अपने आप को खुदा समझने लगते हैं और ऐसी गलतफहमी पाल बैठते हैं कि देश का भला केवल वे ही कर सकते हैं और जो उनके साथ नहीं हैं वे देश के दुश्मन हैं। ऐसे व्यक्त्ति भारत में भी हैं। और ऐसी संस्थायें भी भारत में भी हैं जो देशभक्त्ति पर अपना एकाधिकार समझती हैं और समझती हैं कि जो उनके तौर तरीकों का समर्थन नहीं करते वे भारतीय तो हैं ही नहीं बल्कि देशद्रोही हैं।

ऐसे नेता होते हैं जो सत्ता की शक्त्ति तो जनहित की लुभावनी बातें करके पाते हैं पर सत्ता की बागडोर पाने के बाद वे एकाधिकार प्राप्त करने की साजिश करते हैं और निरंकुशता की ओर बढ़ते जाते हैं। दुनिया का हर ऐशो आराम उन्हे मिल जाता है पर धीरे धीरे वे जनता से मिलने वाले सबसे जरुरी भाव खोते जाते हैं। जनता में उनके प्रति विश्वास और सम्मान खो जाता है और वे सिर्फ और सिर्फ सत्ता की निरंकुश शक्त्ति की बदौलत देश के शाषक बने रहते हैं।

भारत के पूर्व प्रधानमंत्री श्री वी. पी. सिंह ने सत्ता से चिपकने वाले नेताओं की ऐसी चिपकू प्रवृत्ति की तरफ इशारा करते हुये एक बड़ी अच्छी कविता लिखी थी।

उसने उसकी गली नहीं छोड़ी
अब भी वहीं चिपका है
फटे इश्तेहार की तरह
अच्छा हुआ मैं पहले
निकल आया
नहीं तो मेरा भी वही हाल होता।

एक वक्त्त आता है जब नेताओं को खुद ही नेतागिरी का भ्रम तोड़ देना चाहिये और सत्ता की राजनीति से दूर हट जाना चाहिये ताकि भरपूर ऊर्जा और नये विचारों एवम ताजगी से भरी नेतृत्व क्षमता आकर लोगों को नेतृत्व दे सके और भविष्य के समय का निर्माण कर सके।

होस्नी मुबारक सत्ता के गलियारे से खदेड़ दिये गये और अपनी भद पिटवा कर वे बाकी का जीवन एक कलंकित शाषक के रुप में जियेंगे।

परिवर्तन कुछ अच्छा ही लेकर आयेगा। रुके पानी के सड़ने से उत्पन्न दुर्गंध में कुछ कमी आयेगी। इजिप्ट कुछ आगे की ओर बढ़ेगा।

मुबारक की विदाई मुबारक साबित हो इजिप्ट के लिये।

कल तक जो जनता सड़कों पर संघर्ष कर रही थी। मुबारक की पुलिस की ज्यादतियाँ सहन कर रही थी आज वही जनता विजेता बनकर उन्ही सड़कों पर नाच रही है, जश्न मना रही है।

जीवन में आने वाले ऐसे ही मौकों के लिये ही तो रघुवीर सहाय ने एक बेशकीमती कविता की रचना की थी। उनकी कविता जीवन के पुनर्निमाण का उत्सव मनाती है।

आज फिर शुरु हुआ जीवन
आज मैंने एक छोटी सी सरल सी कविता पढ़ी
आज मैंने सूरज को डूबते देर तक देखा
जी भर आज मैंने शीतल जल से स्नान किया
आज एक छोटी सी बच्ची आयी
किलक मेरे कंधे चढ़ी
आज मैंने आदि से अंत तक
एक पूरा गान किया
आज फिर जीवन शुरु हुआ।

पुनश्च : चित्र स्त्रोत – totallycoolpix.com

जुलाई 29, 2010

अधिनायक… खोजते हैं रघुवीर सहाय

राष्ट्रगीत में भला कौन वह
भारत भाग्य विधाता है
फटा सुथन्ना पहने जिसका
गुन हरचरना गाता है।

मखमल टमटम बल्लम तुरही
पगड़ी छत्र चँवर के साथ
तोप छुड़ाकर ढ़ोल बजा कर
जय-जय कौन कराता है?

पूरब पश्चिम से आते हैं
नंगे-बूचे नरकंकाल
सिंहासन पर बैठा, उनके
तमगे कौन लगाता है?

कौन-कौन है वह जन-गण-मन
अधिनायक वह महाबली
डरा हुआ मन बेमन जिसका
बाजा रोज बजाता है।

रघुवीर सहाय

%d bloggers like this: