Posts tagged ‘Rafat Alam’

जुलाई 22, 2011

मौसम

रिमझिम मौसम में
हरी दूब पर
नंगे पाँव चलाना सुहाता है,
बे-एतबार फुहारों में
अक्सर खिलते हैं
रिश्तों के मासूम फूल,
सर्द रूत जमाने लगती है
गुलाबों की पंखडियों पर ओस,
बर्फ होते दिलों के
अजनबी बनते एहसास
बेरुखी के लिहाफ में
करवटें बदल कर सो जाते हैं।

बल खाती नदियों की जवानी
सोख लेती हैं बेदर्द गर्मियां,
जज़्बात की जलन में
चिता होते देखे रेश्मी आँचल
और चौड़े-चकले फौलादी सीने,
संबंधों के सूखे तीरों के बीच
समय का चिरस्थाई समुद्र
बचा रह जाता है.
सूनी आँख से रिसता
मौसमों के बदलाव में।

(रफत आलम)

जुलाई 14, 2011

लहूलुहान हैं फिर मुम्बई, देश और इंसानियत

मुझे बहुत गुस्सा आ रहा है
परन्तु
प्लेट-ग्लास-बर्तन तोड़ने के सिवा
क्या कर सकता हूँ?

मुझे बहुत गुस्सा आ रहा है
उस बेईमान-लचर और नपुंसक व्यवस्था पर
जिसे
हमारे क्षत-विक्षत अंगों में धँसे
बोल्ट और छर्रे नज़र नहीं आते
ना सुने जाते है
कायर बमों के धमाके
हर बार दुश्मन को अंतिम चेतावनी देकर
मंत्री- कारिंदे– चाटूकार सब
घोटालों की नींद में सो जाते हैं।

मुझे बहुत गुस्सा आ रहा है
क्यों नहीं मुझे लावारिस
थैले-पैकेट नज़र नहीं आते
सुरक्षा के मुहाफिज़ तो
ए.के-47 की जगह
लाठियां हाथों में लिए
चरस–स्मैक और दारु के ठिकानों से
हफ्ता वसूली में लगे हैं
या मोटी तोंदों वाले सफेदपोशों की
हिफाज़त कर रहे हैं।

मुझे बहुत गुस्सा आ रहा है
पर क्या करूँ?
…क्या करूँ?
सर झुकाने के सिवा…!
………….

लहूलुहान फिर शहर है क्या किया जाए
खोट अपने ही भीतर है क्या किया जाए
बस हम ही नहीं हैं खुद निगेहबान अपने
अदू की हम पे नज़र है क्या किया जाए

अदू ==दुश्मन

(रफत आलम)

जुलाई 13, 2011

दिल की लगी

फ़िक्र बहुत थी हमें दुनिया जहान की
सर पे गिरी छत अपने ही मकान की

दिल से दुआ हो हर एक मेहमान की
अल्लाह इज़्ज़त रखे मेरे मेज़बान की

किसी ने कुत्तों में खोजी वफ़ा की बू
वो समझ गया था फितरत इंसान की

कौन समझा दिल की कतरनों का दर्द
लोग तो कैंचियाँ चला गए ज़बान की

रिश्ते बहुत थे मगर कौन से रिश्ते थे
हमने जिनके वास्ते दुनिया वीरान की

मुस्कानों का बहरूप धरे अपनी काया
असल में बस्ती है जंगल बयाबान की

गुलशन के उजड़ने में किसका है दोष
मौसम का फरेब के भूल बागबान की

दीवाने तो तिरछी चितवन पे मर मिटे
ज़रूरत कहाँ पड़ी प्यारे, तीर-कमान की

सर इबादत से उठे ही कब दीवानों के
सजदों को ज़रूरत कहाँ थी अज़ान की

यूँ तो ज़मीन माटी का गोला है मगर
उठाए फिर रही है बुलंदी आसमान की

हमने कब कहा ये है गज़ल ऐ आलम
है दिल की लगी जो दिल ने बयान की

(रफत आलम)

जुलाई 9, 2011

तुम्हारे बिना – अंधेरा जीवन

शाम ढ़ले बाद
कई बार
होश के सभी रास्ते
चल पड़ते हैं
खुद्फ़रामोशी के अँधेरे की तरफ़।

जिस्म का जलता हुआ जुनून
भटका देता है
चाहत की रुपहली मरीचिका में
प्यास कुछ देर को मर जाती है
मगर
मेरी खोई हुई दोस्त!
जिस्म के सियाह तकाजे भी
शायद तुम्हे भुला नहीं पाते
हवस की राह में गुमनाम हमसफर
अक्सर पूछ बैठते हैं
ये अभी…
आपने किसका नाम लिया था?

(रफत आलम)

जुलाई 9, 2011

तुम्हारे बिना : सूना जीवन

हवस के अँधेरे में
मचलते हुए जिस्म
आग से भर जाते हैं
नस-नस जल उठती है
होश-ओ-हवास के परे
ना दिल ना दिमाग
कुछ भी तो
बाकी नहीं बचता।

फिर एक बार
अंगों का अभिशिप्त कंपन
चंद पल साँसों का तूफ़ान
पसीने की सड़न के साथ
तुम्हारे प्यार की खुशबु
लौटा लाता है,
सुला देता है नम आँखों को।

मेरी खो गयी दोस्त!

यूँ ही कट जाती है
किसी अजनबी बिस्तर पर
एक और ज़ख़्मी रात।

(रफत आलम)

जुलाई 7, 2011

कहीं मकान बनाएँ क्या?

तकदीर की तह में उतर जाएँ क्या,
घर जलाके रौशनी को मनायें क्या?

होंटों पर ताले लगे हैं सुनायें क्या,
छुरी तले हैं ज़बाने तो गायें क्या?

बेकसी बता हद से गुजर जाएँ क्या,
जिंदगी के मारे हैं ज़हर खाएं क्या?

वहाँ भी कहीं मौत खड़ी मिलनी है,
जिंदगी तेरे रास्ते पर आयें क्या?

किस्मत कौन सी अपने हाथ में है,
किस्मत के मिले पर पछताएं क्या?

आज तो ज़रा भी दिल में नहीं दर्द,
किसी दोस्त को गले से लगाएं क्या?

कोई तो सूरत हो दिल बहलाने की
जिंदगी बता ताज़ा फरेब खाएं क्या?

हमने सरों पर छतें गिरती देखी हैं,
सोचते हैं कहीं मकान बनाएँ क्या?

(रफत आलम)

जून 13, 2011

अमर गान कैसे हो?

सागर किनारे पहुंचा मैं!

लहरें गा रही थी
अथाह गहराई में बैठा
गुनगुना रहा था कोई
वही अमर गीत
जिसकी मुझे तलाश थी।

चमन की राह से गुज़रा मैं!

फूलों का दिल बन कर
खुशबूओं में फैला रहा था कोई
वही अमर गीत
जिसकी मुझे तलाश थी।

आकाश को तकने लगा मैं !

तारों की महफ़िल में
चांदनी को सुना रहा था कोई
वही अमर गीत
जिसकी मुझे तलाश थी।

वही अमर गीत!
रुमी-तुलसी की ज़बान में है
कबीर-नानक के बयान में है
सूर–मीरा के भक्तिभाव में डूबा
राधा-किशन के बखान में है।
मासूमियत का अहसास बन कर
बच्चे की कोमल मुस्कान में है
प्रीत की कसोटी बनकर
लैला-मजनू की दास्तान में है
इश्क की बुलंदिया छूता हुआ
खुसरो ओ रसखान में है
ग़ालिब–निराला की भाषा बन कर
कविता की आन-बान में है
मंजिलों का पता देता
पक्षियों की उड़ान में है।

खय्याम से मस्ती में गवा रहा है कोई!
प्यारे, तू किराए के मकान में है।

जिस्म में रूह फूंकने वाले ने
मेरे शब्दों को शान नहीं बख्शी
कवि का दिल दे तो दिया
कलम को जान नहीं बख्शी

वह अमर गीत कैसे गाता मैं?

(रफत आलम)

जून 2, 2011

वक्त्त की किताब

लंबा इतिहास रहा है
क्रंदन और रुदन का
आदमी का आदमी द्वारा बेइंतेहा शोषण
बलवान की कमज़ोर पर बरतरी
वही जुल्मों सितम का निजाम है जो के था
अभी भी जारी है सफर घसीटी जाती
लहू में सनी अनगिनत गुमनाम लाशों का
जो बेसबूत फूँक दी जाती हैं
नए नास्तियों के गैस चैम्बरों में
या शार्कों के हवाले कर दी जाती हैं
अभी भी उड़ रहे हैं मीलों ऊपर फौलादी बाज़
जिनके पंजों में सिमटी हज़ारो टन बारुद
जाने किन खलिहानों को स्वाह करने वाली है
जाने कितनी बस्तियां जिंदा जलाई जानी हैं
चाँद के गले में फंदा फ़ेंक कर
सारी रोशनी आपने घर ले जाने कि तैयारी है
नीव रखी जा चुकी है न्यू वर्ल्ड आर्डर की
अभी कहाँ बुझी है अँधेरे पिशाचों की विकराल प्यास
जिसे सदा से
बेगुनाहों का उजला सुर्ख खून चाहिए होता है
आदमियत का वही बेरहम कातिल
इन्साफ की मूरत बना बैठा है

आज़ादी के बहाने
रेड इंडियनों का शिकार कर
हिरोशिमा-नागासाकी से चलता हुआ
थियेनमान चौक पर दम लेकर
ईराक, अफगानिस्तान और फिलिस्तीन तक
आदमियत को रौंदने के बाद
टयूनेशिया-लीबिया की तरफ
बढ़ गया है “चंगेजों” का कारवाँ
खूनी अध्याय जुड़ते जा रहे हैं
वक्त की किताब में।

दरअसल इन्साफ!
ताकत का बड़ा मजाक है
कमज़ोर के अस्तित्व के साथ
एक कारगर औजार है
जिसके सहारे
आसानी से शोषण होता है
बदनसीब सर्वहाराओं का
वे सपने दिखा कर
जिनकी वास्तविकता
पिंजरे में कैद पंछियों की
उड़ान के ख्यालों के सिवा कुछ नहीं

काश!
मुक्त हो कभी इंसानियत
सरहदों और हुक्मरानों की कैद से
धरती वही स्वर्ग हो जाए
जो कभी थी
नीले आकाश की तरफ
उड़ाने भरें
आज़ाद उमंगें और परिंदे।

कवि महोदय अभी तुमको
अनगिनत अध्याय हैं पढने
ज़ुल्म की काली किताब के,
सदियों की उदासी ठहरा कर
अनगिनत रुला देने वाले गीत रचने हैं।

(रफत आलम)

मई 24, 2011

चींटियाँ

देखता हूँ चीटियों को
पग तले आकर कुचले जाते
या किसी बेख्याल पान की पीक में
दबते हुए।

अकाल मृत्यु का सत्य
सबके साथ है
यूँ भी चंद घड़ी का होता है
इनका जीवन।

देखता हूँ चीटियों को
अपनी नियति से बेपरवाह
सूक्ष्म खाद्य कण मुँह में दबाये
बिलों की और भाग रही हैं।

लगता तो यही है
कर्म ही इनकी जाति, धर्म और नस्ल हैं
शायद यही जीवन का अर्थ भी।

ये नन्ही चीटियाँ
दिल-ओ-जान से
उस घर को बसाने की फिक्र में है
जो चंद बूँद पानी
एक मुट्ठी माटी से नष्ट हो सकता है।

मुझे भी घर की फिक्र बहुत है
नीची जात वालों को
पानी नहीं पिलाता अपने बर्तन में
किरायेदार नहीं रखता किसी विधर्मी को
रगं-रोगन और मरम्मत भी
करा लेता हूँ दफ्तर के बेगारियों से
घूस से दो नयी मंजिलें चढ़ा ली हैं
आशियाने पर।

मैं ढीठ मानव ठहरा
कब ग्लानि करता हूँ
अपने कर्मों पर
जो कार्यकुशलता नहीं
चाटुकारी की बुनियाद पर खड़े हैं।

कब ग्लानि करता हूँ
हैसियत पर
जो अंधेर नगरी में
दरबारी के सिवा क्या है।

कब ग्लानि करता हूँ
पदवियों पर
जो भ्रष्ट वजीरों के प्रति
अंधनिष्ठा का इनाम भर हैं
ये निष्ठा हर नई सरकार के साथ
बदल जाती है।

किसी ने सही तो कहा था मुझे कठपुतली
खुद के अस्तित्व का ठिकाना नहीं
चीटियों के ज़रूर ’पर’ लगा देता हूँ।

(रफत आलम)

मई 23, 2011

बूँद में समंदर

सौ परिक्षाओं से गुजरोगे हर जीत हार में
प्रयास करना के रहो सदा अव्वल कतार में

उजाले नज़र आये भिखारियों की कतार में
सुना था रौशनी बंटेगी अंधों के दरबार में

गुमराही के सिवा अपने को मिलना है क्या
रहनुमाँ सच्चे हैं ना आचार में ना विचार में

ध्यान से देखो तो इसमें समंदर हैं समाये
ये बूँद जो नन्ही नज़र आ रही है आकार में

हर रास्ते सौदा हो रहा है काली कमाई का
खुले बिका करता है ज़मीर आज बाज़ार में

मंजिलों के सफर चल दिए कारवाँ के साथ
अपना नसीब देखिये हम खो गए गुबार में

नफरत की क्या कहें घाव प्रीत के थे गहरे
दिखे तक भी नहीं और मार गए प्यार में

फूलों से तो ज़ख्मों के सिवा कुछ ना मिला
काँटों का खलूस आजमाएंगे अबके बहार में

अपनों ने वो चोट दी के दुश्मन लगे शर्माने
बहुत फरेब खाए हैं आलम हमने एतबार में

(रफत आलम)

%d bloggers like this: