Posts tagged ‘purity’

अप्रैल 22, 2010

पवित्रता

मैं आवरणहीन हूँ
पूर्णतया नग्न
बड़ी मुश्किल से आज चोला उतार फेंका है दुनियादारी का
हर तरह का मुखौटा हटा दिया है चेहरे से|

ये दुनिया किसी को आवरणहीन नहीं देख सकती!

हे प्रकृति !

मुझे शीघ्रता से
मेरी स्वाभाविक व प्राकृतिक परतों से ढक दो
वर्ना दुनिया मुझे फिर से
भेढ़चाल के वस्त्र पहनने को विवश कर देगी
लोभ, महत्वाकांक्षा, ईर्ष्या और प्रतिद्वन्द्विता के
खोल मुझे पहना दिए जायेंगे
और प्रेम, मानवता और श्रद्धा आदि
फिर से अन्दर दबे छुपे रह जायेंगे!

…[राकेश]

टैग: , ,
%d bloggers like this: