Posts tagged ‘Pranay’

फ़रवरी 14, 2017

फीरोजी होठ … धर्मवीर भारती

purple-001इन फीरोजी होठों पर

बरबाद मेरी जिंदगी

इन फीरोजी होठों पर |

गुलाबी पांखुरी पर हल्की सुरमई आभा

कि ज्यों करवट बदल लेती कभी बरसात की दुपहर

इन फीरोजी होठों पर |

तुम्हारे स्पर्श की बादल-धुली कचनार नरमाई

तुम्हारे वक्ष की जादू भरी मदहोश गरमाई|

तुम्हारी चितवनों में नर्गिसों की पाँत शरमाई

किसी भी मोल पर मैं आज अपने को लुटा सकता

सिखाने को कहा

मुझसे प्रणय के देवताओं ने

तुम्हे आदिम गुनाहों का अजब-सा इन्द्रधनुषी स्वाद!

मेरी जिंदगी बरबाद!

अंधरी रात में खिलते हुए बेले-सरीखा मन

मृणालो की मुलायम बांह ने सीखी नहीं उलझन

सुहागन लाज में लिपटा शरद की धूप-जैसा तन

पंखुरियों पर भँवर के गीत-सा मन टूटता जाता

मुझे तो वासना का

विष हमेशा बन गया अमृत

बशर्ते वासना भी हो तुम्हारे रूप से आबाद

मेरी जिंदगी बरबाद!

गुनाहों से कभी मैली पड़ी बेदाग़ तरुणाई-

सितारों की जलन से बादलों पर आंच कब आई ?

न चन्दा को कभी व्यापी अमा की घोर कजराई

बड़ा मासूम होता है गुनाहों का समर्पण भी

हमेशा आदमी

मजबूर होकर लौट आता है

जहां हर मुक्ति के, हर त्याग के, हर साधना के बाद!

मेरी जिंदगी बरबाद!

(धर्मवीर भारती)

Advertisements
दिसम्बर 2, 2013

अब ये पौधा हरा न होगा

ये राज ही रहा मेरे लिए किkabl-001

कैसे,

आखिर कैसे

तुम जान जाती थी

कि मैंने साहस जुटा लिया है

तुमसे प्रणय निवेदन का

दिल की बातें कहने का,

सैकड़ों बार की कोशिश के बाद

जब जब मैंने हिम्मत की कि कह दूँ

‘मुझे तुमसे प्यार है’

तुम ने आग भर ली अपनी दृष्टि में मेरे लिए

वे  सारे निशान जो कहते थे तुम्ही मेरी मंजिल हो

अपने हाथों मिटा दिए तुमने

कैसे  जान गई थीं तुम कि

मैंने स्वीकार कर लिया है

कि तुम मेरे लिए क्षितिज का सूर्य हो

मैं पा नहीं सकता तुम्हे

और तब जब मैं हार मानने वाला ही था

तुमने  आँखों में प्यार भर

हंस कर बस ठीक तभी तुम ने कह दिया था

“तुम कितने प्यारे हो! मुझे तुम्हारा साथ बहुत पसंद है”

कैसे आखिर कैसे जान जाती थी तुम?

जब आज तुम मेरी नहीं

तुम को पाने की कोई आशा नहीं

सच कहूँ तो अब कोई हसरत भी नहीं

क्यूँ तुम ने ये कह दिया

“तुमने कभी कहा होता”!!

कैसे आखिर कैसे आज फिर तुम ने ये जान लिया

कि अब इस  पौधे की जड़े मर चुकी हैं

अब ये हरा नहीं होगा

Rajnish sign

%d bloggers like this: