Posts tagged ‘Pita’

मई 31, 2014

मैं चमारों की गली में ले चलूँगा आपको…

आइए महसूस करिए जिंदगी के ताप कोminorgirlsbadayun
मैं चमारों की गली तक ले चलूँगा आपको

जिस गली में भुखमरी की यातना से ऊब कर
मर गई फुलिया बिचारी इक कुएँ में डूब कर

है सधी सिर पर बिनौली कंडियों की टोकरी
आ रही है सामने से हरखुआ की छोकरी

चल रही है छंद के आयाम को देती दिशा
मैं इसे कहता हूँ सरजू पार की मोनालिसा

कैसी यह भयभीत है हिरनी-सी घबराई हुई
लग रही जैसे कली बेला की कुम्हलाई हुई

कल को यह वाचाल थी पर आज कैसी मौन है
जानते हो इसकी ख़ामोशी का कारण कौन है

थे यही सावन के दिन हरखू गया था हाट को
सो रही बूढ़ी ओसारे में बिछाए खाट को

डूबती सूरज की किरनें खेलती थीं रेत से
घास का गट्ठर लिए वह आ रही थी खेत से

आ रही थी वह चली खोई हुई जज्बात में
क्या पता उसको कि कोई भेड़िया है घात में

होनी से बेख़बर कृष्ना बेख़बर राहों में थी
मोड़ पर घूमी तो देखा अजनबी बाँहों में थी

चीख़ निकली भी तो होठों में ही घुट कर रह गई
छटपटाई पहले, फिर ढीली पड़ी, फिर ढह गई

दिन तो सरजू के कछारों में था कब का ढल गया
वासना की आग में कौमार्य उसका जल गया

और उस दिन ये हवेली हँस रही थी मौज में
होश में आई तो कृष्ना थी पिता की गोद में

जुड़ गई थी भीड़ जिसमें ज़ोर था सैलाब था
जो भी था अपनी सुनाने के लिए बेताब था

बढ़ के मंगल ने कहा, ‘काका, तू कैसे मौन है
पूछ तो बेटी से आख़िर वो दरिंदा कौन है

कोई हो संघर्ष से हम पाँव मोड़ेंगे नहीं
कच्चा खा जाएँगे ज़िंदा उनको छोडेंगे नहीं

कैसे हो सकता है होनी कह के हम टाला करें
और ये दुश्मन बहू-बेटी से मुँह काला करें’

बोला कृष्ना से – ‘बहन, सो जा मेरे अनुरोध से
बच नहीं सकता है वो पापी मेरे प्रतिशोध से’

पड़ गई इसकी भनक थी ठाकुरों के कान में
वे इकट्ठे हो गए सरपंच के दालान में

दृष्टि जिसकी है जमी भाले की लंबी नोक पर
देखिए सुखराज सिंह बोले हैं खैनी ठोंक कर

‘क्या कहें सरपंच भाई! क्या ज़माना आ गया
कल तलक जो पाँव के नीचे था रुतबा पा गया

कहती है सरकार कि आपस में मिलजुल कर रहो
सुअर के बच्चों को अब कोरी नहीं हरिजन कहो

देखिए ना यह जो कृष्ना है चमारों के यहाँ
पड़ गया है सीप का मोती गँवारों के यहाँ

जैसे बरसाती नदी अल्हड़ नशे में चूर है
न पुट्ठे पे हाथ रखने देती है, मगरूर है

भेजता भी है नहीं ससुराल इसको हरखुआ
फिर कोई बाँहों में इसको भींच ले तो क्या हुआ

आज सरजू पार अपने श्याम से टकरा गई
जाने-अनजाने वो लज्जत ज़िंदगी की पा गई

वो तो मंगल देखता था बात आगे बढ़ गई
वरना वह मरदूद इन बातों को कहने से रही

जानते हैं आप मंगल एक ही मक्कार है
हरखू उसकी शह पे थाने जाने को तैयार है

कल सुबह गरदन अगर नपती है बेटे-बाप की
गाँव की गलियों में क्या इज्जत रहेगी आपकी’

बात का लहजा था ऐसा ताव सबको आ गया
हाथ मूँछों पर गए माहौल भी सन्ना गया

क्षणिक आवेश जिसमें हर युवा तैमूर था
हाँ, मगर होनी को तो कुछ और ही मंज़ूर था

रात जो आया न अब तूफ़ान वह पुरज़ोर था
भोर होते ही वहाँ का दृश्य बिलकुल और था

सिर पे टोपी बेंत की लाठी सँभाले हाथ में
एक दर्जन थे सिपाही ठाकुरों के साथ में

घेर कर बस्ती कहा हलके के थानेदार ने –
‘जिसका मंगल नाम हो वह व्यक्ति आए सामने’

निकला मंगल झोपड़ी का पल्ला थोड़ा खोल कर
इक सिपाही ने तभी लाठी चलाई दौड़ कर

गिर पड़ा मंगल तो माथा बूट से टकरा गया
सुन पड़ा फिर, ‘माल वो चोरी का तूने क्या किया?’

‘कैसी चोरी माल कैसा?’ उसने जैसे ही कहा
एक लाठी फिर पड़ी बस, होश फिर जाता रहा

होश खो कर वह पड़ा था झोपड़ी के द्वार पर
ठाकुरों से फिर दरोगा ने कहा ललकार कर –

“मेरा मुँह क्या देखते हो! इसके मुँह में थूक दो
आग लाओ और इसकी झोपड़ी भी फूँक दो”

और फिर प्रतिशोध की आँधी वहाँ चलने लगी
बेसहारा निर्बलों की झोपड़ी जलने लगी

दुधमुँहा बच्चा व बुड्ढा जो वहाँ खेड़े में था
वह अभागा दीन हिंसक भीड़ के घेरे में था

घर को जलते देख कर वे होश को खोने लगे
कुछ तो मन ही मन मगर कुछ ज़ोर से रोने लगे

‘कह दो इन कुत्तों के पिल्लों से कि इतराएँ नहीं
हुक्म जब तक मैं न दूँ कोई कहीं जाए नहीं’

यह दरोगा जी थे मुँह से शब्द झरते फूल-से
आ रहे थे ठेलते लोगों को अपने रूल से

फिर दहाड़े, ‘इनको डंडों से सुधारा जाएगा
ठाकुरों से जो भी टकराया वो मारा जाएगा’

minorbadayunइक सिपाही ने कहा, ‘साइकिल किधर को मोड़ दें
होश में आया नहीं मंगल कहो तो छोड़ दें’

बोला थानेदार, ‘मुर्गे की तरह मत बाँग दो
होश में आया नहीं तो लाठियों पर टाँग लो

ये समझते हैं कि ठाकुर से उलझना खेल है
ऐसे पाजी का ठिकाना घर नहीं है जेल है’

पूछते रहते हैं मुझसे लोग अकसर यह सवाल
‘कैसा है कहिए न सरजू पार की कृष्ना का हाल’

उनकी उत्सुकता को शहरी नग्नता के ज्वार को
सड़ रहे जनतंत्र के मक्कार पैरोकार को

धर्म, संस्कृति और नैतिकता के ठेकेदार को
प्रांत के मंत्रीगणों को केंद्र की सरकार को

मैं निमंत्रण दे रहा हूँ आएँ मेरे गाँव में
तट पे नदियों के घनी अमराइयों की छाँव में

गाँव जिसमें आज पांचाली उघाड़ी जा रही
या अहिंसा की जहाँ पर नथ उतारी जा रही

हैं तरसते कितने ही मंगल लँगोटी के लिए
बेचती हैं जिस्म कितनी कृष्ना रोटी के लिए

(अदम गोंडवी)

Advertisements
दिसम्बर 3, 2013

बंद का समय

सूखी पत्तियों की फिसलन भरी डगर के पारblueumb-002

हरियाली के आँचल में

झुरमुटों के पास से

शाम का धुआँ निकल रहा है

कोई माँ, खाना बना रही है

छौनों के घर लौटने का समय हो गया है|

सड़क के किनारे बनीं छोटी-छोटी फड़ें

बाहर सजा सामान अब समेटा जा रहा है

मैले से सफ़ेद कुर्ते-पाजामे में

कैद छुटा बच्चा

पिता को सामान पकड़ा रहा है

दुकान को बंद करने का समय हो गया है|

Yugalsign1

जुलाई 26, 2011

प्यार की बात

मत करो मुझसे इस समय
प्यार की बात,
बहुत मजबूरियाँ हैं,
पिता नहीं हैं
माँ बूढ़ी है
सबसे छोटी बहन फलाँगते हुये
चढ़ गयी है सीढ़ियाँ उम्र की
और छोटा भाई
डिग्रियों का बोझ लादे
बेकार है।

करनी है बहन की शादी
लगाना है भाई को
रास्ते पर
देखना है घर-परिवार,
ऐसे में
क्या करुँ मैं तुमसे
प्यार की बात
ज़िंदगी में बहुत कुछ है
प्यार से ऊपर,
जिन्हे जिम्मेदारियाँ कहते हैं!

मैं भी चाहता हूँ
कुंतला,
येलोकेशी,
जिसके अंग सुते हुये हों साँचें में
एक गौरांगी प्रिया
जो लम्बी हो,
स्लिम हो
गहरी नाभी और सपाट पेट वाली हो
जिसकी कमर मेरी बाहोँ के घेरे में आने से शरमाए
जो मुझे चाहे मेरी तरह।
हर भारतीय नौजवान की तरह
मुझे भी लुभाती है हर यौवना।

मगर यह संभव नहीं है
हकीकतें ज़िंदगी से बड़ी हैं।
देश में
जिस वक्त्त हर मोर्चे पर
हो रहा हो अनवरत भ्रष्टाचार
और जहाँ घर में
बैठी हो जवान बहन
भाई बेकार
वहाँ मैं कर सकता हूँ
केवल
क्रांति
पर नहीं कर सकता प्यार
फिलहाल इस समय एक युवती से।

{कृष्ण बिहारी}

जून 2, 2011

टॉलस्टोय तो नहीं पर बचपन सुझा गया

राइटर्स ब्लॉक ऐसा वायरस है जो रचनाकार के दिमाग को बर्फ की तरह से जड़ बना देता है। उसके दिमाग में विचार आते तो हैं पर वे न जमीन पा पाते हैं विचरने के लिये और न आकाश ही उन्हे मिल पाता है उड़ान भरने के लिये। रचनाकार का दिमाग ऐसा हो जाता है कि उसे विचार सूझते भी हैं तो वह उन्हे विकसित नहीं कर पाता। उसके हाथ नहीं चलते लिख पाने को। उसका दिमाग विचारों को क्रियान्वित न करने की जड़ता को पालने पोसने लगता है। उसे किसी तरह भी अपने ही विचारों पर विश्वास नहीं आ पाता। उसे वे बिल्कुल तुच्छ लगने लगते हैं। वह ऐसी स्थितियों में आ जाता है जहाँ उसे दरकार होने लगती है बाहर से मिल सकने वाले विश्वास की जिससे कि उसका आत्म-विश्वास वापिस आ जाये। पर दूसरों का विश्वास पाने के लिये वह कुछ लिख पाने का साहस नहीं जुटा पाता।

किसी घड़ी किसी स्व:स्फूर्त प्रेरणा से ही राइटर्स ब्लॉक पार्श्व में आ जा पाता है और रचनाकार का दिमाग फिर से ऊर्जा, उत्साह और रचनात्मकता से भर जाता है। क्या चीज, कौन से घटना रचनाकार को प्रेरणा दे जाये इसका कोई भी निश्चित तौर पर अनुमान नहीं लगा सकता।

प्रदीप ने लगी लगाई नौकरी छोड़कर लिखने का प्रयास किया था। फ्री-लांसिग करके नियमित रुप से आमदनी हो जाती थी और बाकी बचे वक्त्त में वह अपनी रचनात्मक कल्पनाशीलता को कागज पर उड़ेलता रहता। लेखन प्रतिभा उसके पास थी। वह जल्दी ही स्थापित भी हो गया। सब ठीक चल रहा था कि लगभग तीन महीने पहले जैसे उसका दिमाग असहयोग आंदोलन करने लग गया। वह छटपटाया, बहुत हाथ-पैर मारे, ढ़ेरों जतन किये पर दिमाग की गंगोत्री से रचनात्मक गंगा नहीं बही।

अपने मनपसंद लेखकों की सर्वश्रेष्ठ पुस्तकें कई बार पढ़ डालीं, दुनिया के श्रेष्ठतम लेखकों की श्रेष्ठतम पुस्तकों के साथ दिन, शाम और रातें बितायीं पर कुछ भी सोयी हुयी लेखन क्षमता को जगा नहीं पाया। दिन में बाजारों में जाकर आवारागर्दी भी की पर कुछ भी प्रेरित न कर पाया।

कई बार शरीर शिथिल पड़ जाता और उसके सारे अस्तित्व में एक गहन उदासी छा जाती। ऐसा लगने लगता जैसे गहरे अवसाद का मरीज बनता जा रहा है। बहुत प्रयास करता तो कुंठा घर कर लेती।

उसका चिड़चिड़ापन उसकी पत्नी और पांच साल के आसपास के वय की बेटी पर भी गाहे-बेगाहे पड़ने लगता, हालाँकि वह भरकस कोशिश करता कि उसकी मानसिक परेशानियों का शिकार उसका परिवार न बने पर कई बार बाजी उसके हाथ से निकल जाती।

उसके फ्री-लांसिंग के कार्य पर भी बहुत बुरा असर पड़ रहा था। वह तो उसकी पत्नी भी नौकरी करती थी सो आर्थिक परेशानियाँ घनघोर रुप धारण न कर पाती थीं परंतु लेखक केवल धन के लिये ही तो लिखता नहीं। जैसे और लोगों को जीवन जीने के लिये धन चाहिये ऐसे ही लेखक को भी चाहिये परंतु लेखन कोई नौकरी तो है नहीं कि जब चाहे छोड़ दी। लेखन अगर ऐसे सस्ते में छूट जाता तो लोग लेखक बनने का कष्ट ही क्यों करते? न लिखें तो शांति से जियें कैसे लेखक? लेखन तो अवश्यम्भावी किस्म की प्रवृत्ति बन जाता है लेखकों के लिये।

उस दिन भी सवेरे से ही प्रदीप लिखने का प्रयास कर रहा था। पत्नी नौकरी पर चली गयी बेटी स्कूल चली गयी, दोपहर को वापिस भी आ गयी, खाना खाकर सो भी गयी, पर किसी भी तरह के एकांत में भी प्रदीप से मन को पसंद आने वाली एक भी पंक्ति न लिखी गयी।

बेटी उठ भी गयी पर प्रदीप की कुंठा और उदासी बरकरार थी। अपने ख्यालों में गुम वह बैठा था कि बेटी वहाँ आ गयी। उसने पिता का हाथ छूकर कहा,” पापा खेलने चलो मेरे साथ”।

प्रदीप की तंद्रा टूटी। परेशानी भरी आँखों से बेटी को देखा। कुछ बोल नहीं पाया।

बेटी का इतने पास खड़ा होना भी उसके दिमाग से भारीपन नहीं हटा पाया। उलझन इतनी थी दिमाग में कि उसकी इच्छा हो रही थी कि बेटी वहाँ से चली जाये तो वह फिर से अपने ख्यालों में खो जाये।

बेटी ने फिर पिता का हाथ झिंझोड़कर कहा,: पापा, खेलने चलो”।

बेटा आप खेलो जाकर।

नहीं पापा आप चलो, आपके साथ खेलना है।

मुझे काम है बेटा।

आप बाद में कर लेना। पहले खेल लो मेरे साथ।

इतने वार्तालाप से उसके ख्यालों में हल्का सा झरोखा बना पर वह अभी भी बाहर नहीं आ पाया था।

बेटी ने जिद करते हुये कहा,” चलो न पापा…खेलेंगे..आप रात को काम कर लेना”।

नहीं बेटा अभी मेरे पास समय नहीं है आप खेलो।

बेटी का चेहरा मुर्झा सा गया और वह रुआंसे स्वर में बोली,” आपके पास नहीं है पर मेरे पास तो समय है न पापा”।

जैसे बिजली कौंध जाती है ऐसे ही उस क्षण में कुछ हो गया प्रदीप को, उसके दिमाग में बेटी की आवाज गूँजने लगी,” आपके पास नहीं है पर मेरे पास तो समय है न”।

उदास बेटी आँखों के सामने खड़ी थी और प्रदीप की इच्छा हो रही थी कि वह जोर जोर से रो ले।

किसी तरह से अपने को रोककर उसने बेटी को सीने से लगा लिया और उसके बालों में ऊँगलियाँ फिराते हुये उसने कहा,” चलो आप तैयारी करो बाहर चल कर मैं अभी आता हूँ। आज खूब खेलेंगे”।

बेटी फिर से खिल उठी और ऊर्जा से भरकर कमरे से बाहर भाग गयी।

प्रदीप की आँखों से आँसू झर-झर टपक रहे थे। दिमाग का ठोस भारीपन द्रवीय बन बह चला था। वह हल्का महसूस कर रहा था।

उसके हाथ की कलम चलने लगी। दिमाग सनासन दौड़ने लगा।

कुछ पंक्तियाँ लिखकर उसने हाथ रोक दिये। अब उसे संजोकर रखने की जरुरत नहीं थी। अब वह कभी भी लिख पायेगा इसका अहसास और विश्वास उसे हो चुका था। आज उसकी बेटी ने उसे जीवन का बहुत बड़ा सबक दे दिया था, शायद इससे बड़ा सबक उसे पहले कभी नहीं मिला था।

अपने प्रिय लेखक लियो टॉल्स्टोय की अपनी मनपसंद कहानी को पढ़ा तो उसने कई बार था पर उसका वास्तविक मर्म आज उसकी बेटी की कही एक बात ने उसके सामने ऐसे स्पष्ट कर दिया था जैसे सूरज के सामने से घने काले बादल छँट गये हों और सूरज फिर से अपनी किरणों से प्रकाश धरती पर फैलाने लगा हो।

वह कुर्सी से उठकर बाहर अपनी बेटी के साथ खेलने चल दिया, जीवन जीने चल दिया।

…[राकेश]

अप्रैल 20, 2011

बाबाजी, मैं और औरत

बाबाजी
तुम ब्रह्मचारी
तुम्हारी सोच के अनुसार
औरत नरक का द्वार।

लेकिन
मैं तो ब्रह्मचारी नहीं
दिखने में भी
ढ़ोंगी- पुजारी नहीं
मेरे लिये तो
हर औरत खूबसूरत है
बशर्ते यह कि
वह औरत हो।

तुमने जिसे नकारा
धिक्कारा
और अस्पर्श्य विचारा है
उसके आगे मैंने तो
समूचा जीवन हारा है।

मेरी दृष्टि से देखो कभी
तो जानोगे
नरक का वह द्वार
कितना प्यारा है।

सिर से पाँवों तक
औरत में क्या नहीं
कभी देखो तो सही
दूर से उसके लहराते कुंतल
सुराहीदार गर्दन
गालों में गड्ढ़े
ओठों पर हलचल
कंधों से नीचे
कमर के कटाव
और कमर से नीचे
नितम्बों के भराव
हटती नहीं है दृष्टि
अगर फंस जाये
दैहिक आकर्षण में।

बाबाजी
कुछ तो सोचो
क्या रखा है तुम्हारी सोच,
और ऐसे ही जिये जाते,
किये जाते आत्मतर्पण में?
कभी ध्यान से देखो
औरत के वक्ष
और सोचो कि
ईश्वर ने उन्हे केवल
बच्चे के हाथों का खिलौना
या फिर उसके लिये
दूध का भरा दोना
ही बनाया है
या फिर पुरुषों की नज़रों को
चकाचौंध, हतप्रभ या फिर
आबद्ध स्थिर करते हुये
अद्वतीय सौन्दर्य दिखाया है।

बाबाजी
प्रकृति को कभी
कपड़ों का बोझ ढ़ोते देखा है?
नदी को अपनी अनावृत्त
बासन्ती देह धोते देखा है?
सांगोपांग स्नान करती नदी को
नहाते हुये देखो।

बाबाजी
महसूसो पुरुष होने की वासना
जिओ एक जीवन पूरा
कहते हैं कि
औरत के बिना
की गयी पूजा
मनाया गया उत्सव
होता है आधा-अधूरा।

हर औरत माँ   नहीं होती
बहन नहीं होती
मित्र नहीं होती
बीवी नहीं होती
पर
हर औरत
औरत अवश्य होती है।

उसके लिये भी
हर शख्स पिता नहीं होता
भाई नहीं होता
वह भी सोचती है
बहुत कुछ खोजती है
आदमी में।

कैसी विडम्बना है कि
उसे आज तक
अपना पुरुष
अपने ढ़ंग से मिला नहीं
मगर ताज्जुब है कि
उसके ओठो
पर गिला नहीं।

बाबाजी
एक बात और
मैं अधम और कामी
मुझ पर हावी
कमजोरियाँ और इंद्रियगत गुलामी
इसलिये मेरी ही दृष्टि को
मत अपनाओ
औरत के बारे में जो संतों ने कहा है –
बूड़ा वंश कबीर का…
नारी की झाईं परत…
औगुन आठ सदा उर रहहीं…
भूल जाओ
कुछ व्यापक और
मौलिक दृष्टिकोण बनाओ।

देखो उसे सोचो उसे
भाषा और भूमि से परे
वह मात्र खेती ही नहीं
बेटी भी है।
उसकी शुचिता और
रक्षा की जिम्मेदारी
भावी समाज के निर्माण में
उसकी रचनात्मक हिस्सेदारी
हम पर नहीं तो किस पर है?

{कृष्ण बिहारी}

%d bloggers like this: