Posts tagged ‘Nitin Gadkari’

मई 26, 2014

अरविंद केजरीवाल Vs नितिन गडकरी : भ्रष्टाचार एवं मान हानि केस

AK court case
अरविन्द और उन की पार्टी का यह मानना है कि उन्होंने नितिन गडकरी पर भ्रष्टाचार का जो आरोप लगाया था वह सही था और ऐसा करना जनहित में था। ऐसा करना वे लोग अपने भ्रष्टाचार विरोधी आंदोलन का अभिन्न हिस्सा मानते हैं। वे यह भी मानते हैं कि कोई इस कारण से उन पर किसी अदालत में मुकदमा करता है तो वे प्रतिभूति-बंधपत्र नहीं देंगे। उन का कहना यह भी है कि उन्हें कई बार बिना प्रतिभूति-बंधपत्र के केवल निजी मुचलके पर छोड़ा जा चुका है। अदालत के आदेश के अनुसार प्रतिभूति-बंधपत्र प्रस्तुत करना या न करना उस व्यक्ति के चुनाव पर निर्भर है जिसे ऐसा आदेश दिया गया है। अरविंद एक राजनैतिक व्यक्ति हैं और भ्रष्टाचार के विरुद्ध आंदोलनरत हैं। उन्होंने प्रतिभूति-बंधपत्र प्रस्तुत कर रिहा होने के स्थान पर उसे प्रस्तुत न कर जेल में रहना पसंद किया। यह उनका निजी मामला है। प्रेस को इसे हौवा बनाने से बचना चाहिए।
AK Jail

अरविंद की पार्टी ने बेईमान लोगों की एक सूची जारी की थी, जिसमें देश के अनेक राजनेताओं के नाम थे। स्पष्ट था कि अरविन्द की पार्टी खुद तो सब के विरुद्ध मुकदमा चलाने से रही। उनका मानना है कि यह राज्य का दायित्व है कि वह भ्रष्ट लोगों के विरुद्ध मुकदमा चलाए। सूचीबद्ध नेताओं में एक नितिन गडकरी ने अरविन्द के विरुद्ध माँ हानि किए जाने के अपराध का परिवाद अदालत में प्रस्तुत किया। यदि अरविन्द खुद गडकरी के विरुद्ध मुकदमा पेश करते तो उन्हें खुद ही साक्ष्य से साबित करना होता कि गड़करी ने भ्रष्टाचार किया है या फिर बेईमानी की है।

Kaushik
लेकिन अब गडकरी को अपने मुकदमे में साबित करना पड़ेगा कि अरविन्द ने जो किया उस से उन का अपमान हुआ है। इस के लिए गडकरी को खुद गवाही देनी होगी और गवाही के दौरान अरविन्द और उस के वकीलों को उन से सवाल करने का अवसर मिलेगा। उनके सामने प्रस्तुत किए गए दस्तावेजों और खुद के बयानों का स्पष्टीकरण देना पड़ेगा। जो निश्चित ही गडकरी को कठगरे में खड़ा करने वाला और मजेदार होने वाला है। यह सब आगे आने वाली राजनीति पर भी अपना असर छोड़े बिना नहीं रहेगा। (नौशाद)

MKSINGHAL
बेल के खेल की एक कथा विस्तार से पढ़ें

Advertisements
मई 26, 2014

अरविंद केजरीवाल : एक खुला पत्र आपके नाम …

AK-Tiharएक खुला पत्र अरविन्द के नाम—

प्रिय अरविन्द,

उम्मीद करता हूँ कि तिहाड़ की जेल में भी तुम आराम से होंगे…ऐसा इसलिए कह रहा हूँ क्योंकि अब इस किस्म की बातों और चीजों से तुम कब के ऊपर उठ चुके हो…अब ये सब बातें शायद तुम्हारी जिन्दगी में अब कोई मायने भी नहीं रखती…बाकि यहाँ बाहर की दुनिया में सब ठीक है….तुम खामख्वाह ही इस मुल्क और इसके लोगों के लिए इतने परेशान रहते हो..

-लोग अब भी बड़े आराम से अपनी नौकरियों को अंजाम दे रहे हैं हमेशा की तरह- बाकि सब ठीक है..

– सिनेमा घरों में देशभक्ति की बातों और अभिनेता द्वारा बलात्कारियो, गुंडों और भ्रष्टाचारी नेता, अफसर और पुलिस के खिलाफ आवाज़ बुलंद करने पर लोग अब भी पहले की तरह खूब तालियाँ पीट कर अपने दिल की भड़ास निकालते हैं- बाकि सब ठीक है..

– टोल टैक्स पर आज भी घमंडी नेता और उनकी बिगडैल औलादें तीस-चालीस रूपए के टोल के लिए अपने आलिशान गाड़ियों से उतर कर टोल की एक मामूली सी नौकरी करने वाले आम से आदमी के अन्दर गरम लोहा डाल रहे हैं- बाकि सब ठीक है..

– उत्तर प्रदेश के देहात में अब भी कोई गरीब लाचार बाप अपनी बिटिया के साथ हुए बलात्कार की रिपोर्ट करवाने के लिए थानेदार के पैरों में पड़ा गिरिया रहा है- बाकि सब ठीक है..

– अन्याय के खिलाफ जन आन्दोलन की आवाज़ देने में जितने लोग सड़कों पर आते हैं उससे दस गुना ज्यादा लोग आज भी क्रिकेट स्टेडियम में कई सौ / हज़ार रूपए खर्च करके और हर चौके-छक्के पर तिरंगे को लहरा कर “इंडिया-इंडिया” चिल्लाकर और चियर्स लीडर के लोकनृत्य का आंनद लेते हुए देश की असीम सेवा बखूबी कर रहे हैं – बाकि सब ठीक है..

– दफ्तरों में बाबूओं ने महंगाई के चलते रिश्वत के रेट में “जायज बढ़ोतरी” कर दी है और वो पूरी “ईमानदारी” से अपने काम को पूरा कर रहे हैं- बाकि सब ठीक है..

– महज कुछ सौ रूपए ना दे पाने से हजारों गरीब आज भी जेल की काल-कोठरी में “कानून के उल्लंघन” में बंद हैं और गोपाल कांडा, राजा, कलमाड़ी, लालू, राजा भैय्या जैसे कानून की इज्ज़त करने वाले जमानत राशि भरकर जनता की सेवा कर रहे हैं- बाकि सब ठीक है..

-गरीब किसान, भूखे मजदुर, सरहद पर लड़ते सैनिक, कारखानों में खपते कारीगर, चाय की दूकान पर काम करते “छोटू”, साहब के घर पर बर्तन मांजती मासूम “पिंकी”, सरकारी स्कूलों में घटिया खाना खाते बच्चे, अस्पतालों में दम तोड़ते मरीजों की घटिया जिन्दगी से बहुत दूर पेज थ्री की खुबसूरत और रंगीन दुनिया और नेताओं के कपड़ों, जूतों से होते हुए सास-बहू की नौटंकी और निर्मल बाबा और जादुई तावीज़ और मर्दाना ताकत बढ़ाने वाले जादुई पाउडर के विज्ञापनों से सरोबार मीडिया अपना कर्तव्य पूरी निष्ठा और तत्परता से निभाते हुए देश को “असली और गंभीर” मुद्दों पर जागरूक कर रहा है- बाकि सब ठीक है..

अरविन्द, तुम यूँ ही परेशान रहते हो और लोगों को भी परेशान करते हो….जब इस मुल्क के लोग मौजूदा व्यवस्था से खुश हैं, उन्हें कोई दिक्कत नहीं और वो अपनी देशभक्ति क्रिकेट मैच और फिल्म देखने के दौरान प्रदर्शित करके संतुष्ट हैं तो तुम क्यों बेकार में उनका जीवन नरक बनाने पर तुले हो भाई ???????

देखो अरविन्द, मीडिया अब कह रहा है कि तुम अब नौटंकी कर रहे हो, नंबर एक ड्रामेबाज़ हो……बिलकुल सही कह रहा है- क्या अब तुम मीडिया से भी बड़े जानकार हो गए देश के हालात के बारे में ? जब मीडिया ने कह दिया है कि सब कुछ ठीक है तो सब कुछ ठीक ही होगा ना….जब लगभग सारा देश और ज्यादातर पढ़े –लिखे लोग भी मान गए हैं कि सब कुछ ठीक है तो तुम्हे पता नहीं क्या दिक्कत है ?

क्यों तुम बेवजह ही इन इतने पढ़े-लिखे और जहीन लोगों की शांतिप्रिय जिन्दगी में कोहराम मचाने आ जाते हो यार ? अरे बलात्कार इनमे से किसी के परिवार की महिला का तो नहीं हुआ ना ? इनकी घर की महिलायों को कोई थोड़े ही छेड़ता है बस में ? इनको थोड़े ही ना सरकारी अस्पताल में धक्के खाने पड़ते हैं ? इनके बच्चों को थोड़े ही ना सरकारी स्कूलों में फटे हुए टाट पर बैठ कर घटिया खाना खाना पडता है ? इनको थोड़े ही कोई राशन की दूकान पर लाइन में घंटो लगना पड़ता है ? कौन सा सरकार या भ्रष्ट नेता इनकी जेब से चुरा कर ले जाते हैं ? फिर कहे को इनको “ व्यवस्था परिवर्तन- व्यवस्था परिवर्तन ” की रट लगा कर इनकी जिन्दगी को नरक बना दिए हो तुम ?

बेहतर यही होगा कि अब तुम अपनी “नौटंकी” बंद करो, जमानत पर बाहर आ जाओ और “संत महात्मा तुल्य” जिन परम पूजनीय नेताओं पर तुमने इलज़ाम लगाये थे वो जनहित और देशहित में वापिस लेकर चुपचाप अपना और अपने परिवार का पेट पालो और जिन्दगी के मजे लूटो…..
AK delhi

इतना परेशान रहते हो मियां ? पढ़े-लिखे हो, थोडा सा समझदार भी दिखाई देते हो कहीं ना कहीं कोई नौकरी मिल ही जाएगी…..अब जब पूरा देश मिलकर एक साथ ये चिल्ला चिल्ला कर कह रहा है कि “सब कुछ ठीक” है तो तुम इसे मान क्यों नहीं लेते ? कभी तो हमारी भी बात मान लिया करो बड़े भाई….

खैर, तुम ये बात मानो या ना मानो तुम्हारी मर्ज़ी….हमारा काम था समझाना सो तुम्हे समझा दिया…पर एक बात कहे देते हैं भाई साहब !! हम हमेशा तुम्हारे साथ खड़े थे, खड़े हैं और खड़े रहेंगे……. क्या करें अब यार- तुम लाख सनकी, पागल, येड़े ही सही पर बात तुम्हारी ना एकदम दिल को छू जाती है…एक दम ” बीडी जलईले जिगर से पिया” वाले कलेजा चीर देने वाले इस्टाईल में…

बाकि अपना ख्याल रखना तिहाड़ में, दवाई समय पर लेते रहना- बाकि यहाँ सब ठीक है !!

राम-राम जी की ( अगर किसी ने पेटेंट करवा रखा हो तो माफ़ी चाहूँगा)…

(उमेश द्विवेदी)

मई 18, 2014

हाथी-घोड़ा-पालकी : कहानी भाजपा की जीत, और कांग्रेस के Fall की!

कांग्रेस को इस पतन की उम्मीद थी, न भाजपा को ऐसे आरोहण की। जनता भी कभी छप्पर फाड़ कर देती है। पहली बार भाजपा को अपने बूते पूर्ण बहुमत मिला है। और कांग्रेस को अपूर्व विमत। पंद्रह साल पहले सोनिया गांधी के नेतृत्व में कांग्रेस को 114 सीटें मिली थीं। पार्टी के इतिहास में उसकी वह न्यूनतम उपलब्धि थी। इस दफा, जब चुनाव की कमान राहुल गांधी के हाथों में रही, कांग्रेस को 43 सीटें मिली हैं। यारो, कैसा गिरने में गिरना है!

भाजपा ने राजग गठबंधन में चुनाव लड़ा। लेकिन जनता ने राजग की 336 सीटों में भाजपा को 282 सीटें दे दी हैं। यानी अब सरकार चलाने को गठबंधन की बैसाखी की जरूरत नहीं, न काम करने या न करने के पीछे गठबंधन को जिम्मेदार ठहराने के बहाने ढूंढ़ने की गुंजाइश। पिछले पच्चीस बरसों में सबसे ज्यादा 244 सीटें कांग्रेस को मिली थीं, 1991 में। खरीदफरोख्त के बाद गठबंधन सरकार बनी, घोटाले हुए। फिर गठबंधन का युग चल निकला। मनमोहन सिंह जैसे भले मगर नाकारा प्रधानमंत्री की नाक नीचे विराट घोटाले हुए , ठीकरा फिर गठबंधन के मत्थे फोड़ा गया। क्या इसी सब के चलते जनता जनार्दन ने नरेंद्र मोदी की ‘अच्छे’ दिनों या सुशासन की पुकार सुनी। और उन्हें प्रचण्ड बहुमत अता फरमाया है?

हम जानते हैं कांग्रेस के नेतृत्व वाली यूपीए सरकार को संदेह का लाभ देते हुए जनता ने पांच साल पहले दुबारा चुना था। एक भले और अर्थशास्त्र के विद्वान प्रधानमंत्री को पूरे दस बरस राज करने का मौका मिला। लेकिन प्रगति की जगह बंटाढार हुआ। भले ही क्रांतिकारी फिदेल कास्त्रो की तर्ज पर मनमोहन सिंह ने कहा कि भविष्य में इतिहास उन्हें सही समझेगा। उनके एक सलाहकार ने चुनाव के बीच मुनादी की कि मनमोहन सिंह के कार्यकाल में जितनी प्रगति हुई है, उतनी मानव जाति के इतिहास में किसी देश में कभी न हुई होगी। लेकिन ऐसे दावे इतिहास की प्रविष्टियों से अर्थवत्ता नहीं पाते। लोग देखते हैं कि उनके दैनंदिन जीवन में क्या प्रगति हुई है। देश की अर्थव्यवस्था कहां पहुंची है। आटे-दाल का भाव कम हुआ है या ज्यादा। रुपया कितना चढ़ा या लुढ़का है। देश में हिंसा बढ़ी है या घटी है। खेती, व्यापार, शिक्षा, चिकित्सा, कानून-व्यवस्था, पर्यावरण या हवा-पानी आदि जीवन से सीधे जुड़े क्षेत्रों में हम कितना आगे बढ़े हैं। अल्पसंख्यकों, आदिवासियों का सचमुच कितना उद्धार हुआ है। दूसरे देशों की नजरों में हमारी साख ऊंची हुई है या गिरी है।

कहना न होगा, इन सवालों के जवाब में हाथ मलता भारतवासी चुनाव नजदीक आते-न-आते अपने सबसे ताकतवर हथियार- मताधिकार- की धार तेज करने में लग गया था। जिस कारपोरेट जगत यानी बड़ी पूंजी के जमावड़े ने कांग्रेस की सरकार बनवाने में अहम भूमिका निभाई थी, वह उसे उखाड़ फेंकने में जुट गया। गुजरात में विकास के नारे उछालने वाले नरेंद्र मोदी से उसका इश्क पहले से परवान पर था। हालांकि कांग्रेस ने चुनिंदा मंत्री तक कारपोरेट घरानों की मरजी मुताबिक नियुक्त किए थे। राडिया टेप याद करें तो यह दास्तान याद आएगी। मनमोहन सिंह सोनिया गांधी का बेदाग ‘परसोना’ थे, मगर कारपोरेट को उनसे बाजार को संभाल लेने की उम्मीदें थीं। मोहभंग होने पर कमान उनके हाथ से खिंचने लगी। मनमोहन सिंह के सलाहकार रहे संजय बारू की किताब के हवाले खयाल करें तो वित्त मंत्री तक प्रधानमंत्री की जानकारी के बगैर तय होने लगे। खुद को सत्ता का निर्मोही जाहिर कर सोनिया गांधी ने आखिर मनमोहन सिंह को भोलेपन में आगे नहीं किया था। वे तन कर खड़े नहीं हो सकते थे। क्वात्रोकी की मुक्ति जैसे मामले तो बहुत मामूली थे। एक अर्थशास्त्री प्रधानमंत्री के रहते जितने बड़े आर्थिक घोटाले सरकार में हुए , पहले कब हुए होंगे? मगर सोनिया-मनमोहन भी सब उद्यमियों की इच्छाएं पूरी न कर सके। नतीजतन ताकतवर कारपोरेट का नरेंद्र मोदी के पाले में जा खड़े होना कांग्रेस के लिए खतरे की खुली घंटी बन गया।

जो इस खेल को समझने से आंख चुराएगा, उसे सब मोदी का जलवा दिखाई देगा। ‘मोदी-मोदी’ या ‘हर-हर मोदी’ का रंग-रोगन बाद का है। इतना तो गाफिल भी कहता मिलेगा कि ऐसा खर्चीला चुनाव पहले नहीं देखा। पैसा पानी का तरह नहीं बहा, हवा की तरह उड़ा। सिर्फ इसलिए नहीं कि रोज के दो-तीन लंबे दौरों-सभाओं के बाद शाम को मोदी को अपने घर गांधीनगर लिवा लाने के लिए दो गुजराती उद्योगपतियों के तीन हवाई जहाज तैनात रहते थे। आधुनिक तकनीक वाले तमाम प्रचार माध्यमों और पेशेवर प्रतिभाओं की मदद से प्रधानमंत्री पद के दावेदार का सुनियोजित रूपक गढ़ा गया। मीडिया का एक हिस्सा मिलीभगत में अभियान का हिस्सा बन गया। साबुन-तेल के प्रचार की मानिंद मॉडलिंग करते ‘मोदीजी’ का रूपक गली-गली हर जुबान पर पहुंचाया गया। कोई अखबार, टीवी, रेडियो, सड़क, दीवार, यहां तक कि सोशल मीडिया पर बेनामी षड्यंत्रकारी भी खाली न रहे। जरा सोचें कि इतने संसाधनों, तैयारी के साथ प्रचार अभियान की कमान अगर सुषमा स्वराज के हाथ होती तब भी परिणाम क्या बहुत भिन्न होते?

पर प्रचार के ऊपर मोदी की ऊर्जा, और नाटकीय सही, वक्तृता अलबत्ता असरदार ज्यादा रही। चरमराई अर्थव्यवस्था, महंगाई, असंतुलित विकास, भ्रष्टाचार और बेरोजगारी को उन्होंने सबसे अहम मुद्दा बनाया। युवा वर्ग, खास कर नए मतदाता को रोजगार का झुनझुना थमाया। गुजरात का सच्चा-झूठा विकास का मिथक उनकी स्थायी टेक बन गया। आखिरी दौर में उन्होंने जातिवादी पत्ता भी चलाया, मुसलमान बस्तियों में घूमे, मुसलिम बुजुर्गों के पांव छुए। तूफानी दौरों में अपने सीमित या फिसलते ज्ञान (अंडमान में भगत सिंह, बिहार में तक्षशिला, गंगा किनारे सिकंदर, मौर्य नहीं गुप्त साम्राज्य के चंद्रगुप्त, श्यामाप्रसाद मुखर्जी की अस्थियां आदि) के बावजूद कांग्रेस से ऊबे मतदाताओं में मोदी यह उम्मीद जगाने में सफल रहे कि वे परिवर्तन ला सकते हैं। प्रचार प्रबंधकों के गढ़े नारे और गाने (मैक्सिमम गवर्नेंस, मिनिमम गवर्नमेंट… हम मोदीजी को लाने वाले हैं… अच्छे दिन आने वाले हैं!)  पुरउम्मीद और आहत मतदाता के लिए मरहम का काम करते दिखाई दिए। अनेक राजनीतिक दल हाशिए पर जाने लगे। उत्तर प्रदेश में बसपा पता नहीं कहां धंस गई। पश्चिम बंगाल में वामपंथी दलों ने अपनी जमीन खो दी। कारण कांग्रेस वाला ही था। लोग उन्हें आजमा चुके थे और मोहभंग से त्रस्त थे।

इसे प्रचार अभियान का एक अंग कहना ही मुनासिब होगा कि कांग्रेस केंद्रित गठबंधन से उकताए लोगों की परिवर्तन की चाह को चौतरफा ‘मोदी लहर’ के रूप में देखा गया। सच्चाई यह है कि ‘मोदी लहर’ के प्रादुर्भाव के बाद दिल्ली में विधानसभा चुनाव हुए थे। लोगों ने पंद्रह साल पुरानी कांग्रेस सरकार को उखाड़ फेंका। मुख्यमंत्री शीला दीक्षित खुद हार गईं। चुनाव से पहले रोहिणी में नरेंद्र मोदी विराट जनसभा में अपनी रणभेरी बजा गए थे। लेकिन लोगों ने दुबले-पतले मफलर-शुदा अरविंद केजरीवाल की नई-नवेली आम आदमी पार्टी को ज्यादा उम्मीद से देखा।

दिल्ली की सफलता ने केजरीवाल को राष्ट्रीय स्तर पर पंख पसारने को प्रेरित किया। पर यह फैसला जल्दबाजी का साबित हुआ। फिर बड़े पूंजीपतियों पर हाथ डालते हुए केजरीवाल ने उनको मोदी के हक में पूरी ताकत से एकजुट होने को ही प्रेरित किया। बहरहाल, केजरीवाल पार्टी से ज्यादा एक विचार के रूप में सामने आए थे। राष्ट्रीय स्तर पर मोदी और राहुल गांधी के साथ वे ही केंद्र में नजर आए। जीते ज्यादा नहीं, पर कई जगह उनके उम्मीदवार पार्टी की पहचान बनाने में सफल रहे। मतों का अहम हिस्सा उनकी झोली में भी आया है। दिल्ली में उनके मतों का प्रतिशत बढ़ा है। खुद नरेंद्र मोदी को बनारस में केजरीवाल ने नाकों चने चबाने वाली टक्कर दी। एक नई पार्टी के लिए अपनी पहचान को इतने कम समय में इतना विस्तार देना मामूली बात नहीं। हैरानी नहीं होनी चाहिए जो आने वाले दिनों में मुलायम सिंह, मायावती, लालू यादव, ममता बनर्जी, नीतीश कुमार, जयललिता, करुणानिधि आदि दिग्गज नेताओं के बरक्स उनकी पहचान और पुख्ता हो।

इस घटाटोप में कांग्रेस के खेवनहार बनने वाले राहुल गांधी तो पार्टी के लिए बोझ ही साबित हुए हैं। वे पार्टी के उपाध्यक्ष बने, चुनाव समिति की कमान भी संभाली। वे पार्टी में साफ छवि के उम्मीदवारों के साथ नई बयार लाना चाहते थे। पर खूसट नेताओं के सामने उनकी शायद ज्यादा न चली। मोदी से कम, पर खर्चीले चुनाव प्रचार को निकले। भाषणों में उनके पास ठोस मुद्दे न थे। पार्टी के पुराने मुसलिम-आदिवासी ‘वोट बैंक’ में भी पराए सेंध मार गए। खुद के चुनाव क्षेत्र में बेड़ा पार लगाने के लिए उन्हें छोटी बहन- और पूर्णकालिक राजनीति में अनिच्छुक- प्रियंका गांधी वाड्रा की ओर देखना पड़ा। ऊंच-नीच की राजनीति के जुमले छेड़ प्रियंका खबरों में रहीं, पर दोनों मिलकर भी मतदाताओं में एक विकल्प का भरोसा पैदा नहीं कर सके।

इस सब के बीच यह घड़ी अंतत: नरेंद्र मोदी को शिखर पर ले आई है। इसके श्रेय पर भाजपा का अपना दावा भले हो। पर पुरजोर दावा संघ ने किया है, जिसके स्वयंसेवकों ने पहली बार इस कदर जी-जान एक की। विश्व हिंदू परिषद के कार्यकर्ताओं ने भी। वजह साफ थी कि पहली बार उनके भरोसे का स्वयंसेवक (वाजपेयी पर इतना भरोसा संघ बाद में कब करता था!) देश की कमान का दावेदार था, विशुद्ध रूप से संघ परिवार के काडर के भरोसे। इसी ने नरेंद्र दामोदरदास मोदी को अपने ही लोगों के बीच इतना शक्तिमान बनाया कि आडवाणी घर जा बैठे, मुरली मनोहर जोशी की सीट मोदी ने हथिया ली, सुषमा स्वराज राष्ट्रीय पटल से अपने चुनाव क्षेत्र भेज दी गईं, वेंकैया नायडू अंतर्धान मुद्रा में चले गए, जसवंत सिंह पार्टी से बाहर कर दिए गए। गडकरी-जेटली रास्ते पर चले। राजनाथ सिंह ने संघ की बंसी के सुर मोदी के इशारों के अनुरूप रखे। गुजरात के सबसे विवादास्पद नेता अमित शाह ‘साहेब’ की कृपा से और सबों से आगे जा बैठे। इसी के चलते मोदी भाजपा के सबसे कद्दावर नेता के रूप में सामने आए हैं। यह मोदी की जीत है, मगर कहीं गहरे पार्टी की हार है।

मोदी का मानस कट्टर पहचान देता आया है। सेकुलर विचार उनके घेरे में शायद ही किसी को भाता हो। गोधरा के बाद का खूनखराबा अब भी उनका पीछा नहीं छोड़ता। ‘मियां मुशर्रफ’ जैसे संबोधनों की शैली और राममंदिर उनकी विचार-पद्धति का अंग माने जाते हैं। चुनाव प्रचार के दौरान उन्होंने अपने आप को संभाला है। क्या इनसे वे अपने आपको हमेशा के लिए ऊंचा उठा पाएंगे? बाजार को भी उनसे बड़ी आशाएं हैं। मनमोहन सिंह सरकार ढीली थी। दो-दो मंत्री बदलकर भी अंबानी को गैस के मनचाहे दाम न दे सकी। क्या मोदी देंगे? गैस महज एक कसौटी है। कारपोरेट की तो बहुत बड़ी झोली उनके सामने पसरी है।

लेकिन उससे बड़ा फलक जनता की उम्मीदों का है। महंगाई से लोग त्रस्त हैं। पड़ोसियों से तनाव के रिश्ते हैं। आतंकवाद रह-रह कर सिर उठाता है। विभिन्न समुदायों में आपसी सौहार्द वक्त की जरूरत है। इन सब मामलों में कुछ को चाहे मोदी से बहुत कम आशाएं हों, पर देश को उन्होंने बड़े सपनों में बांधा है। पर लोगों को बुलेट ट्रेन से ज्यादा अमन-चैन का जीवन यानी सांप्रदायिक सौहार्द चाहिए। आजाद भारत में अल्पसंख्यक भयभीत होकर कैसे जी पाएंगे। जीत के गाजे-बाजे और हाथी-घोड़ा-पालकी के बीच लाख टके का सवाल यह है कि क्या  इस विराट विजय के बाद मोदी अपना मानस बदलने को तैयार हैं? कमजोर विपक्षके बीच यह सवाल और प्रासंगिक हो जाता है। लोग उनसे रामराज्य यानी सुशासन की उम्मीद रखते हैं। मगर माईबाप संघ अभी से उन्हें राममंदिर और ऐसे ही संकीर्ण लक्ष्यों की याद दिलाने लगा है। देखते हैं देश को रामराज्य हासिल होता है या राममंदिर। या दोनों नहीं।

साभार : श्री ओम थानवी, संपादक – जनसत्ता

%d bloggers like this: