Posts tagged ‘Need’

जून 5, 2014

लोकतंत्र … James Mercer ‘Langston Hughes’

लोकतंत्र नहीं आएगा Langston Hughes

आज,

इस साल,

या और कभी

…समझौतों और भय के द्वारा तो कभी नहीं आएगा! 

 

मेरा भी उतना ही अधिकार है

जैसे किसी और का है

अपने पैरों पर खड़े होने का

और जमीन का टुकड़ा लेने का!

 मैं थक जाता हूँ

लोगों को कहता पाकर –

कि सभी बातों को वक्त लेने दो,

वे खुद से हो जाएँगी

कल किसने देखा है?

मुझे मरने के बाद स्वतंत्रता नहीं चाहिए

मैं कल के सपन पर जिंदा नहीं रह सकता!

स्वतंत्रता

एक बेहद शक्तिशाली बीज है

को कि

बोया जाता है

सबसे ज्यादा जरुरत के समय! 

मैं भी यहाँ रहता हूँ

मुझे स्वतंत्रता चाहिए

जैसे कि तुम्हे चाहिए!

–  Langston Hughes –

(February 1, 1902 – May 22, 1967)


 

Advertisements
मार्च 14, 2013

यदि तुम मुझसे दूर न जाते …

मुझे, अकेलेपन में साथी

याद तुम्हारी कैसे आती

आंसू रहकर इन आँखों में अपना नीड़ कैसे बनाते?

यदि तुम मुझसे दूर न जाते|

तुम हो सूरज-चाँद जमीन पर

किसका क्या अधिकार किसी पर

मेरा मन रखने की खातिर

तुम जग को कैसे ठुकराते?

यदि तुम मुझसे दूर न जाते|

आँख आज भी इतनी नम है

जैसे अभी अभी का गम है

ताजा सा यह घाव न होता,

मित्र तुम्हे हम गीत सुनाते

यदि तुम मुझसे दूर न जाते|

पल भर तुमने प्यार किया है

यही बहुत उपकार किया है

इस दौलत के आगे साथी किस दौलत को गले लगाते?

तू आये तो सेज सजाऊं

तेरे संग भैरवी गाऊँ

यह मिलने की चाह न होती तो मरघट का साथ निभाते!

यदि तुम मुझसे दूर न जाते|

{कृष्ण बिहारी}

सितम्बर 25, 2011

शाह या फकीर, मरना दोनों को है

गुलेल की जिद है देखे, कहाँ तक पत्थर जाता है
उसे कौन समझाए घरों का शीशा बिखर जाता है

शाम ढले जब पंछी भी नीड़ों को लौटने लगते हैं
एक शख्स घर से निकल के जाने किधर जाता है

मेरी प्यास किसी निगाहें करम की मोहताज नहीं
इस फकीर का प्याला तो खुद से भी भर जाता है

यही मजबूरी तो है जिंदगी की सबसे बड़ी मजबूरी
शाह हो के फकीर आखिर में आदमी मर जाता है

उजाले के तलाशी पाँव के इन छालों से डर कैसा
दीपक से सूरज तक लपटों का रहगुज़र जाता है

ताज बने कि मशीने चले जीवन भूखों के रोते हैं
हाथ नहीं जाते आलम, इस दौर में हुनर जाता है

(रफत आलम)

%d bloggers like this: