Posts tagged ‘Mutthi’

जनवरी 30, 2014

मीठे गीत जीवन के

कितना छोटा है जीवन

यह तो मीठे गीतों

और

आराम से बहती हवा

का आनंद लेने के लिए है

पर हरेक कहता है

जीवन को शांतिपूर्वक जीना संभव नहीं ,

और हरेक को मुट्ठी तान कर

जीवन में  कठिन, और जटिल रास्तों से जूझना चाहिए |

लेकिन मुझे जो दिखाई देता है

जहां तक मेरी समझ जाती है

जहां तक दृष्टि देख सकती है

जहां तक मेरे हाथ पहुँच सकते हैं

जहां तक मैं चल सकता हूँ

– गीत रहेंगे और हवा के झोंके भी बहेंगे

मुस्कुराहट तुम बने रहना

तमाम बाधाओं और शत्रुओं

से घिरे होने के बावजूद

मैं इन् सबको साथ लेकर

चलता रहूँगा

इनसे पार जाने के लिए

Yugalsign1

Advertisements
दिसम्बर 6, 2013

अरमान धुल गए

mansnow-001सपना रिस गया

आँखों की कोर से

सारे रंग घुल गए

कुछ अरमान धुल गए

चेहरे के साथ ही

कुछ ज़िन्दगी भी

बदरंग कर गए

मुट्ठी की रेत सा

जितना कस के पकड़ा

उतनी तेज़ी से बीत गया

फिसला आँखों से

पर मन रीत गया

Rajnish sign

%d bloggers like this: