Posts tagged ‘Muskan’

जनवरी 5, 2014

आतप्त कर छोड़ जाती हो…

बहुत आतप्त कर जाती हो तुमsilentlove-001

मुस्कान तुम्हारी हौले से छू जाती है

मन के तार झंकृत कर के जैसे

मौसमी बयार पत्तों की वीणा बजाये

और चली जाए उन्हें कम्पित छोड़ के

ऐसे ही चली जाती हो तुम

मुझे हर सिरे से बजता छोड़ के

सुलगता और तपता छोड़ के…

कितने प्रश्न तुम तक मुड़ते हैं

कितने स्वप्न तुमसे जुड़ते हैं

हर प्रश्न के…

हर स्वप्न के

अंतिम सिरे…

नहीं नहीं पहले सिरे पे तुम

मध्य तक आते आते…

नेह-दग्ध छोड़ जाती हो तुम

बहुत आतप्त करके मुझे छोड़ जाती हो तुम

कभी जब इंच भर दूर रहता है मधु-कोष मुझसे

मेरे दरकते हुए होंठ जब छूने को होते हैं

हर बार वापिस फेर देती हो क्यूँ?

मुझे यूँ छोड़ देती हो क्यूँ?

Rajnish sign

Advertisements
नवम्बर 13, 2013

रुक भी जाओ कभी

womanleavingman-001तुम रोज़

कुछ अपना

मुझ पे छोड़ देती हो…

कभी खनकती हंसी,

कभी भेद भरी मुस्कान

कभी आँखों की चमक,

कभी चूड़ी की खनक

कभी गुस्सा

कभी प्यार

कभी इनकार

कभी  इकरार

कभी इसरार

कभी इजहार

पीछे छूटी चीज़ें  उठाने में…

नया कुछ,

रोज़ छूट जाता है

मैं बस

तुम्हारे पीछे पीछे

उन्ही को समेटता  चलता हूँ…

कभी आओ तो

एक रात भर को सही

ले लो अपनी अमानतें  वापस

या रह जाओ खुद यहीं

जैसे तुम खुद छूट गयी हो

खुद के हाथों से…

(रजनीश)

जून 17, 2011

दिल बहलाने का ख्याल

तन्हाई की घुटन में सन्नाटों से दिल बहलाते रहे
रात भर गिनते रहे करवटों से दिल बहलाते रहे

खुद से भी डर गए जो जानते थे चेहरों का सच
हाँ जो बहरूपिये थे मुखौटों से दिल बहलाते रहे

घर की देहरी इन्तज़ार में पत्थर हो गयी आखिर
एहले-हवस शहर की गुड़ियों से दिल बहलाते रहे

इश्क के रास्ते में मिटने से भला डरता है कौन?
चिरागों के हौसले थे हवाओं से दिल बहलाते रहे

ज़ख्म देने वालों से मरहम की आस थी फ़िज़ूल
कुछ दर्दमंद थे जो मुस्कानों से दिल बहलाते रहे

(रफत आलम)

%d bloggers like this: