Posts tagged ‘Lok’

सितम्बर 8, 2015

सब कुछ कह लेने के बाद… (सर्वेश्वरदयाल सक्सेना)

सब कुछ कह लेने के बाद
कुछ ऐसा है जो रह जाता है,
तुम उसको मत वाणी देना।

वह छाया है मेरे पावन विश्वासों की,
वह पूँजी है मेरे गूँगे अभ्यासों की,
वह सारी रचना का क्रम है,
वह जीवन का संचित श्रम है,
बस उतना ही मैं हूँ,
बस उतना ही मेरा आश्रय है,
तुम उसको मत वाणी देना।

वह पीड़ा है जो हमको, तुमको, सबको अपनाती है,
सच्चाई है-अनजानों का भी हाथ पकड़ चलना सिखलाती है,
वह यति है-हर गति को नया जन्म देती है,
आस्था है-रेती में भी नौका खेती है,
वह टूटे मन का सामर्थ्य है,
वह भटकी आत्मा का अर्थ है,
तुम उसको मत वाणी देना।

वह मुझसे या मेरे युग से भी ऊपर है,
वह भावी मानव की थाती है, भू पर है,
बर्बरता में भी देवत्व की कड़ी है वह,
इसीलिए ध्वंस और नाश से बड़ी है वह,

अन्तराल है वह-नया सूर्य उगा लेती है,
नये लोक, नयी सृष्टि, नये स्वप्न देती है,
वह मेरी कृति है
पर मैं उसकी अनुकृति हूँ,
तुम उसको मत वाणी देना।

(सर्वेश्वरदयाल सक्सेना)

Advertisements
जनवरी 6, 2014

Zen Ikkyu… आह! ये कविता

यह उसका पारदर्शी मन zenikkyu-001

जब पूछा,

उसने दिया उत्तर

ना था प्रश्न

ना था उत्तर

तब गुरु

के पास मन में

न था शायद कुछ भी !

उसका मन सतत

ना था आदि,

न हैं अंत

और मेरा मन

जिसका था जन्म

होगी उसकी मृत्यु

यही है शून्य का सत्व!

सभी पाप सभी कर्म

इन तीनों लोकों के

धुंधलाकर हो जायेंगे लुप्त

मेरे साथ ही!

(Zen Ikkyu की एक कविता का अनुवाद)

Yugalsign1

%d bloggers like this: