Posts tagged ‘Khona’

जनवरी 30, 2014

दूर नज़र के छुपा बैठा है

मन की भटकन Dk-001

खोज में किसकी

पता नहीं क्यूँ

चैन नहीं है

क्या पाना है

क्या खोया है

दूर नज़र के पार देश में

कोई छुप के जा बैठा है

कैसे उसको पास बुलाये

पंख लगा कोई कैसे जाए

मन के साथ में तन भी तो है

तन के साथ रहे न पल भर

मन बस उसके संग हो जाए

Rajnish sign

Advertisements
अगस्त 17, 2011

छिन जाने का भय, जो तुम्हारा सुख छीनता है

जन्म से
मृत्यु होने तक
व्यक्ति भय के साये में जीता है,
यह भय और कुछ नहीं बस
कुछ छिन जाने का भय है,
जो तुम्हारा सुख छीनता है|

बच्चा पैदा होने के तुरंत बाद
जोर जोर से रोता है,
उसकी दुनिया बदल गयी है,
उसे भय लग रहा है कि
वह कहाँ पहुँच गया है,
पेट की अँधेरी
नर्क जैसी कोठरी से बाहर
आँखे बंद कर देने वाला प्रकाश भी
उसे भयभीत कर देता है|

जीवन में  फिर
रोटी, कपड़ा और मकान
छिन जाने का भय भी
व्यक्ति को भयभीत करता है|

जीवन का सबसे बड़ा भय,
जो हर व्यक्ति को
हर समय और
हर उम्र में
सबसे अधिक डराता है,
वह शरीर छिन जाने का भय है,
यानि मौत का भय
क्योंकि अपनी जान
हर व्यक्ति को प्यारी होती है|

क्या भय से आखिर
छूटा जा सकता है?
हाँ परन्तु बड़े कष्ट से
क्योंकि भय का मूल
तुम्हारा अपना ही बुना हुआ
मकड़ी का मोहजाल है,
मकड़ी पहले खूब मेहनत कर
जैसे जाला बुनती है
और फिर
उससे छूटने के लिए
छटपटाते हुए
खूब हाथ-पांव मारती है
परन्तु उससे छूटे नहीं बनता
उसे उससे छूटना है तो
वह केवल दो ही स्थितियों में
छूट सकती है,
या तो जाला टूट जाए,
या फिर उसकी जान छूट जाए,
ठीक यही स्थिति व्यक्ति की भी है,
या तो उसका मोहजाल टूट जाए
या उसका शरीर छूट जाए|

मोहजाल यानी
वह मायाजाल
जिसका मूल अज्ञान है,
अज्ञान, न जानना है
यह न जानना कि क्या ‘है’
और यह कि जो ‘है’
वही सत्य है|

सत्य और ज्ञान
पर्याय हैं क्योंकि
सत्य को जानना ही तो
ज्ञान है
और जो है ही नहीं
वह असत्य है|

शरीर नश्वर है,
आत्मा अनश्वर है,
जीवन केवल आत्मा से है
शरीर से नहीं,
इसलिए शरीर छूटने से
जीवन नहीं छूटता,
केवल पुराना घर छूटता है,
और आत्मा फिर से
अपने लिए एक
नया शरीर रुप घर बसा लेती है,
इसलिए यह जानना कि
पुराना घर छूटना ही है
और फिर नया घर बसना है
सत्य है, ज्ञान है
और
सत्य जान लेने से
असत्य और
ज्ञान होने से अज्ञान
स्वतः ही मिट जाता है
जैसे प्रकाशमयी सुबह होने पर
अंधकारमयी रात्रि का अँधेरा
स्वतः ही मिट जाता है
और फिर मोह से मुक्त होने पर
सुख की प्राप्ति स्वतः ही हो जाती है !

(अश्विनी रमेश)

टैग: , , , , , , ,
जून 30, 2011

प्रेम से भय कैसा

प्रेम में
खोना पड़ता है
बहुत सारी बातों को
बल्कि खो देना पड़ता है खुद को ही
इस भय से
प्रेम में पूर्ण-समर्पण
न कर पाने वालों
की संख्या अनगिनत है।

सतह पर ही तैरते रहने से
जल की गहराई
नहीं आँकी जा सकती
उसके लिये गहरे पानी पैठना
ही पड़ता है।

प्रेम में होने से
भय कैसा?
मानव जीवन
का सारा लेखा-जोखा बाँच
पता यही चलता है –
चिर काल से ही
प्रेम में उत्थान पाये
अस्तित्व ही
जी पाये हैं
काल की सीमाओं को
पार कर पाये हैं।

इस अदभुत अनुभव
को जी पाने
की संभावना
से मुँह क्यों मोड़ना?

प्रेम करो
प्रेम पाओ
प्रेम में होकर ही तो
पता चलता है
कि प्रेममयी मानव
इतना सब कुछ देख, जान,
और जी सकता है
जो कभी भी संभव न हो पाता
और जीवन कितने ही अनदेखे पहलुओं से
अनभिज्ञ ही रह जाता
अगर प्रेम उसके जीवन में न आया होता।

…[राकेश]

%d bloggers like this: