Posts tagged ‘Kafan’

फ़रवरी 28, 2017

जंग न होने देंगें …अटल बिहारी बाजपेयी

gurmehar विश्व शांति के हम साधक हैं,
जंग न होने देंगे!
कभी न खेतों में फिर खूनी खाद फलेगी,
खलिहानों में नहीं मौत की फसल खिलेगी,
आसमान फिर कभी न अंगारे उगलेगा,
एटम से नागासाकी फिर नहीं जलेगी,
युद्धविहीन विश्व का सपना भंग न होने देंगे।
जंग न होने देंगे।
हथियारों के ढेरों पर जिनका है डेरा,
मुँह में शांति,
बगल में बम,
धोखे का फेरा,
कफन बेचने वालों से कह दो चिल्लाकर,
दुनिया जान गई है उनका असली चेहरा,
कामयाब हो उनकी चालें,
ढंग न होने देंगे।
जंग न होने देंगे।
हमें चाहिए शांति,
जिंदगी हमको प्यारी,
हमें चाहिए शांति, सृजन की है तैयारी,
हमने छेड़ी जंग भूख से, बीमारी से,
आगे आकर हाथ बटाए दुनिया सारी।
हरी-भरी धरती को खूनी रंग न लेने देंगे जंग न होने देंगे।
भारत-पाकिस्तान पड़ोसी, साथ-साथ रहना है,
प्यार करें या वार करें, दोनों को ही सहना है,
तीन बार लड़ चुके लड़ाई,
कितना महँगा सौदा,
रूसी बम हो या अमेरिकी,
खून एक बहना है।
जो हम पर गुजरी,
बच्चों के संग न होने देंगे।
जंग न होने देंगे।
(अटल बिहारी बाजपेयी)

अप्रैल 12, 2013

दिल का हाल सुनाओ तो सही

सूरज डूबेगा तो रात भी हो जायेगी ,

बाजी लगेगी तो मात भी हो जायेगी ,

धीरज खाना महज भूल है बड़ी

प्यार होगा तो मुलाक़ात भी हो जायेगी|

मुझे ज़िंदगी का फटा कफ़न सी लेने दो,

न बहलाओ उन्ही की आस पे जी लेने दो,

पीऊँगा न कल एक भी घूँट तुम्हारी ही कसम,

मगर आज तो जी भर के पी लेने दो|

आकर पास ज़रा, आँख मिलाओ तो सही,

दिल की बात को ओठों पे लाओं तो सही,

मालूम नहीं है पर मेरे दिल का हाल,

न हो, अपने दिल का हाल सुनाओ तो सही|

– ‘जगत्प्रसाद ‘सारस्वत

अप्रैल 1, 2013

बड़ा अपयशी हूँ मैं भाई !

मन की सांकल खोल रहा

मैं बिलकुल सच बोल रहा हूँ

जिसे ज़िंदगी भर साँसे दीं

उसने मेरी चिता सजाई

बड़ा अपयशी हूँ मैं भाई !

चाहा बहुत तटस्थ रहूँ मैं

कभी किसी से कुछ न कहूँ मैं

लेकिन जब मजबूर हो गया तो

यह बात जुबान पर आई

बड़ा अपयशी हूँ मैं भाई !

किसको मैंने कब ठुकराया?

किसे गले से नहीं लगाया?

आँगन में ला जिसे जगह दी

उसने घर को जलाया

बड़ा अपयशी हूँ मैं भाई !

जब किस्मत घर छोड़ रही थी

और खुशी दम तोड़ रही थी

मेरे दरवाजे से उस दिन गुज़री थी

रोती शहनाई

बड़ा अपयशी हूँ मैं भाई !

सिरहाने का दीप जुड़ा के

बेहद मंहगा कफ़न उढा के

सुन ले मुझे सुलाने वाले

मुझको अब तक नींद न आयी

बड़ा अपयशी हूँ मैं भाई !

यदि मुझमे यह दर्द न भरता

तो फिर जीकर में क्या करता

मन से आभारी हूँ उसका

जिसने मुझको कलम थमाई

बड़ा अपयशी हूँ मैं भाई !

{कृष्ण बिहारी}

%d bloggers like this: