Posts tagged ‘Gham’

जून 28, 2013

यह अधिकार तुम्हारा ही है…

अनुभव की मंडी में जाकर

सबसे ऊँचा दाम लगाकर

जिसे खरीद लिया है मैंने

यह अधिकार तुम्हारा ही है…

जो सूरज डूबा करता है

थका थका ऊबा करता है

उसको सुबह मना लाते हो

यह उपकार तुम्हारा ही है

यह अधिकार तुम्हारा ही है…

कलाकार ने चित्र बनाकार

अमर बनाया तुम्हे धरा पर

अब तुम उससे रंग छीन लो

हक सौ बार तुम्हारा ही है

यह अधिकार तुम्हारा ही है…

अपना ही गम किससे कम है

ऊपर से तेरा भी गम है

मुझे चुकानी होगी कीमत

यह अधिभार तुम्हारा ही है

यह अधिकार तुम्हारा ही है…

{कृष्ण बिहारी}

मार्च 14, 2013

यदि तुम मुझसे दूर न जाते …

मुझे, अकेलेपन में साथी

याद तुम्हारी कैसे आती

आंसू रहकर इन आँखों में अपना नीड़ कैसे बनाते?

यदि तुम मुझसे दूर न जाते|

तुम हो सूरज-चाँद जमीन पर

किसका क्या अधिकार किसी पर

मेरा मन रखने की खातिर

तुम जग को कैसे ठुकराते?

यदि तुम मुझसे दूर न जाते|

आँख आज भी इतनी नम है

जैसे अभी अभी का गम है

ताजा सा यह घाव न होता,

मित्र तुम्हे हम गीत सुनाते

यदि तुम मुझसे दूर न जाते|

पल भर तुमने प्यार किया है

यही बहुत उपकार किया है

इस दौलत के आगे साथी किस दौलत को गले लगाते?

तू आये तो सेज सजाऊं

तेरे संग भैरवी गाऊँ

यह मिलने की चाह न होती तो मरघट का साथ निभाते!

यदि तुम मुझसे दूर न जाते|

{कृष्ण बिहारी}

%d bloggers like this: