Posts tagged ‘Daam’

नवम्बर 7, 2013

ढूंढोगे तो राम मिलेगा…

सौ मुंह हों औ’ सौ सौ बात ram-001

वहाँ मनुज की क्या औकात

अगर खुदा भी वहाँ आ गया तो

वह भी बदनाम मिलेगा

ढूंढोगे तो राम मिलेगा…

तुम मानो न अजूबा हूँ मैं

अभी अकेला डूबा हूँ मैं

कुछ ही दिनों में इसमें डूबा

हरेक खासोआम मिलेगा

ढूंढोगे तो राम मिलेगा…

तुम मुझको इल्जाम न देना

मेरी बात मान तो लेना

जिस दिन मैं खुद को बेचूंगा

मुंह मांगा हर दाम मिलेगा

ढूंढोगे तो राम मिलेगा…

सच से फिर किसलिए डरूं मैं

लो, यह वादा आज करूँ मैं

जो भी मेरे साथ दिखेगा

दुनिया में सरनाम मिलेगा

ढूंढोगे तो राम मिलेगा…

{कृष्ण बिहारी}

जून 28, 2013

यह अधिकार तुम्हारा ही है…

अनुभव की मंडी में जाकर

सबसे ऊँचा दाम लगाकर

जिसे खरीद लिया है मैंने

यह अधिकार तुम्हारा ही है…

जो सूरज डूबा करता है

थका थका ऊबा करता है

उसको सुबह मना लाते हो

यह उपकार तुम्हारा ही है

यह अधिकार तुम्हारा ही है…

कलाकार ने चित्र बनाकार

अमर बनाया तुम्हे धरा पर

अब तुम उससे रंग छीन लो

हक सौ बार तुम्हारा ही है

यह अधिकार तुम्हारा ही है…

अपना ही गम किससे कम है

ऊपर से तेरा भी गम है

मुझे चुकानी होगी कीमत

यह अधिभार तुम्हारा ही है

यह अधिकार तुम्हारा ही है…

{कृष्ण बिहारी}

%d bloggers like this: