Posts tagged ‘Bribery’

सितम्बर 5, 2011

मास्टर, डॉक्टर और पुलिस – भ्रष्टाचार के तीन स्त्रोत

वह एक पुलिस का सिपाही है
जो तलाश रहा है
एक सभ्य नागरिक
जिसकी ज़ेब से निकलवा सके
वह आखिरी नोट।

और

वह जो बंगला है ना
सामने
मेडिकल कॉलेज के एक
डॉक्टर का है
वहाँ जो भीड़ है
वह पागलों की है
बीमारों की है
मरीजों के साथ साथ उनके परिजन भी
बीमार हो गये हैं।
पागलों का इलाज करते करते
डॉक्टर भी हो गया है पागल पैसे के पीछे।

और

ये महाश्य जो अभी अभी घड़ी देखते
तेजी से घर से निकले हैं
वो रहे…
वो नाक की सीध में बढ़ते हुये
अध्यापक हैं
उन्हे पढ़ानी है ट्यूशन
फेल करते हैं बच्चों को एक एक नम्बर से
हर वीकली टैस्ट में
डर जाते हैं माँ-बाप
डर जाता है पूरा समाज
और पढ़ने लगता है ट्यूशन

ताकि हो सके सभ्य
और हो जाये पागल
दे सके ज़ेब का आखिरी नोट
किसी पुलिसिये को
किसी पागल डॉक्टर को
या फिर मास्टर को।


समाज को ये तीनों ही बचायेंगे…
फिर खायेंगे।


{कृष्ण बिहारी}

फ़रवरी 9, 2011

तबादला

चार दिन गायब रहने के बाद हरेंद्र हॉस्टल वापस आया तो बहुत खुश था। अपने कमरे में जाकर सामान रखने के बाद बाहर आया तो उसके हाथों में मिठाई के डिब्बे थे। मैस में काम करने वाले लड़कों को उसने खाना खाते अपने सभी साथियों को मिठाई देने के लिये कहा और अपने ग्रुप के साथ  बैठ गया।

उसने बताया कि वह अपने घर चला गया था। सूचना आयी थी।

साथियों ने मजाक किया कि शादी वगैरह तो निश्चित नहीं कर दी घर वालों ने।

अरे नहीं।

हरेंद्र आठ भाई-बहनों में सबसे बड़ा था। कुछ हाथ तंग करके ही उसका माहभर का खर्च निकल पाता था। उसके पिता को आशा थी कि साल-डेढ़ साल में इंजीनियरिंग पूरी करके उसे नौकरी मिल जायेगी तो घर की आर्थिक हालत बेहतर हो जायेगी। साथियों के लिये यह थोड़ा हैरत का विषय था कि वह पूरे हॉस्टल को मिठाई खिलाये। उन्होने अपनी शंका का समाधान चाहा।

तो फिर यह सारे हॉस्टल को मिठाई क्यों बाँटी जा रही है?

अरे यार तुम लोगों से क्या छिपाना। दरअसल पापा का तबादला हो गया है। दस साल से सालों ने ऐसी जगह डाला हुआ था… जहाँ सैलेरी के अलावा कुछ भी कमाई नहीं थी। अब जाकर ऐसी पोस्टिंग मिली है जहाँ पैसा ही पैसा है। पिछले दस साल बहुत परेशानी में बीते हैं हमारे घर के। अब हालात ठीक होंगे। पापा बहुत खुश थे। तबादले के लिये बहुत भागदौड़ की है इन दस सालों में। अब जाकर काम हो पाया है। ऊपर थोड़ा पैसा खिलाना पड़ा पर यह सब तो कुछ ही माह में पूरा हो जायेगा। यह सेक्शन डिपार्टमेंट के सबसे कमाऊ सेक्शंस में आता है। ऐसा मलाईदार तबादला मिला है… मजा आ गया यारों। वारे न्यारे हो जायेंगे अब। सब कसर पूरी हो जायेगी।

हरेंद्र का चेहरा खुशी से लबरेज़ था।

 

…[राकेश]

%d bloggers like this: