Posts tagged ‘Batukeshwar Dutt’

मार्च 14, 2014

तुम जो फ़ांसी चढ़ने से बच गये हो…(भगत सिंह)

bhagatभगत सिंह का पत्र——- बटुकेश्वर दत्त के नाम

प्रिय भाई,

मुझे दंड सुना दिया गया है और फ़ांसी का आदेश हुआ है। इन कोठरियों में मेरे अतिरिक्त फ़ांसी की प्रतीक्षा करने वाले बहुत से अपराधी हैं। ये लोग यही प्रार्थना कर रहे हैं कि किसी तरह फ़ांसी से बच जाएं, परंतु उनके बीच शायद मैं ही एक ऐसा आदमी हूं जो बेताबी से उस दिन की प्रतीक्षा कर रहा हूं जब मुझे अपने आदर्श के लिए फ़ांसी के फ़ंदे पर झूलने का सौभाग्य प्राप्त होगा।

मैं खुशी के साथ फ़ांसी के तख्ते पर चढ़कर दुनिया को यह दिखा दूंगा कि क्रांतिकारी अपने आदर्शों के लिए कितनी वीरता से बलिदान दे सकते हैं।

मुझे फ़ांसी का दंड मिला है, किन्तु तुम्हे आजीवन कारावास का दंड मिला है। तुम जीवित रहोगे और तुम्हे जीवित रह्कर दुनिया को यह दिखाना है कि क्रांतिकारी अपने आदर्शों के लिए केवल मर ही नहीं सकते, बल्कि जीवित रह कर हर मुसीबत का मुकाबला भी कर सकते हैं। मृत्यु सांसारिक कठिनाईयों से मुक्ति प्राप्त करने का साधन भी नहीं बननी चाहिये, बल्कि जो क्रान्तिकारी संयोगवश फ़ांसी के फ़ंदे से बच गए हैं, उन्हे जीवित रह्कर दुनिया को यह दिखा देना चाहिए कि वे न केवल अपने आदर्शों के लिए फ़ांसी चढ़ सकते हैं, बल्कि जेलों की अंधकारपूर्ण छोटी कोठरियों में घुल-घुलकर निकृष्टतम दर्जे के अत्याचारों को सहन भी कर सकते हैं।

तुम्हारा
भगतसिंह

सेन्ट्रल जेल, लाहौर
अक्टूबर ,१९३०

सरदार भगतसिंह के राजनैतिक दस्तावेज”, संपादक चमनलाल व प्रकाशक नेशनल बुक ट्रस्ट, इन्डिया

Advertisements
%d bloggers like this: