Archive for ‘वीडियो’

फ़रवरी 13, 2017

कैसे मुसलमां हो भाई…

अप्रैल 7, 2016

कठफोड़वा : दक्षतम बढ़ई कलाकार

शहर शहर सुरसा के मुख समान अनवरत फैलते सीमेंट के जंगलों में वास करती, बड़ी होती पीदियों में संभवतः लगभग सभी लोगों ने कभी भी कठफोड़वा नामक पक्षी को पेड़ के तने में अपनी मजबूत चोंच से छेद करते न देखा होगा और शायद अपनी आँखों से कठफोड़वा देखा ही न हो| सीमेंट के जंगल ने पेड़-पौधों से गुलज़ार जंगलों के असली जानवरों एवं पक्षियों में से बहुत सी किस्मों को मनुष्य की आँखों से ओझल ही कर दिया है|

कठफोड़वा के कलाकारी कृत्य का आनंद लें और शायद इससे कठफोड़वा को असल में देखने की चाह उभरे और उसके दर्शन भी कभी हो जाएँ||

टैग:
मार्च 13, 2016

Zero न होता तो ! भारत का शून्य एवं अन्य अंकों से रिश्ता

भारत और शून्य के मध्य संबंध के बारे में ऑक्सफोर्ड विश्वविधालय के विश्व प्रसिद्ध गणितज्ञ Marcus De Sutoy का कथन –


Being in India, I need to ask you, how important is zero to mathematics?
I think that’s a wonderful act of the imagination, and a really key moment. Whenever new numbers are admitted into the canon, it is a very exciting moment. It seems so obvious to us, now of course! First of all, it facilitates computation – in that sense you were not the first to come up with the zero. The Babylonians had a mark for zero, the Greeks and the Romans didn’t get it, but the Mayans had a symbol for zero, but what you had was your abstract idea of creating something to denote nothingness. The Indians were also the first to come up with the idea of negative numbers. I made a programme for BBC, about the history of mathematics called The Story of Maths and we came to India and explored the development of Brahmagupta’s negative numbers. It is interesting that it is all related to a more philosophical view of the world. In Europe, I think they were frightened of nothing or the void. But in the Indian cultural landscape, it was very acceptable to talk about the zero, to talk about the infinite… in 13th century Florence, the use of zero was banned, it was illegal!

सितम्बर 10, 2015

प्रसिद्द लेखक एवं विचारक निर्मल वर्मा पर बनी डॉक्यूमेंटरी

सुप्रसिद्ध विचारक एवं हिंदी के लेखक दिवंगत निर्मल वर्मा पर बनी डॉक्यूमेंटरी  को नीचे दिए वीडियोज के माध्यम से देखने का आनंद उठायें| वरिष्ठ कवि मंगरेश डबराल ने निर्मल वर्मा से बात की है और इसे निर्देशित किया है प्रवीण अरोड़ा ने

 

 

जून 13, 2015

बिना पैर ऊँची उड़ान

एक बच्ची जन्मती है पर और बच्चों की तरह उसके पैर नहीं हैं, उसके जैविक माता-पिता इस घबराहट में कि वे बिना पैरों की बच्ची का लालन-पालन कैसे करेंगें, बच्ची को त्याग देते हैं| शारीरिक रूप से अपंग बच्ची को एक अन्य दयालू दंपत्ति गोद लेते हैं और उसे बचपन से सिखाते हैं कि असम्भव जैसा कुछ नहीं होता और वह बच्ची इस बात को अपने आत्मविशवास, दृढ-निश्चय और कड़ी मेहनत से सच सिद्ध करके दिखाती है|

मानव जीवन में इससे प्रेरक कुछ नहीं हो सकता जहां शारीरिक कमी कतई कोई बाधा उत्पन्न न कर पाई हो मानव के सम्मुख और मानव ने हर कठिनाई पर विजय प्राप्त करके शारीरिक रूप से पूर्णतया सक्षम मानवों को पीछे करके उपलब्धियां कमाई हों और वह भी ऐसे क्षेत्रों में जहां शारीरिक अंगों के सार्थक इस्तेमाल पर बात ठहरती हो|

टैग:
जनवरी 26, 2015

दिल्ली की एक बहादुर लड़की का सन्देश नेताओं के नाम

क्या देश के नेता जागेंगे और महिला सुरक्षा के प्रति संवेदनशील होंगे?

अवकाश प्राप्ति की ओर बढ़ रहे एक विदेशी राष्ट्र प्रमुख के लिए रातों रात दिल्ली में हजारों CCTV कैमरे लग जाते हैं, नेताओं की सुरक्षा में हजारों सुरक्षाकर्मी तैनात हो जाते हैं पर आम महिला की सुरक्षा के प्रति कोई सरकार कदम नहीं उठाती|

पुरुष की तरह, महिला भी स्वतन्त्र रूप से सुरक्षित महसूस करते हुए देश की राजधानी में विचरण कर सके ऐसी इच्छा बहत बड़ी तो नहीं| इतना अधिकार तो महिलाओं का दुनिया के सबसे बड़े लोकतंत्र के नागरिक होने के नाते बनता ही है|

नवम्बर 24, 2014

महात्मा गांधी और वसुधैव कुटुम्बकम : इटेलियन स्टाइल

धार्मिक प्रतीकों से अलग हटें तो पूरी दुनिया में जिस भारतीय का नाम सबसे ज्यादा जाना जाता है और जिस एक भारतीय को पूरी दुनिया सम्मान देती है, और अपनी नै पीढ़ी को जिसके बारे मने लगातार जाग्रत बनाए रखती है उस शख्सियत का नाम गांधी है|

इस दुर्भाग्यपूर्ण तथ्य को, कि भारत में ऐसे वर्ग भी हैं जो गांधी से घृणा तक करते रहे हैं,  नजरअंदाज करें तो हर उस भारतीय के लिए जिसे गांधी में थोड़ी सी भी दिलचस्पी है, इटेलियन विज्ञापन एक सुखद एहसास लेकर आता है|

नवम्बर 21, 2014

विलक्षण बाल-गायिका और ‘कुमार विश्वास’

१९ नवंबर को किसी ने कविता के मंच के प्रसिद्द हस्ताक्षर और आम आदमी पार्टी के नेता कुमार विश्वास को नीचे दिये वीडियो का लिंक भेजा |

 

बालिका की विलक्षण गायन प्रतिभा से कोई संगीत प्रेमी प्रभावित न हो ऐसा संभव ही नहीं है| हर संगीत प्रेमी को लगेगा कि यह बालिका सही प्रशिक्षण पाकर संगीत की ऊँचाइयों को प्राप्त करेगी पर ऐसा होना सबके साथ संभव नहीं होता| कुमार विश्वास भी बालिका के गायन से प्रभावित हुए पर जब पता चला कि इस बालिका का परिवार संभवतः आर्थिक रूप से समर्थ नहीं है तो बहुतों की तरह उन्हें भी भय लगा कि इस अनूठी बाल-गायिका का संगीत कहीं गरीबी के कारण दम न तोड़ दे| तब उन्होंने नीचे दिया सन्देश लिखा|

“कुछ ऐसे फूल हैं जिन्हे मिला नहीं माहौल ,
महक रहे हैं मगर जंगलों में रहते हैं…..!”
किसी ने ये विडिओ भेजा है ! उनके अनुसार विडिओ में दिख रही बच्ची घरेलु सहायक का काम करती है ! दस बार सुन चुका हूँ और आखँ की कोर हर बार भीग रही है ! आप में से कोई अगर इस बेटी का अता-पता निकाल सके तो बड़ी कृपा होगी ! माँ सरस्वती साक्षात इस शिशु-कंठ पर विराजमान है ! जीती रहो स्वर-कोकिला ! बस ये मिल जाये तो इसे सर्वोत्तम शिक्षा और साधना का ज़िम्मा मेरा ! ढूँढो दोस्तों अगली सम्भावना को !

 

सन्देश ट्विटर, फेसबुक और व्हाट्सअप के माध्यमों से लाखों लोगों तक पहुंचा| और बालिका की खोज सम्पन्न हुयी| कुमार विश्वास अपने वादे के मुताबिक़ बालिका के अच्छे भविष्य के लिए प्रयासरत हैं|

 

आद्य शकराचार्य की आविर्भाव भूमि केरल के एक तटीय गावँ में नन्ही जयलक्ष्मी मिल गयी है ! शाम तक उसके माता-पिता से बात भी हो जाएगी ! सब कुछ ठीक रहा तो कुछ ही दिन में, माँ शारदा की यह नन्ही-बेटी विधिवत संगीत-शिक्षा ग्रहण कर रही होगी ! कोशिश करूँगा कि किसी चैनल में उस पर एक शो भी बनवाऊँ ! आभार कोमल,राजश्री और मनोज का इस खोज को अंजाम तक पहुँचाने के लिए
“हर फूल को हक़ है कि चमन में हो क़ामयाब ,
माली को भी ये फ़र्ज़ मगर याद तो रहे.…।”

 

 

 

अगस्त 30, 2011

चाँद-रात

चाँद-रात को समर्पित गीत मिलना एक मुश्किल काम है।

सन 1947 में बनी फिल्म – मेंहदी, जिसमें नरगिस, बेगम पारा और करन दीवान ने मुख्य भूमिकायें निभाई थीं और संगीत दिया था गुलाम हैदर  ने, उस फिल्म में एक गीत मिलता है जो चाँद-रात की खुशियों का बड़ा ही सजीव प्रस्तुतीकरण करता है।
फिल्म मेंहदी का वह मधुर गीत खुद ही सुनकर आनंद उठायें।

मार्च 19, 2011

फागुन में बहारें होली की

गंगा-जमनी संस्कृति कभी जनमानस में कविता, दर्शन और गायकी द्वारा रंग, उमंग और उलासमयी जीवन भरा करती थी। अनेकता में एकता की यह पारद बूँद बंटवारे की राजनीति के चलते बिखरती–बिखरती समाप्त सी होकर अब काव्यगोष्ठियों और समिनारों में सिमट गयी है। गुज़रे गए सुनहरे वक्त के आकाश पर सूफियत और प्रेम के जगमग सितारों में से एक हज़रत नजीर अकबराबादी १८वी सदी में पुरनूर थे। उनकी रचनायें उस धवल दौर का सच्चा प्रतिबिम्ब हैं जिसमें ईद के उल्लास साथ होली भी रंगीनियाँ भी बराबर की भागीदार हैं।

होली के रसमय और रंगमय दिन के लिए उनकी होली सम्बंधित रचनाओं में से एक मस्त नज़्म प्रस्तुत है।

जब फागुन रंग झमकते हों तब देख बहारें होली की।
और दफ़ के शोर खड़कते हों तब देख बहारें होली की।
परियों के रंग दमकते हों तब देख बहारें होली की।
ख़ूम शीश-ए-जाम छलकते हों तब देख बहारें होली की।
महबूब नशे में छकते हो तब देख बहारें होली की।

हो नाच रंगीली परियों का, बैठे हों गुलरू रंग भरे
कुछ भीगी तानें होली की, कुछ नाज़-ओ-अदा के ढंग भरे
दिल फूले देख बहारों को, और कानों में अहंग भरे
कुछ तबले खड़कें रंग भरे, कुछ ऐश के दम मुंह चंग भरे
कुछ घुंगरू ताल छनकते हों, तब देख बहारें होली की

गुलज़ार खिलें हों परियों के और मजलिस की तैयारी हो।
कपड़ों पर रंग के छीटों से खुश रंग अजब गुलकारी हो।
मुँह लाल, गुलाबी आँखें हो और हाथों में पिचकारी हो।
उस रंग भरी पिचकारी को अंगिया पर तक कर मारी हो।
सीनों से रंग ढलकते हों तब देख बहारें होली की।

और एक तरफ़ दिल लेने को, महबूब भवइयों के लड़के,
हर आन घड़ी गत फिरते हों, कुछ घट घट के, कुछ बढ़ बढ़ के,
कुछ नाज़ जतावें लड़ लड़ के, कुछ होली गावें अड़ अड़ के,
कुछ लचके शोख़ कमर पतली, कुछ हाथ चले, कुछ तन फड़के,
कुछ काफ़िर नैन मटकते हों, तब देख बहारें होली की।।

ये धूम मची हो होली की, ऐश मज़े का झक्कड़ हो
उस खींचा खींची घसीटी पर, भड़वे खन्दी का फक़्कड़ हो
माजून, रबें, नाच, मज़ा और टिकियां, सुलफा कक्कड़ हो
लड़भिड़ के ‘नज़ीर’ भी निकला हो, कीचड़ में लत्थड़ पत्थड़ हो
जब ऐसे ऐश महकते हों, तब देख बहारें होली की।

[ ख़ूम शीश-ए-जाम – मदिरानशापात्र ,   गुलरू – पुष्प सामान यहाँ सुन्दरी,   अहंग – शोले-जोश ]

प्रस्तुती – रफत आलम

%d bloggers like this: