उ.प्र में सूखा और किसानों की दुर्दशा: मुख्यमंत्री के नाम सुझाव-पत्र (योगेन्द्र यादव)

13 अक्टूबर 2015
श्री अखिलेश यादव,
मुख्यमंत्री, उत्तर प्रदेश,
लखनऊ

विषय : उत्तर प्रदेश में सूखे के संकट से निपटने के लिए कुछ सुझाव

प्रिय अखिलेश जी,

स्वराज अभियान के जय किसान आंदोलन के तहत हम कुछ साथी विगत 2 अक्टूबर से देश के सूखाग्रस्त इलाकों की ‘संवेदना यात्रा’ पर हैं. इस सिलसिले में पिछले चार दिनों में हमने बाँदा, हमीरपुर, महोबा, चित्रकूट, कौशाम्बी, फतेहपुर, उन्नाव, रायबरेली, कानपुर नगर, कानपुर देहात, औरैया, इटावा और आगरा जनपदों के गाँवों में यात्रा की, और किसानों से बातचीत की. इसके अलावा जिन इलाकों में हम नहीं जा पाए, वहाँ कार्यरत संगठनों एवं व्यक्तियों से भी हमने सलाह मशविरा किया.
राज्य में सूखे की स्थिति के बारे में आपको नियमित रूप से सूचनाएं तो मिलती ही हैं, आपके पास इस जानकारी का कहीं बेहतर तंत्र है. फिर भी कई बार बड़े सरकारी सूचना तंत्र के बावजूद कुछ सूचनाएँ शीर्ष तक नहीं पहुँच पातीं. इसलिए मैं इस यात्रा के निष्कर्ष और उनके आधार पर कुछ सुझाव आपके सामने रख रहा हूँ. आशा है कि इसे आप अन्यथा नहीं लेंगे और इन रचनात्मक सुझावों पर गौर करेंगे.

देश के सबसे अधिक सूखे से प्रभावित जिलों के दौरे के बाद हमारी टीम दो निष्कर्षों पर पहुंची है. पहला यह कि इस राष्ट्रीय आपदा का केंद्र बिन्दु उत्तर प्रदेश है. इस बार उत्तर प्रदेश में औसत से 45 प्रतिशत कम वर्षा हुई है. वर्षा की कमी से देश में सर्वाधिक प्रभावित 30 जिलों में से 17 उत्तर प्रदेश से हैं. प्रदेश के कई इलाकों में लगातार दूसरे या तीसरे वर्ष सूखा पड़ रहा है. एक बहुत बड़े इलाके में खरीफ की फसल लगभग बर्बाद हो चुकी है. ज्यादातर इलाकों में किसान रबी की फसल बोने की स्थिति में भी नहीं है. पीने के पानी का संकट है. लोग पशुओं को बेच रहे हैं या यूँ ही छोड़ दे रहे हैं.

हमारा दूसरा निष्कर्ष यह है कि प्रदेश में आपदा की इस घड़ी में प्रशासन तंत्र सूखे के शिकार किसान और मजदूरों को मदद पहुंचाने में असमर्थ रहा है. हालाँकि आपकी सरकार ने किसानों से मालगुजारी न वसूलने का फैसला जरूर लिया है, लेकिन यह कदम तो प्रतीकात्मक ही है. ऎसी प्राकृतिक आपदा के समय लोगों की सरकार से बहुत अपेक्षा होती है. लेकिन किसान को इस साल का मुआवजा तो दूर पिछली फसलों का मुआवजा भी नहीं मिल पाया है. खेती में मनरेगा का इस्तेमाल भी नहीं के बराबर है. इस संकट की घड़ी में जिन लोगों को सस्ते अनाज की सबसे ज्यादा ज़रूरत है, उनमें से अधिकांश उस राशन कार्ड के पात्र नहीं हैं.

कुल मिलाकर प्रदेश की जनसंख्या का एक बड़ा हिस्सा बहुत बडे संकट से गुजर रहा है. जानवरों के लिए तो यह सूखा अकाल में बदलता ही जा रहा है, अगर सरकार की ओर से जल्द ही कुछ प्रभावी कदम नहीं उठाए गए तो यह भी आशंका है कि बुंदेलखंड के कुछ इलाकों में सबसे गरीब वर्ग के लिए अकाल की स्थिति बन सकती है.

अपनी टीम के साथियों की ओर से मैं आपसे अनुरोध करूँगा कि इस संकट की घड़ी में निम्नलिखित बेहद जरूरी कदम तुरंत उठाएँ.

1 प्रदेश में सूखे की तुरंत घोषणा
सूखे की उपरोक्त स्थिति को देखते हुए आपकी सरकार को पूरे प्रदेश में सूखे की तुरंत घोषणा करनी चाहिए, ताकि सूखा राहत के काम शुरू हो सकें. कर्नाटक और मध्य प्रदेश ने यह घोषणा कर दी है, जबकि वहाँ सूखे की स्थिति इतनी भयावह नहीं है. उम्मीद है कि आपकी सरकार राज्य आपदा राहत कोष और जरूरत पड़े तो राष्ट्रीय आपदा राहत कोष का इस्तेमाल करेगी और धन की कमी को सूखे की घोषणा के रास्ते में रोड़ा नहीं बनने देगी.

2 फसल नुकसान के मुआवज़े की घोषणा और बकाया राशि का भुगतान
आपकी सरकार ने पिछले साल ओलावृष्टि और अतिवृष्टि से हुए नुकसान के लिए मुआवज़े की घोषणा की थी, लेकिन यह मुआवज़ा कुछ ही गाँवों तक पहुँच पाया है. ज्यादातर बड़ी ग्राम पंचायतें अब भी इस मुआवजे का इंतजार कर रही हैं. जहाँ मुआवजा मिला भी है, वहाँ यह कुछ ही लोगों तक पहुँचा पाया है. इसमें भ्रष्टाचार की शिकायतें भी सामने आई हैं. इसलिए सरकार तत्काल किसानों बकाया मुआवज़ा दिलवाने की व्यवस्था करे.

पिछली फसल के मुआवज़े के साथ-साथ इस फसल को हुए व्यापक नुकसान की भरपाई के लिए एक वस्तुपरक और न्यायसंगत नीति की घोषणा होनी चाहिए. इस सन्दर्भ में आपकी सरकार मध्य प्रदेश के राजस्व कोड के प्रावधानों पर विचार कर सकती है. ऐसी न्यायसंगत व्यवस्था में मुआवज़ा निर्धारित करते समय दो बातों का ध्यान रखा जाना चाहिए- (क) किसान ने बीज, खाद, कीटनाशक आदि में कितना निवेश किया था, जो बेकार चला गया ; तथा (ख) इस फसल के नुकसान की वजह से उस अवधि में न्यूनतम गुज़ारे लायक आमदनी का कितना नुकसान हुआ. इन दोनों तथ्यों को देखते हुए हमारा सुझाव है कि जहाँ फसल का पूरा नुकसान हुआ है, वहाँ सिंचित खेतों के लिए 20,000 रूपए प्रति एकड़ और असिंचित खेती के लिए 15,000 रूपए प्रति एकड़ की दर से मुआवजा दिया जाना चाहिए. इस मुआवजे की घोषणा के तत्काल बाद मुआवजज़े की राशि प्रभावित किसानों के बैंक में खाते जमा की जानी चाहिए. फसलों के नुकसान का जायजा पारदर्शी तरीके से हो, इसके लिए किसकी फसल को कितना नुकसान हुआ, यह सूची ग्रामसभा के सामने पेश की जानी चाहिए.

3 क़र्ज़ के बोझ में दबे किसानों को तात्कालिक राहत
रबी के दौरान अतिवृष्टि और अब खरीफ के दौरान सूखे के कारण किसानों ने इन फसलों के लिए जो क़र्ज़ लिया था, वह डूब चुका है. अपेक्षित आय न होने की वजह से किसान पुराने बकाया कर्जे की अदायगी में भी असमर्थ है. क़र्ज़ के बोझ में दबा किसान आत्महत्या को विवश न हो इस लिए यह ज़रूरी है किसानों के तमाम खेती संबंधी और व्यक्तिगत ऋणों का पुनर्निर्धारण हो.

इस सम्बन्ध में हमारा सुझाव है कि: क) जिन इलाकों में फसल पूरी तरह बर्बाद हो गयी है, वहाँ पिछली दोनों फसलों के ऋण को माफ़ कर दिया जाए ; ख) किसानों के बकाया क़र्ज़ का ब्याज माफ़ कर दिया जाए ; ग) इन बकाया कर्जों की किश्तों की अदायगी मुल्तवी कर दी जाए ; घ) किसानों को सरल, सुगम और समयानुसार बैंक क़र्ज़ उपलब्ध करवाया जाए ताकि वह साहूकारों के चंगुल में फंसकर प्रतिमाह 5 से 10 प्रतिशत ब्याज देने को मजबूर न हो.

4 रोजगार गारंटी योजना को सही ढंग से लागू किया जाए
जब फसल बर्बाद हो जाए और किसान मजदूरों को रोजगार देने में असमर्थ हों, ऐसे में मजदूर और सीमांत किसान अपनी आजीविका के लिए सरकार की ओर देखता है, और रोजगार के लिए सरकार का मोहताज हो जाता है. रोजगार गारंटी योजना ऎसी ही स्थितियों से निपटने के लिए बनी थी. लेकिन आज सूखे की स्थिति में सरकार इस योजना का समुचित इस्तेमाल नहीं कर रही है. अधिकांश जरूरतमंद लोगों के पास जॉब कार्ड तो है, लेकिन कई महीनों से उन्हें कोई काम नहीं मिला है. जिन लोगों को काम भी मिला, उन्हें कई महीनों से भुगतान नहीं मिल पाया है. भुगतान न मिलने की वजह से अब गरीबों को लगता है कि इस योजना के तहत काम करने से कुछ हासिल नहीं होगा. हाल ही में भारत सरकार ने महात्मा गाँधी रोजगार गारंटी योजना में अधिकतम रोजगार की सीमा सौ दिन से बढ़ाकर डेढ़ सौ दिन कर दी है. इस योजना की मदद से सूखा प्रभावित गरीब परिवारों को वैकल्पिक रोजगार देने का यह महत्वपूर्ण अवसर है.

हमारा सुझाव है कि – क) मनरेगा के तहत राज्य के हर सूखाग्रस्त जिले में हर गाँव में काम उपलब्ध करवाया जाए, चाहे उसकी औपचारिक माँग हुई हो या नहीं ; ख) मनरेगा के काम को भूमि और पानी संरक्षण के लिए इस्तेमाल किया जाए, ताकि भविष्य में सूखे का सामना करने की क्षमता विकसित हो सके ; ग) काम के पंद्रह दिन के भीतर मजदूरी का भुगतान किया जाए, इसमें किसी भी तरह की देर होने पर दोषी व्यक्ति को सजा दी जाए ; घ) सूखे के समय लोगों को रोजगार न देने, उनके भुगतान में भ्रष्टाचार करने या मशीनों से काम करवाने की शिकायत पर सख्त कार्रवाई हो.

5 राशन व्यवस्था के जरिये खाद्यान्न संकट का मुकाबला
सूखे के चलते गाँवों में गरीबों के खान-पान पर असर पड़ रहा है. सूखे से खाद्यान्न की कमी और अकाल जैसे हालात न उत्पन्न हों, इसके लिए ज़रूरी है कि राशन व्यवस्था के जरिये जरूरतमंद लोगों तक सस्ता खाद्यान्न पहुंचाया जाए. लेकिन राज्य की सार्वजनिक आपूर्ति व्यवस्था आज यह करने में पूरी तरह से असमर्थ है. लाल कार्ड, पीले और सफ़ेद कार्ड वितरित करने की व्यवस्था में कोई न्यायसंगत आधार दिखाई नहीं देता. हर गाँव में बड़ी संख्या में गरीब परिवारों को पीला कार्ड दिया गया है, जिसके कारण वे सस्ते खाद्यान्न से वंचित हैं. चूँकि सरकार के लिए तुरंत इन कार्डो का पुनर्वर्गीकरण संभव नहीं है, इसलिए सूखाग्रस्त इलाको में सभी परिवारों को सूखे की अवधि के दौरान 60 किलो खाद्यान्न उपलब्ध कराया जाय. इस दौरान उनसे इस खाद्यान्न का वही दाम लिया जाए, जो कि लाल कार्ड धारकों से लिया जाता है. जिन परिवारों के पास कोई भी कार्ड नहीं है, उन्हें भी सूखे के दौरान यही सुविधा एक अस्थायी प्रमाण पत्र के माध्यम से दी जाए.

6 आत्महत्या करने वाले किसानों के परिवार को मुआवजा
हाल ही में तेलंगाना सरकार ने एक शासनादेश के जरिये आत्महत्या करने वाले किसानों के परिवारों को दिए जाने वाली मुआवजे की एक सुसंगत व्यवस्था बनाई. हमारा सुझाव है कि उत्तर प्रदेश सरकार भी ऐसा ही एक आदेश जारी कर आज की व्यवस्था में सुधार कर सकती है. इस नयी व्यवस्था के तहत: (क) आत्महत्या के शिकार परिवारों की पहचान में तकनीकी औपचारिकताओं को खत्म किया जाना चाहिए ; (ख) जमीन जोतने वाले भूमिहीन परिवारों को भी इस मुआवजे का लाभ मिलना चाहिए ; (ग) मुआवजे में परिवार के बकाया कर्ज को माफ़ करने, तात्कालिक राहत राशि, विधवा के लिए रोजगार और बच्चों के लिए शिक्षा की व्यवस्था होनी चाहिए.

7 जानवरों के लिए ‘चारा छावनी’ की व्यवस्था
इस समय पूरे प्रदेश में मवेशियों के लिए भारी आपदा की स्थिति है. पिछली गेहूँ की फसल अतिवृष्टि से खराब होने के कारण चारा भी बर्बाद हो गया था. अब खरीफ की फसल सूख जाने की वजह से ज़हरीली हो रही है. सूखा जहरीला चारा खाकर जानवरों के मरने की खबर आ रही है. जो परिवार बाहर से महँगा चारा (वर्तमान बाजार भाव 600 से 800 रूपए प्रति क्विंटल) खरीदकर अपने जानवरों को नहीं खिला सकता, वह इस विपदा की स्थिति में मजबूर होकर जानवरों को औने-पौने दाम पर बेच रहा है, या फिर उन्हें गाँव के बाहर छोड़ रहा है. एक गाँव के लोग दूसरे गाँव में जानवरों को चरने के लिए छोड़ रहे हैं. चारों ओर अफरा-तफरी मची है. इससे जानवरों के प्राणों को खतरा तो है ही, छूटे हुए जानवरों द्वारा फसल बर्बाद करने की संभावना भी है. इस आपात स्थिति से बचने के लिए सरकार को बिना देर किए महाराष्ट्र की तर्ज़ पर ‘चारा छावनी’ बनानी चाहिए. इन चारा छावनियों में सैकड़ों मवेशियों को एक साथ रखकर सरकार की ओर से चारा और पानी उपलब्ध किया जाना चाहिए. सरकार उचित समझे तो इस काम मे स्वंयसेवी संगठनों, गौशालाओं और अन्य पशुपालक संगठनों को शामिल कर सकती है.

8 सूखाग्रस्त इलाकों में नलकूपों की मरम्मत के बाद
सूखाग्रस्त इलाकों में तालाब और पानी के अन्य स्रोत सूख गए हैं। इसलिए इंसान और मवेशी, दोनों पानी के लिए नलकूपों पर निर्भर हैं. लेकिन प्रायः हर गाँव में कई नलकूप छोटी-मोटी मरम्मत के अभाव में काम नहीं कर रहे हैं. इससे गाँववासियों , खास तौर पर औरतों को, बेहद कष्ट उठाना पड़ रहा है. अतः सरकार एक मिशन की तरह पूरे प्रदेश में नलकूपों की मरम्मत का काम अगले 2 हफ्ते में संपन्न कराए.

9 सिंचाई के लिए बिजली आपूर्ति
सूखे की मार से परेशान किसान अपने बोरबेल या ट्यूबवेल के ज़रिये अपनी फसल को बचने की चेष्टा कर रहा है लेकिन बिजली की आपूर्ति अपर्याप्त होने या समयबद्ध तरीके से न होने के कारण वह फसल को बचाने में असमर्थ रहता है. बिजली का विकल्प है डीज़ल, लेकिन वह इतना मंहगा पड़ता है कि किसान उसका इस्तेमाल नहीं कर सकता इसलिए अब रबी की फसल के लिए बिजली नियमित रूप से उपलब्ध करवाई जाए. जहाँ ज़रुरत हो वहां बिजली के बिलों को कुछ समय के लिए स्थगित किया जाये.

मुझे आशा है कि आप इन सुझावों की मूल भावना का सम्मान करेंगे। इस पत्र का उदेश्य आलोचना या दोषारोपण नहीं है। इस राष्ट्रीय संकट की घडी में सभी को मिलकर काम करना है. हमारी टीम ने प्रदेश में भ्रमण कर कर किसानो के दुःख-तकलीफ़ को सुना – समझा है. इसलिए हमारा फर्ज़ बनता है कि हम उनकी आवाज़ को आप तक पहुँचाएँ. देश के इस सबसे बड़े प्रदेश की जनता इस आपदा के वक्त आप की सरकार की तरफ देख रही है. मुझे विश्वास है कि आप उनकी इन आशाओं पर खरे उतरेंगे।

भवदीय,

योगेन्द्र यादव
राष्ट्रीय संयोजक
जय किसान आन्दोलन

One Comment to “उ.प्र में सूखा और किसानों की दुर्दशा: मुख्यमंत्री के नाम सुझाव-पत्र (योगेन्द्र यादव)”

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: