अरविंद केजरीवाल : रहस्य स्टील के गिलास का

AKHungerstrikeअरविंद केजरीवाल, मनीष सिसोदिया, और गोपाल राय, सैंकड़ों अन्य स्वयंसेवकों के साथ 25 जुलाई July 2012 को भ्रष्ट मंत्रियों के खिलाफ SIT घोषित करने की मांग के साथ अनिश्चितकालीन अनशन पर बैठ गये| अरविंद केजरीवाल के मधुमेह के रोगी होने के कारण बहुत से लोग उनके अनशन करने के निर्णय से चिंतित थे| अनशन न करने के लोगों हजारों लोगों के अनुरोध एवं मेडिकल क्षेत्र के विशेषज्ञों की चेतावनी को दरकिनार कर अरविंद अपने फैसले पर अडिग रहे और अनशन पर बैठ गये|

मैं मधुमेह रोग का विशेषज्ञ चिकित्सक हूँ और मुझे पता था कि वे एक जिद्दी रोगी हैं और उनका एलोपैथिक पद्धति पर कम और नेचुरोपैथी (प्राकृतिक चिकित्सा) पर ज्यादा विश्वास है| एक चिकित्सक के नाते मेरे लिए वे पहले ही catabolic अवस्था के मरीज थे, और उनका शुगर लेवल कुछ समय से अनियंत्रित था, और यह तय था कि अगर वे उपवास पर जाते हैं तो ketosis का ख़तरा उन पर छायेगा ही छायेगा|

उनके अनशन से पहले मुझे बहुत सी मेडिकल सामग्री पढनी पड़ी यह सीखने के लिए कि अगर मधुमेह का रोगी उपवास करता है तो उसकी शारीरिक स्थितियों को कैसे नियंत्रित किया जा सकता है| कुछ ऐसी रिपोर्ट्स थीं जहां मधुमेह के रोगी लम्बी भूख हड़ताल के बावजूद जीवित बच गये| मैं अरविंद के लगातार संपर्क में था और जंतर मंतर पर उनके अनशन के दौरान उनके साथ रहने के लिए सहमत था| Dr Atul Gupta (Anesthesiologist) और Dr Vipin Mittal (dentist) अरविंद और अन्य उपवासियों की देखभाल कर रही मेडिकल टीम के मुखिया थे| दोनों फोन के दवारा निरंतर मेरे संपर्क में थे, क्योंकि उपवास के तीन दिनों तक मुझे जयपुर में ही रुकना पड़ा जहां मेरे कुछ साथी अनिश्चितकालीन भूख-हड़ताल पर जमे हुए थे|

28 जुलाई 2012 को सुबह-सवेरे ही मैं जंतर-मंतर पहुँच गया| मैंने अरविंद की जांच की और उनकी मेडिकल स्थिति की ताजा रपटें पढीं| जैसा कि अपेक्षित था वे ketosis की अवस्था में पहले ही आ चुके थे| सुनीता केजरीवाल (अरविंद की धर्मपत्नी), ड़ा. मित्तल, और रणसिंह आर्य (प्राकृतिक चिकित्सक) मेरे साथ थे और मधुमेह रोग का विशेषज्ञ होने के नाते मैं उन्हें अरविंद की मेडिकल स्थिति और संभावित खतरों के बारे में समझा रहा था| एलोपेथिक चिकित्सा की परिभाषा से वे पहले ही उस स्थिति में पहुँच चुके थे जहां उन्हें अस्पताल में भर्ती किया जाना जरूरी था, हालांकि वे बाहर से ठीक दिखाई दे रहे थे और आत्मविश्वास से भरे हुए थे पर उनकी मेडिकल जांच रपट में ketone का स्तर बहुत ज्यादा था| अरविंद को अस्पताल में भर्ती करे जाने के लिए तैयार करना बहुत कठिन था, वे जब तक कि बेहोश न हो जाएँ तब तक वहाँ से हटने को तैयार नहीं थे| हमारे पास उस समय तक उन पर निगाह रखने के सिवा कोई चारा नहीं था जब तक कि वे गंभीर रूप से बीमार न हो जाएँ| ड़ा. मित्तल को सांत्वना मिली यह जानकर कि मैं उपवास के खत्म होने तक चौबीसों घंटे वहाँ रहूंगा और अरविंद की मेडिकल स्थितियों पर नजर रखूंगा| चिकित्सक की दृष्टि से देखूं तो यह एक चमत्कार ही था कि अरविंद अगले एक हफ्ते तक अनशन पर डटे रहे|

अरविंद के राजनीतिक विरोधियों ने उनकी मेडिकल स्थितियों और मधुमेह के बावजूद अनशन जारी रखने के बारे में कई कहानियां उडानी शुरू कर दीं| सोशल मीडिया पर उनके स्टील के गिलास को चर्चाओं का केन्द्र बनाया गया| क्योंकि अरविंद कैमरे पर स्टील के गिलास में पानी पीते दिखाए गये थे तो उनके विरोधियों ने कहना शुरू कर दिया कि स्टील के गिलास में जीवन रक्षक द्रव अरविंद को दिया जा रहा था अगर ऐसा न होता तो वे पारदर्शी शीशे के गिलास में पानी पीते| मुझे अब तक आरोप आश्चर्य में डालता है अगर अरविंद स्टील के गिलास में छिपा कर लिक्विड डायट ग्रहण करते तो उन्हें यह सरेआम कैमरों के सामने करने की क्या जरुरत थी?

बहरहाल इन् फिजूल बातों से अलग यह बात मार्के की है कि बिगड़े हुए मधुमेह के रोगी होने के बावजूद वे कैसे 10 दिनों से ज्यादा समय तक अनशन करके जीवित रह पाए?

उनके उपवास की तैयारियां तकरीबन एक माह पूर्व शुरू हो चुकी थीं| हम जैसे एलोपैथिक चिकित्सक ऐसे मामलों से सबन्धित साहित्य पढ़ रहे थे और प्राकृतिक चिकित्सकों की टीम उनके शरीर को एक लंबे उपवास के योग्य बनाने में जुटी हुयी थी| तथ्यात्मक रूप से अगर अरविंद इतने लंबे उपवास के बावजूद बच पाए तो इस एक कारण से कि उन्होंने प्राकृतिक चिकित्सकों दवारा उनके लिए तैयार किये गये प्रोटोकोल का पूरी तरह से पालन किया| अरविंद का विश्वास एलोपैथी पर नहीं था और हम वहाँ केवल किसी आपातकालीन स्थिति से निबटने के लिए उपस्थित थे| हमने उनके स्वास्थ्य का नियमित रिकार्ड बनाया और मीडिया को इसके बारे में नियमित रूप से अपडेट करते रहे| प्राकृतिक चिकित्सकों की टीम अनुभवी थी और मधुमेह के रोगियों के उपावास को पहले संभाल चुकी थी| बल्कि उन्होंने यह तक दावा किया कि वे लमने उपास के माध्यम से ही मधुमेह के कुछ रोगियों को ठीक कर चुके थे| उनकी तैयारी अच्छी और उनका आत्मविश्वास दृढ़ दिखाई देता था|

प्राकृतिक चिकित्सकों ने उपवास से एक माह पहले अरविंद की डायट को इस तरीके से संचालित किया जिससे उनका शरीर भरपूर मात्रा में प्रोटीन ग्रहण कर सके और उनके भोजन में कार्बोहाइड्रेट की मात्रा न्यूनतम हो| इस डायट से संभावना थी कि उनके शरीर की पाचन व्यवस्था anabolic अवस्था की ओर अग्रसारित होगी| जब उन्होंने उपवास शुरू किया अताब तक उनके शरीर में प्रोटीन की अच्छी खासी मात्रा संचयित हो चुकी थी और अब तक उनका शरीर भोजन में कार्बोहाइड्रेट के निम्न स्तर का आदि हो चुका था|

अरविंद एरोबिक्स, योग और प्राणायाम के संयुक्त प्रोटोकोल (तीनों एक एक घंटे की अवधि के लिए) का भली भान्ति पालन कर रहे थे| व्यायाम और प्राणायाम के इस संयुक्त कार्यक्रम ने उनके शरीर की Insulin संवेदनशीलता को बढ़ाया होगा और beta cell function में बढोत्तरी की होगी| इसी अनुशासन के कारणउपवास के शुरुआती दिनों में glycemic नियंत्रण स्थायी रहा जबकि उनकी मधुमेह की दवाइयां बंद की जा चुकी थीं| वास्तव में उनकी सारी anti-diabetic medicines उपवास से कुछ दिन पहले ही बंद कर डी गई थीं और ऐसा करना इसलिए उपवास के दौरान hypoglycemia की स्थिति न उत्पन्न हो जाए|

उपवास के दौरान शरीर में एक उचित हाइड्रेशन बनाए रखने के लिए उन्हें समुचित मात्रा में पानी पीने के लिए दिया गया| शरीर में हाइड्रेशन का स्तर अच्छा बनाए रखने के साथ पानी का काम उपवास के कारण शरीर में उत्पन्न ketone को बाहर निकाल भी था| उपवास के दौरान, जब कि रोगी को खाना नहेने दिया जाता तो उसके शरीर में जमा वसा (फैट) ऊर्जा देने के काम आती है| पर इस क्रिया के दौरान Ketone bodies भी उत्पन्न हो जाती हैं जो शरीर के लिए बेहद हानिकारक हैं|

समुचित हाइड्रेशन स्तर बनाए रखने के साथ साथ शरीर से ketone bodies और अन्य toxins को बाहर निकालने के लिए अरविंद को प्राकृतिक चिकित्सा के महत्वपूर्ण तरीके कुंजल और एनिमा भी दैनिक स्तर पर अपनाने पड़े|

अरविंद की शारीरिक गतिविधियों को न्यूनतम स्तर पर नियंत्रित करके कैलोरीज के खर्च होने पर नियंत्रण पाया गया| उन्हें न ताली जा सकने वाली बिल्कुल आवश्यक गतिविधियों से ज्यादा चलने फिरने नहीं दिया गया| कैलोरीज क्रचने के स्तर को नियंत्रित करके ketone bodies के उत्पन्न होने को नियंत्रित किया जा सकता है क्योंकि अब वसा की कम मात्रा शरीर में पचाई जा रही है|

उनकी शारीरिक जांच नियमित रूप से की जा रही थी और उनके शरीर की बायोकमिस्ट्री भी नियमित जांची जा रही थी| उन्हें नियमित रूप से जांच के लिए खून के सैम्पल देने में एतराज था| उपवास के अंतिम पांच दिन एलोपैथी में विश्वास करने वाले सभी लोग बेहद चिंतित हो चले थे| उनका ketones का स्तर 4+ और 5+ के बीच झूल रहा था, electrolytes असामान्य अवस्था में थे और अंतिम 3 दिनों में bilirubin भी बढ़ना शुरू हो गया था| लेकिन रपट में इन् सब आकंडों में लगातार वृद्धि होने से शरीर के लगातार कमजोर होते रहने के बावजूद अरविंद पूरी तरह से जीवंत थे और अपने निश्चय पर अडिग|

उपवास के छठवें दिन ketone bodies का स्तर स्थायीत्व को प्राप्त कर गया और उससे ज्यादा नहीं बढ़ा| उस समय तक उनके शरीर ने शायद सारे संचित फैट का क्षय कर लिया था, और नके शरीर की कैलोरीज की आपूर्ति के लिए प्रोटीन्स टूट गये थे और यह यूरिक एसिड लेवल के बढे होने से भी सिद्ध हो रहा था|

सरकारी डाक्टरों की एक टीम अरविंद की जांच करने आई और उन्होंने दबाव डाला कि अरविंद को अविलम्ब अस्पताल में भर्ती करवाना चाहिए| हमारे डाक्टरों की टीम तब तक अरविंद के अपने विश्वास में अपना विश्वास समाहित कर चुकी थी और सब अरविंद के समर्थन में खड़े रहे| जीवन और मृत्यु का मामला आते ही कोई भी चिकित्सक तनिक भी ख़तरा नहीं उठाना चाहता| सरकारी डाक्टरों ने वही सलाह डी थी जो मैंने उपवास के चौथे दिन अरविंद को दे थी| भोपाल से आए हुए cardiologist, Dr Ayyar, ने भी यही सलाह दी|

चौबीसों घंटे जंतर मंतर पर उपस्थित देशभक्ति के गीत गाते, उन पर झूमते, और तिरंगा लहराते दीवाने लोगों और स्वयंसेवकों के मध्य हम लोग भी केवल मेडिकल जांच रपटों पर ही विश्वास करने वाले चिकित्सक न रहकर उन जैसे आम भारतीय ही बन चुके थे, जिनका प्रारब्ध पर पूर्ण विश्वास था|

मैं 2 अगस्त के शाम को जीवन भर नहेने भूल सकता जब अन्ना हजारे ने घोषित किया कि अरविंद एवं साथी अगले दिन उपवास तोड़ देंगें| मेरे हाथ में अरविंद की नवीनतम मेडिकल रपट थी और उनका serum pottasium 3.2,(सामान्य स्तर 3.5-5 meq/l) था| Hypokalemia एक बेहद खतरनाक स्थिति है और उनके स्तर खतरनाक स्थिति की ओर जा रहे थे| Further drop in Potassium के स्तर में और घटोत्तरी का मतलब था एकदम से ह्रदय समस्या के खतरे का उत्पन्न होना|

मैं उस जगह गया जहां अरविंद को रखा गया था| वे उस वक्त अकेले थे| मैंने उन्हें potassium के कम स्तर के बारे में सूचित किया और इससे होने वाले खतरों के प्रति सचेत किया| मैंने उनके सामने तर्क दिया – “अन्ना पहले ही देश के सामने घोषित कर चुके हैं कि उपवास कल टूट जायेगा और हम लोग देश को एक राजनीतिक विकल्प देने जा रहे हैं तो आज की रात के खतरे को नजरअंदाज करना ठीक नहीं होगा| जब कल उपवास टूटना ही है तो आज की रात आपके जीवन को खतरे में डालने का क्या मतलब है| अगर आप थोड़े से नारियल पानी का सेवन कर लें तो potassium का स्तर सामान्य हो सकता है, और आपके जीवन से एक बड़ा ख़तरा टल सकता है और नारियल पानी के सेवन से आपका उपवास भी नहीं टूटेगा| इसे आपद-धर्म समझा जाए”|

अरविंद ने कहा,

“ड़ा. पारिख, मैं ईश्वर को धोखा नहीं दे सकता, हम दोनों के सिवा यहाँ कोई और नहीं है पर ईश्वर तो हमारे साथ सदैव ही है| अन्ना ने कहा है कि उपवास कल टूटेगा तो यह कल ही टूटेगा उससे पहले नहीं| चाहे जो कुछ भी मेरे साथ हो जाए, और चाहे मेरा निश्चय सार्थक न लगता हो, पर मैं मुँह से कुछ भी ग्रहण नहीं करूँगा जब तक कि कल अन्ना घोषणा न कर दें”|

क्या उन्हें जिलाए हुए था तमाम प्रतिकूल शारीरिक परिस्थितियों में? क्या रहस्य था स्टील के गिलास का? ये रहस्य हैं – कर्म में दृढ़ विश्वास, लक्ष्य में पूर्ण आस्था और अगर आवश्यकता हो तो अंतिम त्याग करने की पूर्ण तैयारी|
जंतर मंतर पर व्यतीत किये गये सात दिनों में मैं मुश्किल से ही सो पाया और उस रात तो मैं एक झपकी तक न ले पाया| Potassium के घटते स्तर का ग्राफ मेरी आँखों के सामने तैरता रहा| लेकिन, यह आदमी- अरविंद केजरीवाल, जिसे यह विश्वास नहीं था कि वह अगली सुबह जीवित उठ पायेगा या नहीं, शान्ति से अपने बिस्तर पर सो रहा था|
अगले दिन, अरविंद के उपवास तोड़ने के बाद, जयपुर जाने के लिए जंतर मंतर से निकलने से पहले मैं भीड़ से घिरे अरविंद के पास गया| मैंने उनके कक्ष के दरवाजे से उनकी ओर हाथ हिलाया और अरविंद ने मुझे अंदर बुलाया और बाहें खोल कर मुझे गले लगा लिया| मेरे सब्र का बाँध टूट गया और उनकी बाहों में बंध कर मैं एक बच्चे की भांति फूट-फूट कर रो पड़ा| मैं इस भावुकतापूर्ण क्रंदन के पीछे कोई कारण नहीं खोज पाता| यही वे क्षण थे जब मैं एक बहुत बड़े तनाव और दबाव से मुक्त हुआ| मेरे कन्धों पर एक बहुत बड़ी जिम्मेदारी थी एक ऐसे आदमी की मेडिकल देखरेख की जिसे लाखों भारतीय युवा प्रेम करते हैं और जिसकी ओर समूचा देश आशा भरी दृष्टि से देख रहा था| हर क्षण उनका जीवन ईश्वर की दया के वश लगता था जबकि बाकी लोगों का विश्वास था कि उनकी देखरेख एक कुशल चिकित्सक के हाथों हो रही है| शायद इसी दबाव से मुक्ति आंसुओं के रास्ते बह निकली|

 

[ड़ा. राकेश पारिख]

मूल लेख

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: