Archive for जून, 2014

जून 27, 2014

हट जाओ : आपातकाल पर :अज्ञेय” की कविता (४)

तुम agyeya
चलने से पहले
जान लेना चाहते हो कि हम
जाना कहां चाहते हैं।
और तुम
चलने देने से पहले
पूछ रहे हो कि क्या हमें
तुम्हारा
और तुम्हारा मात्र
नेतृत्व स्वीकार है?

और तुम
हमारे चलने का मार्ग बताने का
आश्वासन देते हुए
हम से प्रतिज्ञा चाहते हो
कि हम रास्ते-भर
तुम्हारे दुश्मनों को मारते चलेंगे।

तुम में से किसी को हमारे कहीं पहुंचने में
या हमारे चलने में या हमारी टांगें होने
या हमारे जीने में भी
कोई दिलचस्पी नहीं हैः
उस में
तुम्हारा कोई न्यास नहीं है।

तुम्हारी गरज़
महज़
इतनी है कि जब हम चलें तो
तुम्हारे झंडे ले कर
और कहीं पहुंचें तो वहां
पहले से (और हमारे अनुमोदन के दावे के साथ)
तुम्हारा आसन जमा हुआ हो।

तुम्हारी गरज़
हमारी गरज़ नहीं है
तुम्हारे झंडे
हमारे झंडे नहीं हैं।
तुम्हारी ताक़त
हमारी ताक़त नहीं है, बल्कि
हमें निर्वीर्य करने में लगी है।

हमें अपनी राह चलना है।
अपनी मंज़िल
पहुंचना है
हमें
चलते-चलते वह मंज़िल बनानी है
और तुम सब से उसकी रक्षा की
व्यवस्था भी हमें चलते-चलते करनी है।

हम न पिट्ठू हैं न पक्षधर हैं
हम हम हैं और हमें
सफ़ाई चाहिए, साफ़ हवा चाहिए
और आत्म-सम्मान चाहिए जिस की लीक
हम डाल रहे हैं:

हमारी ज़मीन से
हट जाओ।

(अज्ञेय)

छवि एवं कविता : साभार – श्री ओम थानवी, संपादक “जनसत्ता”

Advertisements
जून 27, 2014

आतंक : आपातकाल पर “अज्ञेय” की कविता (३)

ऊपर agyeya
साँय-साँय
बाहर कुछ
सरक रहा
दबे पाँवः
अंधकार में
आँखों के अँगारे
वह हिले —
वहाँ — क्या उतरा वह?
रोंए सिहर रहे,
ठिठुरा तनः
भीतर कहीं
धुकधुकी —
वह — वह — क्या पसरा वह?
बढ़ता धीरे-धीरे
पथराया मन
साँस रुकी —
हौसला
दरक रहाः
वे आते होंगे —
ले जाएँगे…
कुछ — क्या —
कोई —
किसे —
कौन? …

(अज्ञेय)

छवि एवं कविता : साभार श्री ओम थानवी – संपादक “जनसत्ता”

जून 27, 2014

बौद्धिक बुलाए गए : आपातकाल पर “अज्ञेय” की कविता (२)

हमें agyeya
कोई नहीं पहचानता था
हमारे चेहरों पर
श्रद्धा थी।
हम सब को
भीतर बुला लिया गया।

उस के चेहरे पर
कुछ नहीं था
उस ने हम सब पर एक नज़र डाली।
हमारे चेहरों पर
कुछ नहीं था।

उस ने इशारे से कहा
इन सब के चेहरे
उतार लो।
हमारे चेहरे उतार लिये गये।

उस ने इशारे से कहा
इन सब को सम्मान बाँटोः
हम सब को
सिरोपे दिये गये
जिन के नीचे नये
चेहरे भी टँके थे।

उस ने नमस्कार का इशारा किया
हम विदा कर के
बाहर निकाल दिये गये।

बाहर
हमें सब पहचानते हैं:
जानते हैं
हमारे चेहरों पर
नये चेहरे हैं।

जिन पर श्रद्धा थी
वे चेहरे भीतर
उतार लिये गए थेः
सुना है
उन का निर्यात होगा।

विदेशों में
श्रद्धावान चेहरों की
बड़ी माँग है।
वहाँ
पिछले तीन सौ बरस से
उन की पैदावार बंद है।

और निर्यात बढ़ता है
तो हमारी प्रतिष्ठा बढ़ती है।

(अज्ञेय )

छवि एवं कविता : साभार श्री ओम थानवी – संपादक “जनसत्ता”

जून 26, 2014

संभावनाएं : आपातकाल के दौरान “अज्ञेय”

अब आप ही सोचिएagyeya
कितनी संभावनाएं हैं।
– कि मैं आप पर हंसूं
और आप मुझे पागल करार दे दें;
– या कि आप मुझ पर हंसें
और आप ही मुझे पागल करार दे दें;
– या आप को कोई बताये कि मुझे पागल करार दिया गया
और आप केवल हंस दें…
– या कि
हंसी की बात जाने दीजिए
मैं गाली दूं और आप –
लेकिन बात दोहराने से लाभ?
आप समझ तो गये न कि मैं कहना क्या चाहता हूं?
क्यों कि पागल
न तो आप हैं
न मैं;
बात केवल करार दिये जाने की है –
या, हां, कभी गिरफ्तार किये जाने की है।
तो क्या किया जाए?
हां, हंसा तो जाए –
हंसना कब-कब नसीब होता है?
पर कौन पहले हंसे?
किबला, आप!
किबला, आप!
(अज्ञेय)

[ हिंदी के महान कवि अज्ञेय इमरजेंसी के मुखर विरोधी और जयप्रकाश नारायण के सहयोगी थे; जेपी के साप्ताहिक एवरीमेंस वीकली का उन्होंने संपादन किया। अज्ञेय ने इमरजेंसी के खिलाफ कविताएं भी लिखीं। यह मार्च 1976 में लिखी गई थी]

कविता और अज्ञेय की छवि – साभार : श्री ओम थानवी, संपादक “जनसत्ता

जून 14, 2014

बसंत : (अज्ञेय)

Vasant1

Vasant2

Vasant3

Vasant4

Vasant5

Vasant6

Vasant7

Vasant8

टैग: , ,
जून 13, 2014

एकांकी नाटक : अज्ञेय की दृष्टि में

Ekanki1

Ekanki2

Ekanki3

Ekanki4

Ekanki5

Ekanki6

टैग: , ,
जून 12, 2014

सीमा रेखा (विष्णु प्रभाकर) : राजतंत्र में बदलता लोकतंत्र!

जब ब्रिटिश राज से भारत ने राजनैतिक स्वतंत्रता प्राप्त करके भारत में लोकतंत्र की स्थापना की और भारत का संविधान बनाया तो सब कुछ आदर्शवादी तासीर वाला रहा होगा| पर शनैः शनैः लोकतंत्र की मूल भावना से खिलवाड किया जाता रहा और जनप्रतिनिधि जन सेवक न बनकर जनता के राजा बनने लगे और जनता के अधिकार सीमित होते गये| विष्णु प्रभाकर ने आदर्शवाद और कुटिल राजनीति के यथार्थवाद की टक्कर एक ही घर के सदस्यों के आपसी वैचारिक टकराव के माध्यम से दर्शाई है इस एकांकी – सीमा रेखा में| हो सकता है जब यह लिखा गया होगा तब इसे समय से आगे का, या प्रभाकर जी की अति संवेदनशील कल्पना की उपज माना गया होगा पर भारतीय लोकतंत्र के वर्तमान में हालात देखकर यह एकांकी सार्थक, संगत और महत्वपूर्ण बन गया है|
SeemaRekha1

SeemaRekha2

SeemaRekha3

SeemaRekha4

SeemaRekha5

SeemaRekha6

SeemaRekha7

SeemaRekha8

SeemaRekha9

SeemaRekha10

SeemaRekha11

SeemaRekha12

SeemaRekha13

जून 5, 2014

लोकतंत्र … James Mercer ‘Langston Hughes’

लोकतंत्र नहीं आएगा Langston Hughes

आज,

इस साल,

या और कभी

…समझौतों और भय के द्वारा तो कभी नहीं आएगा! 

 

मेरा भी उतना ही अधिकार है

जैसे किसी और का है

अपने पैरों पर खड़े होने का

और जमीन का टुकड़ा लेने का!

 मैं थक जाता हूँ

लोगों को कहता पाकर –

कि सभी बातों को वक्त लेने दो,

वे खुद से हो जाएँगी

कल किसने देखा है?

मुझे मरने के बाद स्वतंत्रता नहीं चाहिए

मैं कल के सपन पर जिंदा नहीं रह सकता!

स्वतंत्रता

एक बेहद शक्तिशाली बीज है

को कि

बोया जाता है

सबसे ज्यादा जरुरत के समय! 

मैं भी यहाँ रहता हूँ

मुझे स्वतंत्रता चाहिए

जैसे कि तुम्हे चाहिए!

–  Langston Hughes –

(February 1, 1902 – May 22, 1967)


 

जून 4, 2014

अलगाव : सब जान लें इसके बारे में

बजरिये  इश्तेहार womanleavingman-001
ये एलान किया जाता है
अब “हम”,
“मैं” और “वो” हो गए हैं
मेरे और उन के
अलहदा अलहदा
आधे आधे वज़ूद
आवारा फिर रहे हैं
खासो आम को हिदायत है
हमारे बाकी आधे तलाश न करे
जुदाई के तिराहे पे
नये बाज़ार खड़े हो गए हैं
पीछे के रास्ते में बबूल के जंगल उग आये  हैं
Rajnish sign
जून 4, 2014

आखिरी ख़त

बहुत देर से शब्द मिल नहीं रहे हैं…tum-001

खाली कुएं से तो अपनी ही आवाज़ लौटेगी न

अब किसको आवाज़ दूं?

किसको पुकारूं??

दिल का खला भरा नहीं अब तक

तेरे इंतज़ार में आँखें पत्थर हो गयीं

आवाज़ भी अपनी ग़ुम गयी जैसे

दिल के कुएं से टकरा के वापस जो नहीं आई…

सोचता हूँ कि आखिरी ख़त भी लिख रखूं

तुम इस का जवाब मत देना

मैं मुन्तजिर न रहूँगा

ये सिलसिला-ऐ-तबादला-ऐ- ख्याल रुक जाये अब

बेवज़ह गर्म ख्यालों का जवां रहना ठीक तो  नहीं

ये सिलसिला सौ नए अरमानो का वायस बनता है

ये नहीं टूटेगा तो लाजिमी दिल टूट जायेंगे

बंद करना ही होगा हर रास्ता

हर झरोखे के मुंह पे पत्थर रखना ही होगा

मुलाकात की हर वज़ह मिटानी ही  होगी

मिटाने होंगे

इस किराये के मकां के पते के निशां

कल से मैं तुम्हे नहीं मिलूँगा यहाँ…

Rajnish sign

%d bloggers like this: