Archive for अप्रैल 30th, 2014

अप्रैल 30, 2014

दाने दाने पर कहाँ लिखा है जरूरतमंद का नाम?

हैम्बुर्ग पहुंचकर हम एक रेस्त्रां के अंदर गये| अंदर हमने देखा कि ज्यादातर मेजें खाली थीं| एक मेज पर एक युवा जोड़ा खाना खा रहा था| हमने ध्यान दिया कि उनके सामने मेज पर केवल दो तश्तरियाँ और दो ग्लास बीयर के रखे थे|
जर्मनी एक विकसित और औधोगिक देश है| ऐसा अनुमान सहज ही प्रतीत होता है कि ऐसे विकसित देश के निवासी आरामदायक और ऐश्वर्य से भरपूर ज़िंदगी जीते होंगे|

युवा जोड़े को इतना सादा खाना खाते देख लगा कि इस दावत में रोमांटिक भाव कहाँ हैं और निश्चित ही यह युवती इस कंजूस लड़के को जल्द ही अलविदा कह देगी|

एक अन्य कोने की मेज पर कुछ वृद्धाएं बैठी थीं| जब भी वेटर कोई डिश लेकर आता वह उन सबमें उसे बांट देता और महिलायें अपनी प्लेटों में परोसे गये खाने को पूरी तरह से खाकर समाप्त कर देती थीं|

हम लोगों को बहुत भूख लगी थी| स्थानीय साथी ने हम लोगों के लिए बहुत सा खाना आर्डर कर दिया| जब हमने मेज छोड़ी तो हमारे मेज पर कम से कम एक तिहाई से ज्यादा खाना बचा हुआ था|

जब हम रेस्त्रां से निकल रहे थे| एक वृद्धा ने हमसे अंग्रेजी में बात शुरू कर दी| हमें महसूस हुआ कि उन महिलाओं को हमारा मेज पर इतना सारा खाना छोड़ना अच्छा नहीं लगा|

“हमने खाने का पैसा दिया है और यह आप लोगों का मसला नहीं है कि हम कितना खाते हैं या कितना प्लेट में छोड़ देते हैं”| साथी ने थोड़े गुस्से से महिला को जवाब दिया|

महिलायें क्रोधित हो गयीं| उनमें से एक ने तुरंत पर्स से फोन निकाल कर किसी को फोन किया और कुछ ही देर में वर्दी पहने हुए सोशल सिक्योरिटी संस्था का प्रतिनिधि वहाँ हमारे सामने खड़ा था|
मामले को जानकर उसने हम पर 50 यूरो का फैन लगा दिया| हम चुप रहे|
अधिकारी ने गंभीर आवाज में हमें चेताया,” उतना ही आर्डर करो जितना आप लोग खा सकते हो| धन अवश्य ही आपका अपना है पर संसाधन पूरे देश और समाज की सामूहिक संपत्ति हैं| दुनिया में बहुत हैं जिनके पास साधन नहीं हैं और आपको कोई हक नहीं है संसाधनों को नष्ट करने का”|

धनी जर्मनी के लोगों के विचारों ने हमें शर्मिंदगी में धकेल दिया| हमें वाकई गहरे में विचार करने की जरुरत है| हमारा देश एक गरीब देश है| संसाधनों की कमी है|

हम भारी मात्रा में खाना बेकार करते हैं| दावतों में भी और रोजमर्रा के स्तर पर व्यक्तिगत जीवन में भी|

[जर्मनी में एक व्यक्ति के साथ हुये हादसे की कथा]

Advertisements
अप्रैल 30, 2014

ध्रुवीकरण के धुरंधर – रवीश कुमार (NDTV)

Muslim tirangaमुसलमान एक तरफ़ जाएगा तो उसके ख़िलाफ़ हिन्दू दूसरी तरफ़ जाएगा। इससे मिलता जुलता विश्लेषण आप टीवी पर ख़ूब सुनते होंगे। मतदान की आती तस्वीरों के साथ टीवी स्टुडियो में बैठे जानकार किस आधार पर यह बात कह रहे होते हैं समझना मुश्किल है। हमारी राजनीति में धार्मिक आधार पर ध्रुवीकरण एक तथ्य है मगर यह मिथक भी है। ध्रुवीकरण सतही और सामान्य व्याख्या का ऐसा औज़ार हो गया है जिसके सहारे जानकार एक मतदाता को साम्प्रदायिक रंग से पेंट कर देते हैं। इसी के साथ एक और मिथक की रचना करने लगते हैं। ‘टैक्टिकल वोटिंग’ का मिथक। क्या अन्य जाति धर्म समूह इस तरह से वोटिंग नहीं करते अगर करते हैं तो क्या वो इस कथित टैक्टिकल वोटिंग के जैसा ही है।

एक साइड मुसलमान तो दूसरी साइड हिन्दू। ऐसा लगता है कि स्टुडियो में बैठे जानकार एक ख़ास समुदाय की तरफ़ इशारा कर रहे हैं कि मुसलमान एकजुट हो रहे हैं । भाजपा के ख़िलाफ़ एकजुट हो रहे हैं लिहाज़ा स्वाभाविक रूप से हिन्दुओं को भी भाजपा के पक्ष में एकजुट हो जाना चाहिए। अख़बारों में भी ऐसी बातें ख़ूब लिखी जा रही हैं। कई बार लगता है कि एक रणनीति के तहत ऐसा किया जा रहा है। मतदान प्रक्रिया का एक अदना सा एक्सपर्ट भी जान सकता है कि कुछेक अपवादों को छोड़ सामान्य रूप से यह बात सही नहीं है। कई बार लगता है कि चुनाव के समय ऐसे विश्लेषणों के सहारे समाज में साम्प्रदायिकता को भड़काने का काम किया जाता है।

क्या हिन्दू हमेशा यह देखकर वोट देता है कि मुसलमान किस तरफ़ वोट दे रहा है या मुसलमान यह देखकर वोट देता है कि हिन्दू किस तरफ़ देता है । इसका वैज्ञानिक आधार क्या है। हर चुनाव में मुस्लिम मतदाता को ब्रांड करने का खेल खेला जाता है। जैसे उसकी अपनी कोई आकांक्षा नहीं है और वो सिर्फ मुसलमान बनकर वोट करता है। अगर ऐसा होता तो यह बात सही होती कि एक आम मुस्लिम मतदाता इमाम बुख़ारी जैसे धर्मगुरुओं के कहने पर ही वोट कर देता। किसी भी चुनाव का आँकड़ा देखेंगे तो यह ग़लत साबित होता है। आम मुस्लिम मतदाता बड़े आराम से मतदान के फ़ैसले में मुल्ला मौलवियों की दख़लंदाज़ी को पसंद नहीं करता। खुलकर बोलता भी है लेकिन मीडिया ऐसे धर्मगुरुओं के बहाने मुस्लिम मतदाताओं का सांप्रदायिकरण करता रहता है।

इसी संदर्भ में एक और बात कहना चाहता हूँ। बाबा रामदेव जैसे कई योग गुरु और धर्मगुरु भी तो किसी पार्टी के लिए वोट मांगते हैं। इमाम बुख़ारी का अपील करना साम्प्रदायिक और बाबा रामदेव या शंकराचार्य का अपील करना राष्ट्रभक्ति। कैसे? मैं दोनों की तुलना नहीं कर रहा लेकिन मूल बात यह है कि सभी प्रकार के मज़हबी नेता चुनाव के वक्त सक्रिय होते हैं। कोई आशीर्वाद के नाम पर इनके पास जाता है तो कोई अपने भाषणों में देवी देवताओं के प्रतीकों का इस्तमाल करके धर्म का इस्तमाल करता है। खुद को ईश्वर का दूत बताना क्या है।

आम मतदाता को इससे सचेत होने की ज़रूरत है। यह भी ध्यान में रखने की बात है कि हमारे तमाम धर्मों के गुरुओं का समाज से गहरा नाता होता है। झट से उनके किसी राजनीतिक आचरण को साम्प्रदायिक क़रार देने से पहले देखना चाहिए कि वे क्यों ऐसा कर रहे हैं। उनका आधार सांप्रदायिक है धार्मिक है या राजनीतिक। अगर विरोध करना है तो एक साथ डेरों, मठों, मस्जिदों की राजनीतिक दख़लंदाज़ी का विरोध कीजिये।

मैं फिर से लौटता हूँ अपनी मूल बात पर। तमाम अध्ययन बताते हैं कि मुस्लिम मतदाता अपनी पसंद के हिसाब से अलग अलग राज्यों में अलग अलग पार्टी और नेता को वोट करता है। मुसलमान एक नहीं कई दलों को वोट करने के साथ साथ बीजेपी को भी वोट करता है। मध्यप्रदेश राजस्थान और गुजरात में भी करता है। हो सकता है कि प्रतिशत के लिहाज़ से कम हो लेकिन आप यह भी तो देखिये कि बीजेपी ने इन राज्यों में लोकसभा के चुनावी मैदान में कितने मुस्लिम उम्मीदवार उतारे हैं। उत्तर प्रदेश में कितने उतारे हैं। पिछले लोक सभा चुनाव में बीजेपी को पचीस छब्बीस प्रतिशत मत मिले थे शेष और पचहत्तर फ़ीसदी मत अन्य दलों को। अगर हिन्दू वोट जैसा कुछ होता तो बीजेपी को पचहत्तर फ़ीसदी वोट मिलते। जो हिन्दू बीजेपी को वोट नहीं करते उनके न करने के आधार क्या हैं। हमारे ये जानकार हिन्दू मतदाताओं के विवेक के साथ भी अन्याय करते हैं। मतदाताओं का अति हिन्दूकरण कर साम्प्रदायिक रंग देते हैं।

चलिये इस बात को एक और तरीके से देखते हैं। हर समुदाय या जाति के लोग अपने उम्मीदवारों को वोट देते हैं। इसी आधार पर कांग्रेस बीजेपी सब अपने उम्मीदवार तय करते हैं। तब भी बीजेपी को हराने के लिए मुसलमान किसी मुसलमान उम्मीदवार को वोट नहीं करता है। वो उसी दल या उम्मीदवार को वोट करेगा जिसके पास पर्याप्त वोट हो। यह वोट कहाँ से आता है। कथित रूप से हिन्दू समाज से ही न। तो यह बात कैसे उचित ठहराई जा सकती है कि हिन्दू एक तरफ़ जाते हैं और मुस्लिम दूसरी तरफ़ । क़ायदे से तो एक दूसरे की पार्टी को हराने के लिए दोनों मिल-जुल कर एक दूसरे के ख़िलाफ़ गोलबंद होते हैं। इसके बाद भी सारे मुसलमान किसी एक व्यक्ति या दल को वोट नहीं करेंगे।

मुसलमानों को कथित रूप से बीजेपी के ख़िलाफ़ पेश किये जाने के बाद भी जानकार जानते हैं कि वे कहीं भी एकमुश्त वोटिंग नहीं करते। यह संभव भी नहीं है। ऐसा होने लगा तो समझिये कि मुस्लिम समाज के भीतर आपसी टकराव ही समाप्त हो जायें। आप भी जानते हैं कि मुसलमानों के बीच अगड़े पिछड़े और दलित मुसलमानों के हक़ को लेकर ज़बरदस्त टकराव है। पिछले दिनों कई राज्यों में जैसे उत्तर प्रदेश, केरल और असम, मुस्लिम दलों का उदय हुआ है क्या ये सभी बीजेपी के ख़िलाफ़ उभरे हैं? नहीं। इनसे चुनौती कांग्रेस सपा बसपा लेफ़्ट को भी मिलती है।

इसीलिए जानकारों को ध्रुवीकरण की बेहद सतही और ख़तरनाक व्याख्या से बचना चाहिए। बनारस में नरेंद्र मोदी जब अपने नामांकन के लिए जा रहे थे तो उस भीड़ में भी कैमरे मुसलमान ढूँढ रहे थे। उनका क्लोज़ अप दिखा रहे थे। मुझे इस बात से आपत्ति है। क्या कैमरे उस भीड़ में शामिल अन्य लोगों को भी उसी निगाह से देख रहे थे। अगर नहीं तो फिर एक या दो मुसलमान की तलाश क्यों हो रही थी। तब भी जब नरेंद्र मोदी के साथ मुख़्तार अब्बास नकवी नज़र आ रहे थे। बीजेपी भले हिन्दुत्व या संघ के कहने पर चले पर उसे मिलने वाला हर वोट इसके लिए नहीं मिलता। बीजेपी के कार्यकर्ता चाहें जितना हिन्दुत्व के रंग रूप में ढल कर आक्रामक हो जायें उनकी पार्टी को मिलने वाला हर वोट हिन्दू वोट नहीं है। ज़्यादातर दलित मतदाताओं को खुद को इस पहचान से जोड़ कर देखे जाने से आपत्ति हो सकती है जबकि हो सकता है कि वो वोट बीजेपी को दें।

हमें जनमत का साम्प्रदायिकरण नहीं करना चाहिए। सांप्रदायिकता और ध्रुवीकरण हमारी राजनीति की ख़तरनाक सच्चाई है लेकिन ऐसा हर जगह किसी एक फ़ार्मूले के तहत नहीं होता कि मुसलमान इधर गए तो हिन्दू उधर चले जायेंगे । कई बार लगता है कि जानकार मुस्लिम मतदाताओं का मज़हबी चरित्र चित्रण करते हुए ग़ैर मुस्लिम मतदाताओं को इशारा कर रहे होते हैं कि उन्हें वोट कहाँ देना चाहिए।

(रवीश कुमार)

अप्रैल 30, 2014

शहीद कैप्टन विक्रम बत्रा की माँ का पत्र नरेंद्र मोदी के नाम

CaptBatraMom69 वर्षीय कमल कांत बत्रा, हिमाचल प्रदेश के हमीरपुर से लोकसभा का चुनाव “आम आदमी पार्टी” के टिकट पर लड़ रही हैं| श्रीमती बत्रा, ने पाकिस्तान द्वारा भारत पर जबरदस्ती थोपे गये कारगिल युद्ध में अपने 24 वर्षीय बेटे कैप्टन विक्रम बत्रा को खोया था| शहीद होने से पहले NDTV को दिए साक्षात्कार में विक्रम बत्रा द्वारा कहा गया जुमला ” ये दिल मांगे मोर” उस समय भारतीय सेना का उत्साह बढाने के लिए चलाये जा रहे कार्यक्रम का नारा बनकर बहुत प्रसिद्द हो गया था|

श्रीमती बत्रा ने भाजपा के पीएम उम्मीदवार नरेंद्र मोदी के नाम खुला पत्र लिखा है|

प्रिय श्री मोदी जी,

आपने अपने चुनाव प्रचार में मेरे शेर बेटे का नाम और उसका नारा – ये दिल मांगे मोर, इस्तेमाल किया है| लोग मेरे बेटे को कारगिल का शेर शाह कहते हैं| जसी समय वह कारगिल युद्ध में शहीद हुआ तब उसकी आयु मात्र 24 साल की थी|

अब आप विक्रम का नाम और उसका नारा इस्तेमाल कर रहे हैं| मुझे आपसे पूछना है कि 1999 से अब तक 15 सालों में न तो आपने न ही भाजपा को न मेरे बेटे की याद आयी न उसके नारे की| अब चुनाव में आपको अचानक ही यह सब याद आ गया और चुनावी फायदे के लिए आपने एक वीर सैनिक की शहादत का सहारा लेना शुरू कर दिया|  यह भ्रष्ट राजनीति का नमूना है|

 

श्री मोदी जी, अगर आप सेना और उसके शहीदों का सम्मान करते हैं तो शहीदों के परिवार आपके लिए ईश्वर के समान होते| अगर मैं आपकी जगह होती तो शहीद के परिवार के नुमाइंदे के खिलाफ खड़े भाजपा उम्मीदवार को चुनाव मैदान से हटने के लिए कहती|

अगर आपके दिल में कैप्टन बत्रा के परिवार के लिए सम्मान है तो आपको याद रहता कि मैं विक्रम की माँ हूँ| मेरे बेटे की प्रशंसा करते हुए “ये दिल मांगे मोर” कहते हुए आपको स्मृति में रहता कि शहीद के परिवार को सम्मान देने के लिए क्या किया जा सकता है|

ऐसा क्यों है कि भाजपा ने कभी भी शहीदों के परिवारजनों को टिकट नहीं दिये?

मेरे लिए यह व्यक्तिगत लड़ाई नहीं है, यह किसी एक व्यक्ति के खिलाफ लड़ाई नहीं है| यह भ्रष्टाचार के खिलाफ लड़ाई है| लोगों को भष्टाचार से निजात चाहिए|

सारा भारत विक्रम बत्रा को जानता है|

कुछ गाँवों में आम आदमी पार्टी के स्वयसेवकों ने लगों से मेरे लिए कहा,” ये शहीद विक्रम बत्रा की माँ हैं”| इसमें क्या गलत है? विक्रम ने देश के लिए अपनी जान कुर्बान की| उसे गर्व होगा जानकार कि मैं भी उसकी भांति देश सेवा करने उतरी हूँ| क्या मेरे बेटे का नाम मुझसे अलग किया जा सकता है? मेरा नाम मेरे बेटे के साथ आएगा और मेरे बेटे का नाम मेरे साथ जुड़ा रहेगा| कोई इस सत्य को झुठला नहीं सकता|

इस लोकसभा के चुनाव प्रचार में आपका नाम हर जगह है|

आपको ज्ञात होना चाहिए कि केवल अरविंद केजरीवाल की पार्टी ने हमें इस तरह सम्मान देने के बारे में सोचा| उन्होंने मुझसे पूछा कि क्या मैं चुनाव लड़कर लोगों की सहायता करना चाहूंगी?

मैं केवल एक स्त्री ही नहीं बल्कि भारतीय नागरिक भी हूँ| मेरा अधिकार है राजनीति में प्रवेश करने का| हर भारतीय नागरिक का अधिकार है यह|

जब आम आदमी पार्टी ने मुझसे हिमाचल प्रदेश से चुनाव लड़ने का अग्राह किया मैं इंकार नहीं कर पाई| उनके आग्रह में सच्चाई की ताकत थी|

और दलों ने हमें बुरी तरह निराश किया है|

भवदीय,

कमल कांत बत्रा

%d bloggers like this: