Archive for दिसम्बर 9th, 2013

दिसम्बर 9, 2013

शीला…शीला की ज़ुबानी …अरविन्द केजरीवाल की कहानी

AKSD

राजनीति में अहंकार विनाशकारी सिद्ध होता ही होता है|

मनुज  बली नहि होत है,

समय होत बलवान,

भीलन लूटी गोपिका,

वही अर्जुन, वही बान!

समय कब नाचीजों को महाबलियों को धूल चटाने लायक शक्ति दे दे इसके बारे में सिर्फ समय ही जान सकता है|

बड़े बोल बोलना किसी भी नेता के लिए हानिकारक सिद्ध हो सकते हैं इसे शीला दीक्षित की हार, कांग्रेस और भाजपा के द्वारा लगाए लाखों अड़ंगे  के बावजूद हुए अरविन्द केजरीवाल के रानीतिक उत्थान  ने सिद्ध कर दिया है|

Advertisements
%d bloggers like this: