Archive for नवम्बर 29th, 2013

नवम्बर 29, 2013

महकता चहकता फिरता हूँ

महकता बदनwoman-001

रेशम सी छुअन

नज़र भर शफक

शर्म की सिहरन

जिस के देखे को तरसते थे

आज संग चलती है…

रखता  है दहका  के मुझे

तुम्हारा  शीशे सा बदन…

आज कहे बिना रहा नहीं जाता

तुमने पूछा भी कि

मैं क्या सोचता हूँ

पूछा है तो सुनो

जिस किसी शाम

मेरे सपने उगते हैं तुम्हारे कंधो पे

उस शाम की महक में

तुम्हारी साँसे घुल जाती हैं

रात भर बूँद बूँद उतरती है

ये खुशबू मुझमे…

और फिर महकता चहकता रहता हूँ

मैं दिन भर…

Rajnish sign

Advertisements
नवम्बर 29, 2013

अधेड़ ज़िंदगी अब भी हरी है

मेरी शाखों पर बेले लटक चुकीं mantree-001

मेरे तने पर काईयों की परत

सात ऊपर फ़ैली टहनियाँ

और

कगार को धसकती जमीन पर जमी जड़ें

पर

मेरी टहनियाँ अब भी हरी हैं

एकटक आसमान देखती हुई

कौन जाने

कौन सा इसका टुकड़ा हमारा है?

Yugalsign1

%d bloggers like this: