मौत की दौड़

मौत ने एक दौड़ आयोजित की हुयी है

और हम सब अभिशप्त हैं उसमें हिस्सा लेने के लिए,

जीवन में भले ही कुछ भी निश्चित न हो

पर अनिश्चितता तो मौत की तरफ दोस्ती का हाथ भी नहीं बढ़ा सकती|

चाहे तो हम दौड़ लें, दौड़ते रहें

या आराम से बैठ जाएँ, लेट जाएँ, सो जाएँ

कितनी भी, किसी भी तरह की उठा-पठक कर लें

कैसी भी साजिश रच लें,

कैसे भी इंतजाम क्यों न कर लें

पर किसी भी हालत में,

हरेक अवस्था में,

जिंदगी के भागते, लडखडाते और सुस्ताते क़दमों को रोकने

 मौत, सधी चालें ले सामने आ ही खड़ी होगी-

ये देगी  शह और

वो  होगी मात!

…[राकेश]

टैग: , , , , ,

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: