Archive for मई 8th, 2013

मई 8, 2013

मौत की दौड़

मौत ने एक दौड़ आयोजित की हुयी है

और हम सब अभिशप्त हैं उसमें हिस्सा लेने के लिए,

जीवन में भले ही कुछ भी निश्चित न हो

पर अनिश्चितता तो मौत की तरफ दोस्ती का हाथ भी नहीं बढ़ा सकती|

चाहे तो हम दौड़ लें, दौड़ते रहें

या आराम से बैठ जाएँ, लेट जाएँ, सो जाएँ

कितनी भी, किसी भी तरह की उठा-पठक कर लें

कैसी भी साजिश रच लें,

कैसे भी इंतजाम क्यों न कर लें

पर किसी भी हालत में,

हरेक अवस्था में,

जिंदगी के भागते, लडखडाते और सुस्ताते क़दमों को रोकने

 मौत, सधी चालें ले सामने आ ही खड़ी होगी-

ये देगी  शह और

वो  होगी मात!

…[राकेश]

टैग: , , , , ,
%d bloggers like this: