ग़ालिब और कीचड़ के बहाने

जीवन की अर्थहीन रिक्तता से
घबरा कर
कोई ज़हर खरीद लाता है
कोई शराब में डूब जाता है
दिनों तक ग़ालिब को पढ़ने के बाद
मैंने कलम उठा ली
कागज के कोरे आंचल पर
खून-ए-दिल के धब्बे
शब्द आप ही बनने लगे
शेर, छंद, कविता, गज़ल
और जाने क्या?

मैं जानता हूँ मित्रों!
भीड़ से
शोर तो पैदा हो सकता है गीत नहीं
बेमानी हो सकते हैं
काले किये गए कागजों का ये ढेर
पर मैं कवि हूँ कहाँ?
तडपते हुए एहसास को
सकून दिलाने का सामान भर है
ये लेखन।

अब नशे के भुलावों की जरूरत नहीं
कलम से निकलती है
किसी के बदन की खुशबू
कागज़ पर रोम-रोम शब्द
घनेरी ज़ुल्फ़ के साये बन कर
सुला देते हैं चैन की नींद
जिसके लिए तरसने लगा था मैं।

आँखे–कान बंद करने के बाद भी
कलम सुनती है
भूखों की मजबूर सदाएं
कलम देखती है
आत्मा को झिंझोड़ती
भीख के लिए फैले दामनों की व्याथा
जिसे अक्सर दुत्कार के सिवा
कुछ नहीं मिलता
उन रईसजादों से
जो लाखों रूपये
बार बालाओं पर लुटा आते हैं।

गरीबों की वे लड़कियां
सुनहरे सपनो की तलाश में
अँधेरी खोलियों से निकली थीं
माँ की खूनी खांसी
बाप की शराबी बेकारी का इलाज हैं आज
रात ढ़ले बाद
अय्याशी के अड्डों से
शर्मिन्दा करती रुस्वाइयां समेट कर
लुटी-पिटी लौट आती हैं उसी अँधेरे में
जो सदा से मुफलिसी का मुकद्दर है।

फैक्ट्री–कारखानों में
सोना बन रहा है पसीना
पैंटहाऊसों में बसते हैं सेठीए
मजदूर के ना घर ना बिछौना
कोढ़ पर खाज तो देखिये
कालाबाजारियों की घिनौनी भूख ने
गोदामों में भर लीं फसलें सब
महंगाई के दानव
ज़हर की पुड़ियायें लिए
घर-घर घूम रहे है
गरीब के पास
आत्महत्या के सिवा
ज़िल्लत से छुटकारा क्या है?

चौपट राजा!
जो कल तक सड़कों पर लफंगे थे
जाति–धर्म-छल–बल के हथकंडों से
नेता जी बन गए हैं
करदाता से कमरतोड़ वसूली कर
सरकारी खजानो के भरे गुल्लक
तुगलकी योजनाओं पर
लुटा रहे हैं
अंधेर नगरी के
बचे खुचे उजाले से
स्विस बैंकों में है रौशनी
लाखों प्राइवेट लॉकर
काले धन से अटे पड़े हैं
कौन सोचता है खाली हाथ जाना है।

आरोप–प्रत्यारोपों का नाटक करते
पक्ष-विपक्ष के ये मौसेरे भाई
बहरूप धरे सब चोर हैं
मुजरिम भी ये ही
न्यायपाल भी ये ही
इन्साफ को इस हाल
दफन होना ही होगा
नपुंसक आयोगों की कब्रगाहों में।

कलम रो कर पुकारती है मालिक
आखिर ऐसा क्यों है?
तेरी निगाह में सब हैं बराबर
फिर फर्क इतना क्यों है?
कहीं दो जून आटा नहीं नसीब
कोई बदन सोने से लदा क्यों है?
क्यों हैं जात-धर्म के बंधन?
इंसान घटकों में बंटा क्यों है?

एक! तेरे बंदे सब
ये दुई का झगडा क्यों है?
आदमी बना है आदमी का खुदा
तो बता तू खुदा क्यों है?
संतोष मिल जाता है
आकाश की तरफ पुकार कर
जवाब ना किसी को मिला है
ना मुझे मिलता है।

इस लिखे को बेमानी मानो
बेसिर-पैर की बकवास कहो
आपका जी चाहे जो समझो
अपने ऐसे ही बेतुके सर्जन के सहारे
समझ आने लगा है
मुझे जीवन का अर्थ।

न सताइश की तमन्ना ना सिले की परवाह,
गर नहीं है मेरे अश’आर में मानी ना सही
(हज़रत ग़ालिब)

(रफत आलम)

सताइश- प्रशंसा, सिला- पुरस्कार

Advertisements

4 टिप्पणियाँ to “ग़ालिब और कीचड़ के बहाने”

  1. एक! तेरे बंदे सब
    ये दुई का झगडा क्यों है?
    आदमी बना है आदमी का खुदा
    तो बता तू खुदा क्यों है?

    वाह पहली बार आया आपके ब्लाग पर लेखिन ये आखिरी बार नही

  2. जनाब अरुणेश जी बहुत धन्यवाद.आपका सदा स्वागत है श्रीमान .

  3. गज़ब कर दिया आपने………मन मोह लिया

  4. मोहतरमा अनामिका जी आपका अहसान जो नाचीज़ के लिखे को ध्यान में लिया .

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

w

Connecting to %s

%d bloggers like this: