Archive for मई, 2011

मई 30, 2011

अमृता प्रीतम का पता

रसीदी टिकट नामक आत्मकथा लिखने वाली अमृता प्रीतम संक्षिप्त में इस कविता में वह सब कह जाती हैं जिसे प्रदर्शित करने के लिये एक निबंधकार शायद कुछ हजार शब्दों का जमावड़ा कर देगा। कलाकार साधारण मानव की समझ वाली परिभाषाओं के बंधनों से परे चले जाते हैं। उन्मुक्त्त आत्मा की उदआन को दर्साती है यह कविता।

आज मैंने अपने घर का नम्बर हटाया है
और गली के माथे पर लगा
गली का नाम हटाया है
और हर सड़क की
दिशा का नाम पोंछ दिया है
पर अगर आपको मुझे जरुर पाना है
तो हर देश के
हर शहर की
हर गली का
द्वार खटखटाओ
यह एक श्राप है
एक वर है
और जहाँ भी
आज़ाद रुह की झलक पड़े
समझना वह मेरा घर है

(अमृता प्रीतम)

Advertisements
मई 29, 2011

मनुष्य का विकास

मैं सबसे पहले घड़ी था
फिर मछली बना
उसके बाद पेड़
पेड़ के बाद हुआ मनुष्य।

मैं मनुष्य बनकर
घड़ी का कान उमेठने लगा हूँ
मछली खाने लगा हूँ
पेड़ काटकर
घर के लिये दरवाजा बनाने लगा हूँ
चेहरा छिपाने लगा हूँ।

(विमल कुमार)

मई 28, 2011

जिये के मरा करे कोई

दिल के घावों से इब्तेदा करे कोई
हम नहीं करते तो वफ़ा करे कोई

दुःख खुद में समेटे रखा करे कोई
तुम नहीं सुनते तो क्या करे कोई

आँखों से कहो अब पथरा ही जाएँ
कब तक रास्ते को तका करे कोई

रौशनी के शहर में सायों के साथ
खुद की तलाश में चला करे कोई

मतलब के रिश्तों के इस दौर में
खुद पर भी ना भरोसा करे कोई

फिर कोई भरोसा दिलाने है आया
फिर बगल में छुरी रखा करे कोई

यही इन्साफ है इस नए दौर में
करे तो कोई और भरा करे कोई

जिंदगी सी बे भरोसा चीज़ है क्या
जिंदगी पर भरोसा क्या करे कोई

कौन नहीं है यहाँ हालात का मारा
किस की फरियाद सुना करे कोई

बेकार फिर रही हैं डिग्रियाँ आलम
कागज के पुर्जों का क्या करे कोई


……

बीमार ए जिंदगी को चंगा करे कोई
मौत आ के अब मेरी दवा करे कोई

रोटी में भी क्यों साथ हुआ करे कोई
सोना खा के चांदी पी लिया करे कोई

क्यों अखबार नहीं उठा रहा है पडोसी
किसे फुरसत है जा के पता करे कोई


हर कोई खुदा बना है मेरी बस्ती में
किस किस के दर पे झुका करे कोई

लाओ पाँवों की माटी सर पे रखते हैं
हालत की जिद है समझौता करे कोई

क्या होगा जो अपने रंग में रंग बेठे
दीवानों से जा के ना उलझा करे कोई

अपनी नाकामी पर पछताने के सिवा
नसीब ही फूटा हो तो क्या करे कोई

कांटे की नोक पर हँसता देखा गुलाब
हुस्न का दर्द ओस से पता करे कोई

बेगाने हुए खून के सब रिश्ते आलम
किसे है फ़िक्र जिए के मरा करे कोई

(रफत आलम)

इब्ने मरियम हुआ करे कोई
मेरे दुःख की दवा करे कोई – हज़रत मिर्ज़ा ग़ालिब

मई 27, 2011

नेहरु, ओशो और हिंदी फिल्में

आज भारत के पहले प्रधानमंत्री प. जवाहर लाल नेहरु की पुण्यतिथि है। 1948 की 30 जनवरी को गाँधी की हत्या के बाद भारत के लिये प. नेहरु का चले जाना बहुत बड़ा आघात था। गाँधी के बाद सरदार पटेल भी जल्दी ही धरा छोड़ गये और बहुत सारे अन्य स्वतंत्रता सेनानी भी पचास के दशक में जीवन का त्याग कर गये परंतु देश में नेहरु की उपस्थिति ने एक आशामायी मोर्चा संभाला हुआ था। वे निरंतर भारत को लोकतांत्रिक, आधुनिक, प्रगतिवादी, और स्वावलम्बी बनाने की ओर प्रयासरत थे और उनके द्वारा निर्मित की गयी नीवों पर बाद में विशाल इमारतें खड़ी हो गयीं और आज बहुत सारे क्षेत्रों में भारत समर्थ दिखायी देता है तो उसका बहुत सारा श्रेय प. नेहरु की दूरदृष्टि को भी जाता है।

जब एक बहुत बड़े कद का नेता सक्रिय राजनीति के कारण प्रशासन में सीधे सीधे बड़ा पद ग्रहण करता है तो स्वाभाविक रुप से उसके चारों तरफ उसके विरोधी भी उत्पन्न हो जायेंगे। प. नेहरु भी इस प्रतिक्रिया से अछूते नहीं रहे। उनके प्रधानमंत्री बनते ही उनके विरोधी गुट भी सक्रिय हो गये थे। लोकतंत्र में ऐसा होना भी चाहिये। पर जैसा विश्वास भारत की जनता को प. नेहरु पर था वैसा किसी अन्य प्रधानमंत्री पर कभी नहीं बन पाया। कश्मीर और चीन के भारत पर आक्रमण के मुद्दे को लेकर बहुत सारे लोग और संगठन नेहरु को हमेशा से ही निशाना बनाते रहे हैं और कई बार तो इन मुद्दों को लेकर कुछ अतिवादी संगठन हद पार करके असंसदीय और अलोकतांत्रिक किस्म की बातें नेहरु के बारे में फैलाते रहे हैं। लघु काल के लिये वे अपने दुष्प्रचार में सफलता पाते भी दिखायी देते रहे हैं पर भारत प. नेहरु से दूर नहीं जा सकता। प. नेहरु का न तो व्यक्तित्व ही इतना हल्का था और न ही उनका दृष्टिकोण इतना छोटा था कि उनकी प्रासंगिकता भारत से खत्म हो जाये।

आज जब चारों तरफ आदिवासी इलाके जल रहे हैं तब भी नेहरु की नीति की याद हो आती है। उनके जैसा प्रधानमंत्री भारत में 90 के दशक में होता, जबकि भारत आर्थिक, साम्प्रदायिक और जातीय आधार पर उथल-पुथल से गुजरकर लड़खड़ा रहा था, तो भारत में एकता और अखण्डता इस तरह से विखण्डित न नज़र आती जैसी कि आज के दौर में नज़र आ रही है।

ओशो बुनियादी तौर पर ही राजनीतिज्ञों के खिलाफ थे और सारी उम्र वे उनके खिलाफ बोलते ही रहे। उन्हे निशाना बनाते रहे। उनके ऊपर चुटकले बनाकर लोगों को शासकों की इस जाति के सामने मानव को आँखें मूँद कर समर्पण न कर देने के लिये चेताते रहे। अगर दुनिया में किसी एक राजेनीतिज्ञ को ओशो ने पसंद किया तो वे प. नेहरु ही थे।

अपने संस्मरणों में प. नेहरु के बारे में ओशो कहते हैं –

… जीवन में पहली बार मैं हैरान रह गया। क्‍योंकि मैं तो एक राजनीतिज्ञ से मिलने गया था। और जिसे मैं मिला वह राजनीतिज्ञ नहीं वरन कवि था। जवाहर लाल राजनीतिज्ञ नहीं थे। अफसोस है कि वह अपने सपनों को साकार नहीं कर सके। किंतु चाहे कोई खेद प्रकट करे, चाहे कोई वाह-वाह कहे, कवि सदा असफल ही रहता है यहां तक कि अपनी कविता में भी वह असफल होता है। असफल होना ही उसकी नियति है। क्‍योंकि वह तारों को पाने की इच्‍छा करता है। वह क्षुद्र चीजों से संतुष्‍ट नहीं हो सकता। वह समूचे आकाश को अपने हाथों में लेना चाहता है।…

…एक क्षण के लिए हमने एक दूसरे की आंखों में देखा। आँख से आँख मिली और हम दोनों हंस पड़े। और उनकी हंसी किसी बूढ़े आदमी की हंसी नहीं थी। वह एक बच्‍चे की हंसी थी। वे अत्यंत सुदंर थे, और मैं जो कह रहा हूं वही इसका तात्‍पर्य है। मैंने हजारों सुंदर लोगो को देखा है किंतु बिना किसी झिझक के मैं यह कह सकता हूं कि वह उनमें से सबसे अधिक सुंदर थे। केवल शरीर ही सुंदर नहीं था उनका।…

…अभी भी मैं विश्‍वास नहीं कर सकता कि एक प्रधानमंत्री उस तरह से बातचीत कर सकते है। वे सिर्फ ध्‍यान से सुन रहे थे और बीच-बीच में प्रश्न पूछ कर उस चर्चा को और आगे बढा रहे थे। ऐसा लग रहा था जैसे वे चर्चा को सदा के लिए जारी रखना चाहते थे। कई बार प्रधानमंत्री के सैक्रेटरी ने दरवाजा खोल कर अंदर झाँका। परंतु जवाहरलाल समझदार व्‍यक्‍ति थे। उन्‍होंने जान बूझ कर दरवाजे की ओर पीठ की हुई थी। सैक्रेटरी को केवल उनकी पीठ ही दिखाई पड़ती थी।

परंतु उस समय जवाहरलाल को किसी की भी परवाह नहीं थी। उस समय तो वे केवल विपस्‍सना ध्‍यान के बारे में जानना चाहते थे।…

…जवाहरलाल तो इतने हंसे कि उनकी आंखों में आंसू आ गए। सच्‍चे कवि का यही गुण है। साधारण कवि ऐसा नहीं होता। साधारण कवियों को तो आसानी से खरीदा जा सकता है। शायद पश्‍चिम में इनकी कीमत अधिक हो अन्‍यथा एक डालर में एक दर्जन मिल जाते है। जवाहरलाल इस प्रकार के कवि नहीं थे—एक डालर में एक दर्जन, वे तो सच में उन दुर्लभ आत्माओं में से एक थे जिनको बुद्ध ने बोधिसत्‍व कहा है। मैं उन्‍हें बोधिसत्‍व कहूंगा।…

…मुझे आश्‍चर्य था और आज भी है कि वे प्रधानमंत्री कैसे बन गए। भारत का यह प्रथम प्रधानमंत्री बाद के प्रधानमंत्रियों से बिलकुल ही अलग था। वे लोगों की भीड़ द्वारा निर्वाचित नहीं किए गए थे, वे निर्वाचित उम्मीदवार नहीं थे—उन्‍हें महात्‍मा गांधी ने चुना था। वे महात्‍मा गांधी की पंसद थे।

और इस प्रकार एक कवि प्रधानमंत्री बन गया। नहीं तो एक कवि का प्रधानमंत्री बनना असंभव है। परंतु एक प्रधानमंत्री का कवि बनना भी संभव है जब वह पागल हो जाए। किंतु यह वही बात नहीं है।

तो मैं ने सोचा था कि जवाहरलाल तो केवल राजनीति के बारे में ही बात करेंगे, किंतु वे तो चर्चा कर रहे थे काव्‍य की और काव्यात्मक अनुभूति की।…

पचास और साठ के दशक तक हिंदी सिनेमा भी नेहरु के विशाल व्यक्तित्व के प्रभाव से अछूता नहीं रहा और हिंदी फिल्मों के नायकों का चरित्र भारत को लेकर नेहरुवियन दृष्टिकोण से प्रभावित रहा और उसमें चारित्रिक आदर्श की मात्रा डाली जाती रही।

उन सालों में भारतीय लोगों और बच्चों में प. नेहरु के लिये कितना आकर्षण था इस बात को भी अब दिल्ली दूर नहीं (1957) और नौनिहाल (1967) फिल्म में दिखाया गया है।

नौनिहाल में तो प. नेहरु की मृत्यु के बाद उनकी शवयात्रा पर उमड़े जन-सैलाब की असली फुटेज इस्तेमाल की गयी थी। गाँधी की मृत्यु के बाद नेहरु की मौत पर ही इतना व्यापक जन समूह जुटा था और शोक की ऐसी विश्वव्यापी लहर उठी थी।

आज भारत में बहुत कुछ जो विकसित हुआ है और बहुत कुछ जो अच्छा दिखायी देता है, उसमें बहुत बड़ा योगदान प्रथम प्रधानमंत्री नेहरु के प्रगतिवादी दृष्टिकोण का भी है। प्रशासन चला रहा व्यक्ति कुछ ऐसे निर्णय भी लेगा जो शायद उतने लाभकारी न सिद्ध हो पायें जितने कि लोगों ने सोच रखे थे और फिर नेहरु जैसे बड़े नेताओं से लोगों की अपेक्षायें भी साधारण नहीं रहतीं।

किसी भी कोण से और किसी भी कसौटी पर रखकर, मगर ईमानदारी और निष्पक्षता से, परखा जाये, प. नेहरु भारत के सबसे बेहतरीन प्रधानमंत्री रहे हैं। वे भारत के इतिहास के एक बहुत ही महत्वपूर्ण व्यक्ति बन चुके हैं।

उनके द्वारा किये गये कार्यों से लोकतांत्रिक भारत को जो लाभ पहुँचे हैं उनके लिये नमन है ऐसी विभूति को।

मई 26, 2011

सुंदरता अभिशाप बना दी जाती है!

पँखों का महत्व
पिंजरे में कैद पंछी के लिए
अर्थहीन है,
उसकी घायल चोँच
आज़ादी का सपना लिए
लोहे के तारों से लड़ रही है।

दो पल बहलने का सामान है
पँखों के रुपहले रंग,
लहू टपकाती चोँचों का क्रंदन
मनमोहक लगता है
संवेदनहीन अहसास को।

सुंदरता सदा से अभिशाप है!

वरना क्यों हरम भरे जाते
कहाँ रनवासों में मुरझाते
बेमिसाल हुस्न?
अपने पौरुष का दंभ भरने वाले भूपति
नपुंसकों की टोलियों से
अश्गाहों की रखवाली क्यों करवाते?

आह!
किस तरह लुटे होंगे
मासूम अरमान!

आज भी रईसों की जामत
कमसिन सोंदर्य की
वही बाइज्ज़त खरीदार है,
कला का नाम देकर
नग्नता का नाच देख रही हैं
अय्याशों की मदमस्त आँखें।

ये उन्मुक्तता यदि प्रगति का पैमाना है
क्यों आत्महत्या कर लेती है
सफलतम मॉडल?

(रफत आलम)

मई 26, 2011

कुचली स्मृतियाँ

मेरे दोस्त कहते हैं –
यह एक कुहासा है
हर ज़िंदगी में आता है
तुम्हे निराश नहीं होना चाहिये
दूसरा बीज बोना चाहिये।

मगर मैं जानता हूँ
कि जो फसल मैंने
तुम्हारी हथेली पर उगायी थी
उसमें अपनी समूची ज़िंदगी लगायी थी
अब मैं अपनी वह ज़िंदगी
कहाँ से लाऊँ,
वैसी ही दूसरी फसल
कैसे उगाऊँ?

और इसका भी क्या भरोसा
कि तुम
उतनी ही उर्वरा होगी।

यदि ऐसा नहीं होता
या सब कुछ पहले जैसा होता
तो फिर मैं एक बार
साधिकार
तुम्हारी नरम हथेलियों को पढ़ता
उनके साथ जीता
मरता।

या फिर
किन्ही दूसरी हथेलियों की ओर बढ़ता
एक नया प्रयोग जरुर करता।

क्योंकि हारना या हार मान लेना
समूची ज़िंदगी गवाँ बैठने से
कुछ ज्यादा ही गवाँ बैठना है।

मेरे इस सवाल का जवाब कि
आदमी के पास आखिर
ज़िंदगी से भी ज्यादा कीमती क्या है?
कि जिसके खो जाने की आशंका मात्र से ही
एक अज्ञान भय भर जाता है
और आदमी जीते जी मर जाता है।

तुम बता नहीं सकते
तुम्हारे भीतर ज़िंदगी ही नहीं
जीते रहने का एहसास भी मर चुका है
तुम्हारी स्मृतियों पर
भारी-भरकम
रोड रोलर गुजर चुका है।

{कृष्ण बिहारी}

मई 24, 2011

चींटियाँ

देखता हूँ चीटियों को
पग तले आकर कुचले जाते
या किसी बेख्याल पान की पीक में
दबते हुए।

अकाल मृत्यु का सत्य
सबके साथ है
यूँ भी चंद घड़ी का होता है
इनका जीवन।

देखता हूँ चीटियों को
अपनी नियति से बेपरवाह
सूक्ष्म खाद्य कण मुँह में दबाये
बिलों की और भाग रही हैं।

लगता तो यही है
कर्म ही इनकी जाति, धर्म और नस्ल हैं
शायद यही जीवन का अर्थ भी।

ये नन्ही चीटियाँ
दिल-ओ-जान से
उस घर को बसाने की फिक्र में है
जो चंद बूँद पानी
एक मुट्ठी माटी से नष्ट हो सकता है।

मुझे भी घर की फिक्र बहुत है
नीची जात वालों को
पानी नहीं पिलाता अपने बर्तन में
किरायेदार नहीं रखता किसी विधर्मी को
रगं-रोगन और मरम्मत भी
करा लेता हूँ दफ्तर के बेगारियों से
घूस से दो नयी मंजिलें चढ़ा ली हैं
आशियाने पर।

मैं ढीठ मानव ठहरा
कब ग्लानि करता हूँ
अपने कर्मों पर
जो कार्यकुशलता नहीं
चाटुकारी की बुनियाद पर खड़े हैं।

कब ग्लानि करता हूँ
हैसियत पर
जो अंधेर नगरी में
दरबारी के सिवा क्या है।

कब ग्लानि करता हूँ
पदवियों पर
जो भ्रष्ट वजीरों के प्रति
अंधनिष्ठा का इनाम भर हैं
ये निष्ठा हर नई सरकार के साथ
बदल जाती है।

किसी ने सही तो कहा था मुझे कठपुतली
खुद के अस्तित्व का ठिकाना नहीं
चीटियों के ज़रूर ’पर’ लगा देता हूँ।

(रफत आलम)

मई 23, 2011

बूँद में समंदर

सौ परिक्षाओं से गुजरोगे हर जीत हार में
प्रयास करना के रहो सदा अव्वल कतार में

उजाले नज़र आये भिखारियों की कतार में
सुना था रौशनी बंटेगी अंधों के दरबार में

गुमराही के सिवा अपने को मिलना है क्या
रहनुमाँ सच्चे हैं ना आचार में ना विचार में

ध्यान से देखो तो इसमें समंदर हैं समाये
ये बूँद जो नन्ही नज़र आ रही है आकार में

हर रास्ते सौदा हो रहा है काली कमाई का
खुले बिका करता है ज़मीर आज बाज़ार में

मंजिलों के सफर चल दिए कारवाँ के साथ
अपना नसीब देखिये हम खो गए गुबार में

नफरत की क्या कहें घाव प्रीत के थे गहरे
दिखे तक भी नहीं और मार गए प्यार में

फूलों से तो ज़ख्मों के सिवा कुछ ना मिला
काँटों का खलूस आजमाएंगे अबके बहार में

अपनों ने वो चोट दी के दुश्मन लगे शर्माने
बहुत फरेब खाए हैं आलम हमने एतबार में

(रफत आलम)

मई 22, 2011

ग़ालिब और कीचड़ के बहाने

जीवन की अर्थहीन रिक्तता से
घबरा कर
कोई ज़हर खरीद लाता है
कोई शराब में डूब जाता है
दिनों तक ग़ालिब को पढ़ने के बाद
मैंने कलम उठा ली
कागज के कोरे आंचल पर
खून-ए-दिल के धब्बे
शब्द आप ही बनने लगे
शेर, छंद, कविता, गज़ल
और जाने क्या?

मैं जानता हूँ मित्रों!
भीड़ से
शोर तो पैदा हो सकता है गीत नहीं
बेमानी हो सकते हैं
काले किये गए कागजों का ये ढेर
पर मैं कवि हूँ कहाँ?
तडपते हुए एहसास को
सकून दिलाने का सामान भर है
ये लेखन।

अब नशे के भुलावों की जरूरत नहीं
कलम से निकलती है
किसी के बदन की खुशबू
कागज़ पर रोम-रोम शब्द
घनेरी ज़ुल्फ़ के साये बन कर
सुला देते हैं चैन की नींद
जिसके लिए तरसने लगा था मैं।

आँखे–कान बंद करने के बाद भी
कलम सुनती है
भूखों की मजबूर सदाएं
कलम देखती है
आत्मा को झिंझोड़ती
भीख के लिए फैले दामनों की व्याथा
जिसे अक्सर दुत्कार के सिवा
कुछ नहीं मिलता
उन रईसजादों से
जो लाखों रूपये
बार बालाओं पर लुटा आते हैं।

गरीबों की वे लड़कियां
सुनहरे सपनो की तलाश में
अँधेरी खोलियों से निकली थीं
माँ की खूनी खांसी
बाप की शराबी बेकारी का इलाज हैं आज
रात ढ़ले बाद
अय्याशी के अड्डों से
शर्मिन्दा करती रुस्वाइयां समेट कर
लुटी-पिटी लौट आती हैं उसी अँधेरे में
जो सदा से मुफलिसी का मुकद्दर है।

फैक्ट्री–कारखानों में
सोना बन रहा है पसीना
पैंटहाऊसों में बसते हैं सेठीए
मजदूर के ना घर ना बिछौना
कोढ़ पर खाज तो देखिये
कालाबाजारियों की घिनौनी भूख ने
गोदामों में भर लीं फसलें सब
महंगाई के दानव
ज़हर की पुड़ियायें लिए
घर-घर घूम रहे है
गरीब के पास
आत्महत्या के सिवा
ज़िल्लत से छुटकारा क्या है?

चौपट राजा!
जो कल तक सड़कों पर लफंगे थे
जाति–धर्म-छल–बल के हथकंडों से
नेता जी बन गए हैं
करदाता से कमरतोड़ वसूली कर
सरकारी खजानो के भरे गुल्लक
तुगलकी योजनाओं पर
लुटा रहे हैं
अंधेर नगरी के
बचे खुचे उजाले से
स्विस बैंकों में है रौशनी
लाखों प्राइवेट लॉकर
काले धन से अटे पड़े हैं
कौन सोचता है खाली हाथ जाना है।

आरोप–प्रत्यारोपों का नाटक करते
पक्ष-विपक्ष के ये मौसेरे भाई
बहरूप धरे सब चोर हैं
मुजरिम भी ये ही
न्यायपाल भी ये ही
इन्साफ को इस हाल
दफन होना ही होगा
नपुंसक आयोगों की कब्रगाहों में।

कलम रो कर पुकारती है मालिक
आखिर ऐसा क्यों है?
तेरी निगाह में सब हैं बराबर
फिर फर्क इतना क्यों है?
कहीं दो जून आटा नहीं नसीब
कोई बदन सोने से लदा क्यों है?
क्यों हैं जात-धर्म के बंधन?
इंसान घटकों में बंटा क्यों है?

एक! तेरे बंदे सब
ये दुई का झगडा क्यों है?
आदमी बना है आदमी का खुदा
तो बता तू खुदा क्यों है?
संतोष मिल जाता है
आकाश की तरफ पुकार कर
जवाब ना किसी को मिला है
ना मुझे मिलता है।

इस लिखे को बेमानी मानो
बेसिर-पैर की बकवास कहो
आपका जी चाहे जो समझो
अपने ऐसे ही बेतुके सर्जन के सहारे
समझ आने लगा है
मुझे जीवन का अर्थ।

न सताइश की तमन्ना ना सिले की परवाह,
गर नहीं है मेरे अश’आर में मानी ना सही
(हज़रत ग़ालिब)

(रफत आलम)

सताइश- प्रशंसा, सिला- पुरस्कार

मई 21, 2011

वर्दी वाले गुंडे

रेल से नीचे धकेल दिये गये लोगों के समाचार गाहे-बेगाहे अखबारों की सुर्खियां बनने लगे हैं। एक महिला खिलाड़ी को रेल से नीचे फेंक दिये जाने की खबर छपी तो इस खबर को पढ़कर सुमीत को बरसों पहले की अपनी एक रेल यात्रा की याद हो आयी।
* * *

उस समय सुमीत को किसी भी यात्रा से पहले एक किस्म की बैचेनी होने लगती थी। बस की यात्रा तक तो गनीमत थी कि एक बस निकल जाये तो दूसरी मिल जायेगी पर रेल की यात्रा तो उसकी नींद उड़ा देती थी। घर से समय से निकलने के बावजूद उसे हमेशा संदेह लगा रहता कि वह रेल पकड़ भी पायेगा या नहीं। कई दिनों की छुट्टी अपने दोस्त के यहाँ व्यतीत करने के बाद उसे नौकरी पर वापिस जाना था और वह कोई रिस्क लेना नहीं चाहता था। रेल उसे पकड़नी थी सहारनपुर से तकरीबन सौ किमी दूर देहरादून जिले में एक छोटी सी जगह पर। इस भय से कि कहीं रेल न छूट जाये सुमीत ने अपनी यात्रा के नियत दिन से एक दिन पहले ही बस से सहारनपुर जाकर रिहर्सल कर ली। वह सही वक्त्त पर सहारनपुर रेलवे स्टेशन पहुँच गया। उसके पहुँचने के बाद ही एक्स्प्रैस रेल वहाँ आयी। रेल को विदा करके ही वह वापिस लौटा। उसे थोड़ी राहत महसूस हुयी।

अगले दिन सही वक्क्त पर सुमीत सहारनपुर पहुँच गया और रेलवे स्टेशन पर पूछताछ वाली खिड़की से यह पूछ कर कि उसकी वाली एक्सप्रैस रेल किस प्लेटफार्म पर आयेगी वह नियत प्लेटफार्म पर जाकर खड़ा हो गया। रिज़र्वेशन उसके पास था ही।

प्लेटफार्म पर अच्छी खासी भीड़ थी। एक कुली से उसने पूछ लिया कि S5 बोगी कहाँ आकर रुकेगी।

कुली ने उसे बता दिया और साथ ही पूछा कि वह रेल में सामान चढ़ा दे क्या? यूँ तो सुमीत के पास एक सूट्केस और एक बैग ही था और वह खुद आराम से रेल में सामान सहित चढ़ सकता था पर शायद कुली से बोगी के बारे में पूछने के कारण या किसी अन्य कारण से उसने उसे हाँ कह दिया।

रेल एक घंटे की देरी से आयी। रेल में मौजूद लोगों की भीड़ देखकर तो सुमीत के हाथ-पाँव फूल गये। लोग दरवाजे तक खड़े थे। सहारनपुर उतरने वालों और वहाँ से रेल में चढ़ने वालों के बीच दरवाजे पर खड़े लोग दीवार बने खड़े थे। हर तरफ चिल्ल-पौं मची हुयी थी।

सुमीत को लगा कि ऐसे कैसे वह चढ़ पायेगा रेल में?

कुली ने सुमीत से कहा,” बाबू जी, भीड़ बहुत है आप अभी बीस रुपया दे दो, आपको अंदर चढ़ा देंगे। मेरा अंदर जाकर वापिस आना मुश्किल हो जायेगा। आप यहीं पैसे दे दो। आपको अंदर तो चढ़ा ही दूँगा। रास्ते में मौका देख आप अपनी सीट पर पहुँच जाना”।

सुमीत ने कुली को बीस रुपये दे दिये। उसे लग नहीं रहा था कि दरवाजे पर खड़ी भीड़ के अभेद लगते किले को भेदकर वह बोगी में अंदर प्रवेश कर पायेगा।

कुली ने सूटकेस और बैग उठाया और बोगी के दरवाजे पर खड़े लोगों को हटाने का प्रयास करते हुये सूटकेस अंदर उनके सिरों के ऊपर से अंदर फेक दिया। अंदर से गालियाँ सुनायी दीं, लोग इधर उधर हुये और समान के बोगी के फर्श पर पड़ जाने का अनुमान कुली को लग गया। अब उसने सुमीत को उसका बैग थमाया और उसे पीछे से इस तरह धकेलना शुरु किया जैसे किसी गाड़ी में धक्का लगा रहा हो। लोगों को अपनी बोली से चेतावनी देते हुये उसने जबरन सुमीत को बोगी के अंदर धकेल ही दिया।

सुमीत भीड़ में मूर्ति बना खड़ा हो गया। न पैर हिलते थे और न ही हाथ इधर उधर या ऊपर नीचे करने की ही गुंजाइश उसे दिखायी पड़ती थी। बैग उसके कंधे पर इस तरह से रखा हुआ था जैसे कैलेंडरों आदि में हनुमान जी को गदा लिये दिखाया जाता है। इस जड़ता में अपनी आरक्षित सीट तक जाने की बात सोचना भी दुस्साहस से बड़ी बात थी। उसका तो एक पैर भी फर्श पर पूरी तरह टिका हुआ नहीं था। भीड़ के कारण गरमी भी बहुत लग रही थी और साँस लेने के लिये हवा भी कम और कमजोर मालूम पड़ती थी। सुमीत समेत लोग रेल के चलने की दुआ कर रहे थे। रेल चलने से कम से कम हवा तो आयेगी।

रेल चली। जो बैग उसे पहले हल्का और बाद में ठीके-ठाक वजन वाला लग रहा था अब वही उसे  बेहद भारी लगने लगा था। हाथ और कंधें में दर्द की तरफ ध्यान जाता तो बार बार उसकी इच्छा होती कि बैग को उछालकर चलती रेल से नीचे फेंक दे। ऐसे ही कष्ट सहते-सहते अम्बाला कैंट तक की यात्रा पूरी हुयी। उसे अपनी सहन क्षमता पर कुछ गर्व भी हुआ। आश्चर्य-मिश्रित प्रसन्नता से भरे हुये जैसे ही उसने पाया कि दो-तीन यात्रियों को अम्बाला कैंट स्टेशन पर उतरना है, उसने और दरवाजे पर खड़े लोगों ने उन यात्रियों को ऐसा स्वागत करते हुये नीचे उतारा जैसे बारातियों का स्वागत कर रहे हों। उन यात्रियों के उतरने के उपक्रम में सुमीत को जगह मिल गयी अपने कंधे पर सवार बैग को नीचे फर्श पर गिरा देने की।

बैग गिराते ही वह सूटकेस और बैग को लगभग भूल कर प्रभावित कंधे को गोल गोल घुमाने लगा। सामान को भूल जाने में ही राहत मिलनी थी हाल फिलहाल तो।

तभी रेलवे पुलिस के सिपाहियों के साथ टी.टी.ई महोदय बोगी के दरवाजे पर अवतरित हुये। वर्दीधारी सिपाहियों की अकड़ और लाठियों के तांडव ने दरवाजे पर जमे खड़े यात्रियों को गतिमान बनाया और गुंजाइश न दीखने वाली जगह में भी टी.टी.ई और चार सिपाही अंदर घुस आये।

सिपाहियों की लाठियों के सहारे बोगी में लोगों की भीड़ के चक्रव्यूह को भेदते हुये टी.टी.ई आगे बढ़ा तो सुमीत भी अपनी सीट तक पहुँचने के लिये किसी तरह वहाँ खड़े लोगों से सहायता की गुज़ारिश करके अपना सूटकेस और बैग उठाये हुये इस सरकारी कारवां की पूँछ पकड़कर खिसक-खिसक कर आगे बढ़ने लगा। किसी तरह अपनी सीट पर पहुँचा तो पाया कि वहाँ बगैर आरक्षण के एक परिवार धरना दिये हुये था। परिवार में बच्चों और महिलाओं की संख्या ज्यादा थी। वे लोग भी हर तरफ खड़ी भीड़ में किसी तरह से सीटों पर जमे हुये थे। नैतिकता जोर मारने लगी और सुमीत का साहस नहीं हुआ कि उस परिवार से कहता कि वे लोग उसकी सीट खाली कर दें। उसने हालात से समझौता करते हुये अपने बैठने के लिये कोने में ज़रा सी जगह देने की गुज़ारिश की।

बैठकर शरीर को कुछ राहत मिली तो इधर उधर खड़े लोगों की भीड़ से पता चला कि एक राजनीतिक दल की रैली थी दिल्ली में और पंजाब लौटने वाले लोगों ने रेल की कई जनरल बोगियों के साथ-साथ आरक्षित बोगियों पर भी कब्जा कर लिया और मजबूरन लोगों को जिस बोगी में जगह मिली उसी में घुस जाना पड़ा।

कुछ ही देर बाद सिपाही लौटे। जिनके पास आरक्षण  नहीं था उनसे वे इस आरक्षित बोगी में यात्रा करने की अनुमति के बदले उनकी आगे तय की जाने वाली दूरी के अनुसार रुपये ले रहे थे। सुमीत की आरक्षित सीट पर बैठे परिवार को जम्मू जाना था अतः सिपाहियों ने प्रति सदस्य पचास रुपयों की मांग की। परिवार के लिये शायद मुश्किल था इतने रुपये देना। उन्होने सिपाहियों से प्रार्थना की तो सिपाहियों ने उन्हे नीचे उतारने की चेतावनी दी। परिवार की मुश्किल देख कर सुमीत ने सिपाहियों से कहा कि वे उसकी आरक्षित सीट पर यात्रा कर रहे हैं, इतनी भीड़ में कहाँ जायेंगे महिलायें और बच्चे। उन्हे परेशान न किया जाये।

एक सिपाही गुर्रा कर बोला,” बाबू तू जुर्माना देगा क्या। बुलाऊँ टी.टी.ई को, अभी चालान काटेगा, अपनी सीट पर बिना आरक्षण वाले लोगों को साथ ले जाने के लिये। और इन सबको ले जावेंगें जेल”।

परिवार बेचारा क्या करता? उन्होने सिपाहियों को रुपये दे दिये।

लोगों को उस बोगी में बने रहने के लिये पुलिस फोर्स की स्वीकृति खरीदनी पड़ी। जिन बोगियों पर राजनीतिक दल के कार्यकर्ताओं ने कब्जा कर लिया था वहाँ तो सिपाही घुस भी न पाये होंगे पर बाकी बोगियों से उन्होने हजारों के वारे न्यारे कर लिये होंगे।

सुमीत सोच रहा था कि अगर चोर डाकुओं को वर्दी पहना दी जाये तो शायद वे भी इस कुशलता से उगाही का काम न कर पायेंगे जैसा कि कानून के इन तथाकथित रखवालों ने अपने शौर्य से कर दिखाया है।

बोगी में जिस किसी ने रुपये देने में असमर्थता दिखायी या नियमों की दुहाई देने का दुस्साहस किया तो उसे सिपाहियों ने थप्पड़ों और घूँसों का प्रसाद देकर टॉयलेट के पास खड़ा होने के लिये भेज दिया। अगले स्टेशन पर उनके उतारने की बात सुनायी पड़ती रही।

रेल चली तो कुछ समय बाद टी.टी.ई टिकट चैक करता हुआ आया। सीट के आरक्षण के लिये लोग रुपये हाथ में लेकर उसे घेरे हुये थे। और वह भी किसी-किसी को उपकृत कर रहा था। शायद आदमी के हाथ की हरियाली देखकर वह निर्णय ले रहा था।

सिपाहियों के घमासान मचाने से लोग इधर उधर व्यवस्थित खड़े हो गये थे और गैलरी में इधर-उधर देखने लायक जगह दिखायी पड़ती थी।  टी.टी.ई टिकट चैक करके अपने लिये निर्धारित सीट पर पहुँचा तो पाया कि उससे पहले वहाँ पहुँच चुके सिपाहियों ने उसकी सीट का सौदा भी दो यात्रियों से कर लिया था। उसकी सीट पर जमे बैठे यात्रियों ने उठने से मना कर दिया। टी.टी.ई ने सिपाहियों से उन यात्रियों से अपनी सीट खाली करवाने की बात कही।

एक सिपाही ने खैनी मलते हुये कहा,” अरे अम्बाले में तो तू कह रिया था कि किसी तरह से बोगी में पहुँचा दो, अब कह रिया है कि सीट दिलवा दो, थोड़ी देर में कहेगा कि हिसाब भी समझा दो। हमारी तरह चुपचाप यहाँ टायलेट के पास खड़ा रह। बीड़ी-सिगरेट पी और ऐश कर। नहीं तो नीचे उतर जाइयो अगले स्टेशन पर। दूसरी बोगी में देख लियो, कहीं सीट मिल जावे बैठने की तो। हम भी तेरी तरह ड्यूटी पर हैं”।

सिपाही से दो टूक जवाब पाकर टी.टी.ई का चेहरा गुस्से और विवशता से अजीब सा हो गया।

पर कर भी क्या सकता था। अपमान का घूँट पीकर रह गया। सिपाहियों से चलती रेल में पंगा लेना खतरनाक था। इतनी भीड़ में कौन, कब, कैसे टपक गया चलती रेल से, बाद में कौन जान सकता है?

सरकारी अमले की आपसी मुठभेड़ को देखकर, सुमीत को अन्य यात्रियों, जो सिपाहियों और टी.टी.ई की धन-उगाही कार्यवाही के शिकार बने थे, की तरफ से भी कुंठा में कुछ राहत महसूस हुयी।

एक सिपाही टी.टी.ई से कहता सुनायी दिया,”अरे बाबू, ये रास्ता खोल दे दोनों बोगियों के बीच वाला। तू यहीं खड़ा रह आराम से, हमारा आदमी जावेगा दूसरी बोगी में और वहाँ से बिना आरक्षण वाले यात्रियों को यहाँ भेजेगा। तू भी कुछ कमा-धमा ले और हमें भी जेब भारी कर लेने दे। रोज़ रोज़ तो ऐसे मौके आते नहीं।”

सुमीत देख नहीं पाया कि टी.टी.ई पर इस प्रस्ताव की प्रतिक्रिया क्या हुयी।

कुछ समय बाद टॉयलेट की तरफ से गाली-गलौच और मार-पीट का शोर आने लगा। ऐसा लगा जैसे सिपाहियों का यात्रियों से झगड़ा हो रहा हो। या शायद यात्री ही आपस में लड़ रहे हों और सिपाही दोनों गुटों की ठुकाई में व्यस्त हों।

इस शोर-गुल में कई तरह की आवाजों के मध्य ऐसी पुकारें भी सुनायी दीं…अरे गिर गये… अरे कूद गये…अरे धकेल दिया।

बहुत देर तक शोर होता रहा।

अगले दिन सुमीत को अखबार में ही एक छोटी सी खबर पढ़ने को मिली कि जिस एक्स्प्रैस रेल में वह यात्रा कर रहा था उसमें बिना टिकट यात्रा करने वाले दो युवक टी.टी.ई से झगड़ा करने लगे और सुरक्षा बल के सिपाहियों के आने पर अफरातफरी में चलती रेल से बाहर कूद गये और अपनी जान गँवा बैठे।
* * *

इंसानी जान की कोई कीमत है नहीं इस देश में…- ठंडी सांस छोड़कर अपने आप से कहते हुये सुमीत ने अखबार सामने मेज पर रख दिया।

…[राकेश]

%d bloggers like this: