मरना कौन चाहता है

जिंदगी सितमगर ही सही
जिंदगी ज़हर ही सही

जिंदगी पत्थर ही सही
जिंदगी दर-ब-दर ही सही
जिंदगी मुख़्तसर ही सही

जिंदगी सिफ़र ही सही
फिर भी मरना कौन चाहता है

(रफत आलम)

Advertisements

2 टिप्पणियाँ to “मरना कौन चाहता है”

  1. बज़ा फ़रमाया, मरना तो कोई भी नहीं चाहता ।

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: