Archive for फ़रवरी 19th, 2011

फ़रवरी 19, 2011

जानी दुश्मन भी बने हैं माँ के जने

तम में उजाले की दुआ करते हैं यारो
बुझे दीपकों के भी कुछ सपने हैं यारो

दीखत में लिबास बहुत उजले हैं यारो
बदन कोयले की दलाली करते हैं यारो

दिन ने ज़रूर कहीं आग पिलाई होगी
शोले रात भर आँखों से बरसे हैं यारो

यकीन और भरम में फर्क थोडा सा है
वो मेरे कब हुए जो मेरे अपने हैं यारो

संबंधों में गिरावट की अति तो देखो
जानी दुश्मन बने माँ के जने हैं यारो

बर्तनो की खनक से घर कहाँ उजड़ता
भाई तो रसोइयां भी तोड़ चले हैं यारो

दिन वो भी थे जो खुशबू जो जैसे उड़ गये
दिन ये भी हैं के पहाड लगते हैं यारो

सोचो तो प्यास में भी तृप्ति है वरना
मयकदे पीकर भी लोग तरसते हैं यारो

बहुत आसान हो गया है उसको भुलाना
हम अपने आपको ही भूल गये हैं यारो

जितने ज़र्फदार थे कब के सब मर गए
बचे हैं आलम साब बहुत नकटे हैं यारो

(रफत आलम)

Advertisements
%d bloggers like this: