Archive for जनवरी 16th, 2011

जनवरी 16, 2011

नियति…(कविता – कृष्ण बिहारी)

 

क्या तुमने देखी है
ऐसी कोई नाव
लहरों पर नदिया की
या फिर तरंगों पर सागर की
अनियंत्रित सी,
और जिस पर हों यात्री
अपने घर-परिवार से दूर
देखते
सामने
नियति का काल-चक्र क्रूर!

कुछ वैसी ही हो गई है
ज़िंदगी आजकल
आतंकित
आशंकित सी।

धूप जैसे
घर की मुंडेरों से
कमरों में बँटकर आये
वैसे ही घटनायें
जीवन से होकर
हिस्सों में जायें।

टुकड़ों में बँटकर और
निर्लिप्त होकर ऊपर से
दीखती है
संयमित सी।

बाहर का कोलाहल
भीतर का सूनापन
अपनों से दूरी
गैरों से अपनापन
लगता है जैसे कोई
आरी से काटे
भावना
व्यथित सी।

{कृष्ण बिहारी}

टैग: ,
जनवरी 16, 2011

दुआ करके क्या पाया… (रफत आलम)

मैं भी देख लूँ कैसे लगते हैं इसमें जिंदगी के रँग
कुछ दिन के लिये मुस्कान वाला मुखौटा दे दे यार
आँसुओं के धब्बों से बदरंग नहीं होने दूंगा उसे
फिर भी डर है तुझको तो मेरा चेहरा ले ले यार।
* * *

समंदर से जब कोई कतरा निकलता है
आवारा बादल बनके भटकता फिरता है
घर छोड़ने की सजा बड़ी मिलती है यार
शाम हुए ही वापसी का पता मिलता है।
* * *

ये गिला ये शिकायत चाहे हकीकत भी है यार
सबसे बढ़ कर ये जान पर मुसीबत भी है यार
सब तुमसे रूठे तुम अपने कहे पर खुद से रूठे
आगे से मुंह बंद रखना बडो की नसीहत है यार।
* * *

जुनून की हालत में कई दीवाने
खुद को जाने क्या समझ बैठे
थे तो मिटटी के चंद ज़र्रे मगर
तारों की बुलंदी से उलझ बैठे।
* * *

आँख बन गई रास्ता चले आओ
फिर बन के उजाला चले आओ
अभी बजता है साज़ साँसों का
तुम बन के नगमा चले आओ।
* * *

घर आँगन में चांदनी लहराई
या उतरा उजली धूप का साया
हमको बता ऐ पगले ’आलम
तूने दुआएं कर के क्या पाया।

(रफत आलम)

%d bloggers like this: