दुनिया की रीत समझते आलम साब…(गज़ल-रफत आलम)

 

प्यादे से फरजी बने थे खूब इतराये आलम साब
वक्त ने ऐसी चाल चली चित आये आलम साब

तुमको समझाये कौन यही चलन है दुनिया का
मेरी कुटिया बनी रहे भाड़ में जाये आलम साब

सुबह के बुद्धु का आखिर यह अंजाम ही होना था
शाम हुई जब अंधेरी रोते घर आये आलम साब

पासे अदब कहाँ से आता निपट गंवार जो ठहरे
औकात हर महफ़िल में दिखा आये आलम साब

उतरने लगता है जब अँधेरा शाम के आंचल से
आने लगते हैं अपने घर कुछ साये आलम साब

निभता भी तो साथ कैसे मेल ही जब ऐसा था
वो सुबह नवेली तुम शाम के साये आलम साब

डगर भूलभुलैया की जिंदगी के रुपहले रास्ते थे
अबूझ इस सफर में गाढ़े भरमाये आलम साब

जगहँसाई जी भर हुई उसूलों की बात करने पर
घर बस्ती सब ठौर पागल कहलाये आलम साब

क्या ज़रुरी था कहकहों में उदासी लेके तुम जाते
अब भी तो बैठे हो ना मुँह लटकाए आलम साब

(रफत आलम)

Advertisements

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: