परवाह नहीं ग़ालिब

ग़र नहीं है मेरे अश’आर में मानी न सही

परवाह तुम्हे न थी ग़ालिब
और बात तुम्हारी आज भी सच है
परवाह किसे है?
और परवाह होनी भी क्यों कर चाहिये
अर्थ की,
वाह वाह की,
पहचान की?

ये सब मिल भी जायें तो
एक सीमा के बाद
खो जाते हैं
अर्थ इन सब बातों के।

ग़ालिब तुम्हारे बाद भी एक शायर ने
कहा था
ये दुनिया अगर मिल भी जाये तो क्या है

रचते रचते वक्त ऐसा आता है जब
इन सबके मायने ही नहीं रहते कुछ।
रह जाता है रचनाकार
और उसके रचने की प्रकृति।

कोयल क्या कूकती है किसी से पूछ कर
या किसी मानव को रिझाने के लिये?

बुलबुल चहकती है
बहार आने पर
क्या आदमी से ताली पाने के लिये?

पहाड़ों से नीचे उतरती नदी का पानी
क्या पूछता है ट्रैफिक पुलिस से
कि किधर मुड़ना है उसे?

नदी क्या राय माँगती है किसी से
चटटानों को अपने जल से नहलाते हुये
और उन्हे अपनी रगड़ से रेत बनाते हुये?

पक्षी क्या वीज़ा के लिये कहीं करते हैं आवेदन
मौसम बदलने पर
किसी अन्य देश के लिये उड़ते समय?

सूरज क्या अर्ज़ी लगाता है
किसी शक्तिशाली राष्ट्राध्यक्ष के समक्ष
आज्ञा लेने के लिये
कि अगले दिन सुबह अपनी किरणों से
धरती को प्रकाश और ऊष्मा दे या न दे?

बसंत क्या रुका रहता है
आदमी से तारीफ सुनने के लिये?

अनगिनत घटनायें
घटती हैं अपने से
प्रकृति में हर पल।

प्रकृति रचती है
सब कुछ
स्वयं के आनंद के लिये
क्योंकि रचना
उसका
मूल स्वभाव है।

मानव भी
कहना मान सकता है
अपनी प्राकृतिक अंतरदृष्टि का
अपनी मूलभूत चेतना का
और आनंद से जी सकता है।



…[राकेश]

11 टिप्पणियाँ to “परवाह नहीं ग़ालिब”

  1. राकेश जी,
    यदि आप सिने मंथन हैं तो आपकी रचनात्मक उर्जा का नया आयाम मैने देखा है.अन्यथा भी ग़ालिब साब और साहिर साब के सूरज से उजली गुनगुनाती धूप ढूढने की सुंदर कोशिश है यह रचना. सिम्बोलिज्म के ज़रिये सफलता पूर्वक अपनी बात सामने रखने की सार्थक कोशिश की गयी और अच्छी कोशिश है.

  2. आप की रचना 17 सितम्बर, शुक्रवार के चर्चा मंच के लिए ली जा रही है, कृप्या नीचे दिए लिंक पर आ कर अपनी टिप्पणियाँ और सुझाव देकर हमें अनुगृहीत करें.
    http://charchamanch.blogspot.com

    आभार

    अनामिका

  3. मोहतरमा अनामिका साहिबा,बहुत शुक्रिया ;यूँ हुआ जैसे किसी ने बहकते मुसाफिर को साया दिखाया एक विचार जन्म रहा है
    जो टूटा सा आया नज़र कर दिया है .बहुत शुक्रिया

  4. माफ़ कीजे अनामिका जी ऊपर कुछ शेरो आ की मात्रा रह गयी है कुछ मतलब निकले तो पिलीज दुरस्त करके पढ़ें

  5. सच परवाह नही है……………जहां आगे भी और हैं।
    बहुत ही सुन्दर भाव उकेरती है रचना।

  6. आलम साहब,

    शुक्रिया।

    आभारी हूँ कि आपको प्रयास पसंद आया

  7. अनामिका जी,
    बहुत बहुत धन्यवाद

  8. वंदना जी
    धन्यवाद एवम आभार

  9. क्योंकि रचना
    उसका
    मूल स्वभाव है।….

    बेहतर रचना….

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out /  बदले )

Google photo

You are commenting using your Google account. Log Out /  बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out /  बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out /  बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: