Archive for अगस्त 21st, 2010

अगस्त 21, 2010

सांस ही गति है … कविता (कृष्ण बिहारी)

जब तक है सांस
चलेगा आदमी
रुकेगा नहीं।

सुबह से शाम
शाम से रात
और फिर रात से सुबह तक
बढ़ेगा आदमी
बँधेगा नहीं।

एक धड़कन लिये
सांस को साथी बनाये
ऊँचाइयों की मेहराबों पर
चढेगा आदमी
थमेगा नहीं।

उसके लिये कहीं
न कोई अति है
न कोई समझौता
न तो सहमति है
वह तो जीता है –
एक-एक पल में
उसके लिये तो
सांस ही गति है।

{कृष्ण बिहारी}

%d bloggers like this: