Archive for जून 11th, 2010

जून 11, 2010

हिन्दी सिनेमा के अभिनेता : क्विज

[1] नायक के रुप में अपनी पहली ही फिल्म में इन्हे उत्कृष्ट अभिनय के लिये
राष्ट्रीय पुरस्कार दिया गया परन्तु इन्होने सत्तर के दशक के एक सुपर स्टार
की एक फिल्म में दो मिनट से भी कम समय का एक शराबी का रोल भी
किया था, बाद में ये भी सुपर स्टार रहे। ये कौन हैं? चाहें तो उपरोक्त्त
दोनों फिल्मों के नाम भी याद कर लें।

[2] इन्होने अधिकतर हास्य उत्पन्न करने वाले रोल्स ही किये परन्तु निजी जीवन
में ये हॉरर फिल्मों के दीवाने थे। इन्होने फिल्में बनायी भीं और निर्देशित भी
कीं, इन्होने एकाधिक शादियाँ कीं और कुछ फिल्मों में इन्होने अपनी पत्नी के
साथ भी काम किया। इन्होने एक ऐसी फिल्म में काम किया था जिसमें फिल्म
का नायक इन्हे जिस नाम से पुकारता था वह नाम बाद में इनका एक
निकनेम बन गया। बाद में एक भारतीय विश्व सुंदरी को लेकर इस नाम
के शीर्षक वाली एक फिल्म बनी।

[3] इन्होने लगभग पाँच साल की अवधि के अंदर ही एक ही अभिनेत्री के पति,
प्रेमी, पिता और ससुर का रोल अलग अलग फिल्मों में किया।

[4] इन अभिनेता ने अपनी पहली फिल्म में कुछ मिनटों की अवधि वाली भूमिका
निभाई। इस फिल्म की अभिनेत्री को अभिनय तो नहीं परन्तु एक दूसरे ही
क्षेत्र में किये कार्य के कारण अंतर्राष्ट्रीय ख्याति का पुरस्कार मिला और और
अब ये और अभिनेता दोनों ही अंतर्राष्ट्रीय ख्याति प्राप्त शख्सियत हैं।

[5] इन अभिनेता को एक अंतर्राष्ट्रीय फिल्म में अंतर्राष्ट्रीय ख्याति वाले व्यक्ति की
भूमिका, ऑडिशन देने के बावजूद निभाने को नहीं मिली पर ड्रामा और फिल्म
स्कूल में ट्रेनिंग के समय से ही वे दिल्ली के रहने वाले एक प्रसिद्ध
ऐतिहासिक व्यक्ति का रोल करना चाहते थे और उन्हे वह रोल मिल ही गया
हालाँकि वह रोल एक प्रसिद्ध टीवी सीरियल में निभाने को मिला। बाद में एक
फिल्म में उन्हे वह रोल भी करने को मिल गया जो उन्हे अंतर्राष्ट्रीय फिल्म में
नहीं मिल पाया था।

[6] इन्होने और देव आनंद की एक फिल्म से शुरुआत करने वाले एक
अभिनेता ने एक ही शीर्षक और विषय वाली दो फिल्मों में एक जैसा चरित्र
निभाया। इन्होने सिर्फ एक ही फिल्म का निर्देशन किया और उस फिल्म को
अमिताभ बच्चन और हेमा मालिनी अभिनीत एक हिट फिल्म के लिये एक
प्रेरणा स्त्रोत माना जा सकता है।

[7] ये अकेले ऐसे भारतीय अभिनेता रहे जिन्हे अंतर्राष्ट्रीय स्तर का एक पुरस्कार
एक रोचक श्रेणी में दिया गया। वैसे इन्होने एक बार ऐसा काम भी किया जो
दिवंगत अमजद खान द्वारा किये गये एक प्रसिद्ध काम से सम्बंध रखता था।

[8] इनमें और हॉलीवुड के एक एक्शन फिल्म स्टार, जिनकी लिखी एक फिल्म
का ऑस्कर में नामांकन हुआ था, में एक समानता है। इनके माता पिता,
मामा और जीजा भी फिल्मों से सम्बंधित रहे हैं।

[9] इन अभिनेता के फिल्मी जीवन में और हॉलीवुड के स्टार्स मार्लन ब्रांडो,
डस्टिन हॉफमैन के फिल्मी जीवन में कुछ एक जैसा है।

[10] इन्होने भारत के एक जाने माने अभिनेता के साथ सिर्फ दो ही फिल्मों में
काम किया। पहली फिल्म में वे प्रसिद्ध अभिनेता के भाई बने और दूसरी में
दोस्त और दुश्मन दोनों बने। इन्होने मुंशी प्रेमचंद की कहानी पर बनी एक
फिल्म में भी काम किया।

[11] सालों एक मशहूर अभिनेता रहने के बाद इन्होने अपने द्वारा निर्देशित पहली
फिल्म में भारत की एक दुश्मन देश के साथ लड़ाई को पृष्ठभूमि में रखा और
उसमें नायक की भूमिका भी निभाई। एक निर्माता और निर्देशक के रुप में ये
समसामायिक विषयों पर फिल्में बनाने के लिये प्रसिद्ध रहे। अपने द्वारा
निर्मित दो फिल्मों में इन्होने गेरुये वस्त्र धारण किये।

जून 11, 2010

ये सज्जन जरुर ही राम की वानर सेना में रहे होंगे

इन सज्जन के करतब देखिये। ये गुरुत्वाकर्षण को धता बता रहे हैं। मानव होने की सत्यता इनके
सामने कोई बाधा प्रस्तुत नहीं करती। ये तो एक वानर से भी ज्यादा कुशलता से कहीं भी किसी भी ऊँची जगह पर चढ़ जाते हैं बिना किसी रस्सी के सहारे के या किसी और प्रकार की सुरक्षा के, कितनी भी ऊँचाई से लटक जाते हैं, एक हाथ के बल पर या सिर्फ पैरों के बल पर।

इनकी गजब की कला और क्षमता को देख कर तो यही कहा जा सकता है कि

वाह भाई वाह!

बहुत खूब!

वीडियो का आनंद लें और सराहें एक मानव की असीमित और असाधारण कला को।

टैग:
%d bloggers like this: