प्रकृति के रंग में भंग डालता आत्महंता मनुष्य

सब नाटकों से बड़ा
बहुत बड़ा
एक नाटक जीवन में रचा जाता रहता है हर पल
जहाँ कुछ तो जाना पहचाना होता रहता है
और कुछ एकदम अनज़ाना घटता रहता है

इस नाटक का निर्देशन प्रकृति करती है
प्रकृति के इस नाटक के पात्र हमेशा बदलाव की तलाश में लगे रहते हैं

आकाश के असीमित नीलेपन को
हमेशा धरती को घूरने का काम मिला हुआ है

और धरती तो इतनी रंगीली है कि
बरस भर में जाने कितने तो रंग बदल लेती है

धरती और आकाश के मध्य बहने वाली हवा की तो बात ही क्या ?
कभी तो सूरज से दोस्ती करके तपा देती है पूरा चमन
और कभी ठंडी ठंडी साँसे भरा करती है

चाँद को भी अच्छी भूमिका मिली है
समुद्र से मिलकर अच्छी जुगलबंदी करता है रात भर
और समुद्र के पानी को उछाल उछाल कर मज़े में ख़ुश होता रहता है
पर सूरज आया नहीं कि चाँद गायब हुआ अंधकार की चादर साथ लिए

पानी को ही कहाँ चैन है?
भाप बनकर उड़ उड़ पहुँचता रहता है आसमान में
पर शांति से वहाँ भी नहीं टिक पाता
और फिर से बरस पड़ता है वापिस धरती पर

पहले तो प्रकृति के सब पात्र अपने निर्धारित समय पर ही
प्रवेश करते थे समय के मंच पर
और संयमित अभिनय ही किया करते थे
पर कभी किसी समय हम दर्शक
इतने शक्तिशाली और उपद्रवी हो गये कि
ये सब कलाकार अपना पात्र ढंग से निभा पाने में बाधा महसूस करने लगे
और अब ये बड़े ही अनियमित हो गये हैं
कभी कम तो कभी ज्यादा मेहनत कर डालते हैं

प्रकृति के नाटक से
मनुष्य की सामन्जस्यता गायब होती जा रही है।
प्रकृति के गाये गीत अब उतने सुरीले नहीं रहे
प्रकृति के बनाये इंद्रधनुष धुंधले पड़ते जा रहे हैं
प्रकृति अब गुस्सा दिखाने लगी है
पर गलती तो सौ प्रतिशत
मूर्ख इंसान की ही है।

चल रही हैं
सज रही हैं
कुछ समय और महफिलें
अंत में मनुष्य को
आत्म हत्या करने से तो
स्वयं प्रकृति भी नहीं बचा सकती।

 

…[राकेश]

Advertisements

5 टिप्पणियाँ to “प्रकृति के रंग में भंग डालता आत्महंता मनुष्य”

  1. sundar varnan kiya apne ! kya khoob prakriti aur manav ke beech ke sambandh ko likha hai.dhanyavad

  2. शुभम जी,

    आपका धन्यवाद

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: