Archive for मई 15th, 2010

मई 15, 2010

प्रेम का फूलना

कली से फूल

प्रेम से और प्रेम

खुद से आते !

…[राकेश]

Advertisements
%d bloggers like this: