पास दूर

दूर होने की कसक
पुल बन जाती है अक्सर
दिलों को क़रीब लाने को|

पर अति निकटता के अहसासों की आँच
जाने क्यों
कभी कभी विलग कर देती है
दिलों को|

मानो संबंधों की ऊष्मा से
घबरा जाते हों मन|
…[राकेश]
Advertisements

2 टिप्पणियाँ to “पास दूर”

  1. धन्यवाद समीर जी

एक उत्तर दें

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / बदले )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / बदले )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / बदले )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / बदले )

Connecting to %s

%d bloggers like this: