मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना

मैं बाहर हूँ, कॉल करके आता हूँ तुम तब तक अपनी खरीदारी पूरी कर लो“। पत्नी से इतना कहकर नेता जी दुकान से बाहर मॉल के गलियारे में आ गये।

नेता जी राजनीति में धर्म के गरमागरम मिश्रण के घालमेल के समय की उपज थे और पिछ्ले दस बरह सालों में उन्होने अपनी राजनीतिक दुकानदारी अच्छी चमका ली थी। विधर्मियों पर हमला करने का कोई भी मौका वे नहीं चूकते थे, इस बात से तो उन्हे खास मतलब था ही नहीं कि उनकी राजनीति देश का भला कर रही है या बुरा, उन्हे तो अपना राजनैतिक वजूद कायम रखना था और अपनी राजनैतिक हैसियत बढ़ानी थी। वे दिल से भी भिन्न धर्मावलम्बियों से नफरत करते थे। दूसरे धर्म के सामान्य लोग उनका नाम सुनकर ही अन्दर ही अन्दर डरने लगते थे और उनके अन्दर नेताजी के प्रति नफरत पैदा होने लगती थी।

झक सफेद कपड़े पहने नेता जी मॉल में अपने सेल फोन पर किसी से बतियाने में व्यस्त थे। उनके चेहरे की खुशी बता रही थी कि दूसरी तरफ वाला उन्हे कुछ अच्छी खबर सुना रहा था। वे चलते चलते एस्केलेटर के पास आ गये और रेलिंग पर कोहनी टिका कर खड़े हो गये।

बहुत बढ़िया बात है। बाजा बजा दो अबकी बार इन ससुरों का। चलो इंतजाम में लगे रहो, कुछ भी दिक्कत हो मुझे तुरन्त सूचित करो। लगातार सम्पर्क बनाये रखना “, कहकर नेता जी ने फोन बंद करके जेब में रख लिया। अब वे अपनी दोनो कोहनियों को रेलिंग पर टिका कर नीचे देखने लगे।

सहसा उनकी दृष्टि एस्केलेटर पर पाँव रखते हुये एक छोटे से बालक पर पड़ी। बालक बेहद खूबसूरत था। बालक लड़खड़ा तो गया परन्तु किसी तरह एस्केलेटर पर चढ़ ही गया। बालक अपने आप में ही खुश था और एस्केलेटर पर चढ़ जाने की सफलता ने उसके चेहरे पर खुशी की मात्रा कई गुना बढ़ा दी थी।

उसकी निगाहें नेता जी से मिलीं और वह हँस पड़ा।

नेता जी को बच्चे पर बेहद प्यार आया। बच्चा ऊपर तक पहुँच गया था। सीढ़ी से फर्श पर पाँव रखते समय उसका संतुलन बिगड़ गया पर इससे पहले कि वह गिरता नेता जी ने उसे अपने हाथों में उठा लिया।
वे उसके गालों को चूमने से अपने को रोक नहीं पाये। पर जैसे ही वे ऐसा करके हटे उन्हे एक महिला एस्केलेटर से ऊपर आती दिखायी दी। वह बच्चे को पुकार रही थी। बच्चे ने उस महिला की तरफ हाथ बढ़ा दिये।

नेता जी और महिला ने एक दूसरे की ओर देखा।

नेता जी असहज हो गये थे यह देखकर कि महिला दूसरे धर्म की थी और अभी अभी अपने साथी से वे इसी धर्म के खिलाफ जनसभा करने की बात करके हटे थे।

महिला यह देखकर हैरान थी कि जो नेता दिन रात उसके धर्म को और उसे मानने वालों को कोसता रहता है, उसके बच्चे को अपनी गोद में लिये खड़ा है। वह खुद इन नेता जी से नफरत करती थी।

शायद अविश्वस्नीय लगे पर जब ये दो भिन्न मजहबों में पैदा हुये व्यक्ति असमंजस में फँसे हुये खड़े थे तभी एस्केलेटर से नीचे उतरते कुछ युवाओं में से किसी एक के सेल फोन पर बज उठी रिंग टोन लता मंगेशकर की आवाज में आस पास खड़े लोगों को सुना रही थी …”मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना

घटनाऐं तो बस घट जाती हैं। और वे लोगों को प्रभावित भी करती हैं यह और बात है कि कई बार परिवर्तन थोड़ा धीरे धीरे होता है।

क्या उस घटना का नेता जी और उस महिला पर कोई असर हुआ?

असर अच्छा ही पड़ा होगा वरना कैसे यह बात बाहर आती और कहानी बनती?

…[राकेश]

About these ads

4s टिप्पणियाँ to “मजहब नहीं सिखाता आपस में बैर रखना”

  1. असर अच्छा ही पड़ा होगा वरना कैसे यह बात बाहर आती और कहानी बनती

    -ऐसा ही मान कर चलते हैं.

  2. महिला यह देखकर हैरान थी कि जो नेता दिन रात उसके धर्म को और उसे मानने वालों को कोसता रहता है, उसके बच्चे को अपनी गोद में लिये खड़ा है। वह खुद इन नेता जी से नफरत करती थी।

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

Follow

Get every new post delivered to your Inbox.

Join 86 other followers

%d bloggers like this: